Assembly Banner 2021

Greater Noida: 84 सोसाइटी में बिजली घोटाला! शिकायत पर NPCL ने बिल्‍डर्स को थमाया नोटिस

ग्रेटर नोएडा और ग्रेटर नोएडा वेस्ट की 84 सोसाइटियों में रहने वालों ने बिल्डर के खिलाफ यह शिकायत दी है. (Demo Pic)

ग्रेटर नोएडा और ग्रेटर नोएडा वेस्ट की 84 सोसाइटियों में रहने वालों ने बिल्डर के खिलाफ यह शिकायत दी है. (Demo Pic)

ग्रेटर नोएडा (Greater Noida) की 84 हाउसिंग सोसाइटी में बिजली (Electricity) कनेक्शन में बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है. इसका खुलासा खुद सोसाइटी में रहने वाले लोगों ने ही किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 26, 2021, 10:24 AM IST
  • Share this:
नोएडा. ग्रेटर नोएडा (Greater Noida) और ग्रेटर नोएडा वेस्ट की 84 सोसाइटियों में रहने वाले लोगों की ओर से बिल्डरों की शिकायत की गई है. यह शिकायत नोएडा पावर कंपनी लिमिटेड (NPCL) को भेजी गई है. बिल्डरों पर आरोप है कि उन्होंने सोसाइटी के लिए जारी कराए गए पावर लोड में फर्जीवाड़ा किया है. कम लोड स्वीकृत कराने के बाद सोसाइटी में ज़्यादा लोगों से लोड का फिक्स चार्ज वसूला जा रहा है. इस शिकायत के संबंध में एनपीसीएल की ओर से सभी 84 बिल्डर को नोटिस भेजा गया है. 15 दिन में नोटिस (Notice) का जवाब न देने पर कार्रवाई करने की बात कही गई है.

गौरतलब रहे एक किलोवाट से लेकर 5 किलोवाट तक का बिजली कनेक्शन लेने पर सभी का फिक्स चार्ज अलग होता है. जैसे एनपीसीएल 1 किलोवाट का फिक्स चार्ज 90 रुपये वसूलती है. अब नोटिस के बाद सभी बिल्डर संबंधित रिकॉर्ड के साथ पावर कंपनी के सामने पेश होंगे और अगर शिकायत सही पाई गई तो 84 सोसाइटी में बिल्डरों को लोड बढ़वाना होगा. साथ ही पेनल्टी भी जमा करनी होगी.

Youtube Video




बिल्‍डर्स पर लगे हैं ये आरोप
सोसाइटी में रहने वाले लोगों ने एनपीसीएल को जो शिकायत दी है, उसके मुताबिक उनकी सोसाइटी में फिक्स चार्ज ज़्यादा वसूला जा रहा है, जबकि लोड कम स्वीकृत कराया गया है. जैसे बिल्डर ने एनपीसीएल से किसी एक सोसाइटी के लिए 500 किलोवाट का लोड स्वीकृत कराया है तो नियमानुसार अब बिल्डर को सोसाइटी में इसी 500 किलोवाट का फिक्स चार्ज वसूलना चाहिए. लेकिन, सोसाइटी वालों का आरोप है कि बिल्डर ने 700-800 किलोवाट तक लोड बांट दिया है. उसी के हिसाब से फिक्स चार्ज भी वसूला जा रहा है.

खुशखबरी: यूपी में हो रहा सबसे ज्यादा मिल्क प्रोडक्शन, जानें आपका राज्य है किस नंबर पर?

क्या कहना है एनपीसीएल का
ग्रेटर नोएडा में बिजली वितरित करने वाली कंपनी एनपीसीएल का कहना है कि उसने बिल्डरों का पक्ष जानने के लिए उन्हें बुलाया है. बिल्डर सभी साक्ष्य के साथ पेश होंगे. अगर बिल्डर आरोपों को झूठा साबित नहीं कर पाए तो अतिरिक्त लोड का फिक्स चार्ज बिल्डरों से वसूला जाएगा. अगर बिल्डर फिक्स चार्ज नहीं देते हैं तो सभी 84 सोसाइटी के बिल में यह फिक्स चार्ज जोड़कर भेज दिया जाएगा. कंपनी का कहना है कि लगातार मिल रही शिकायतों के बाद यह कदम उठाया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज