सरकार आमंत्रित करती है तो किसान वार्ता के लिए तैयार, मांग में कोई बदलाव नहीं: राकेश टिकैत

 गृहमंत्री अनिल विज (Anil Vij) द्वारा केंद्रीय कृषि मंत्री से वार्ता बहाली के लिये की गयी अपील के बाद आया है. (फाइल फोटो)

गृहमंत्री अनिल विज (Anil Vij) द्वारा केंद्रीय कृषि मंत्री से वार्ता बहाली के लिये की गयी अपील के बाद आया है. (फाइल फोटो)

बीकेयू मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र मलिक (Dharmendra Malik) की ओर से जारी बयान में टिकैत ने कहा कि सरकार के साथ वार्ता वहीं से बहाल होगी जहां 22 जनवरी को खत्म हुई थी.

  • Share this:
गाजियाबाद. बीकेयू के नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने रविवार को कहा कि यदि सरकार आमंत्रित करती है तो नये कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान वार्ता के लिए तैयार हैं. बातचीत वहीं से शुरू होगी जहां 22 जनवरी को खत्म हुई थी और मांगों में कोई बदलाव नहीं है. उन्होंने कहा कि वार्ता बहाली के लिए सरकार को प्रदर्शनकारियों का प्रतिनिधित्व करने वाले संयुक्त किसान मोर्चा को वार्ता का निमंत्रण देना चाहिए. बीकेयू मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र मलिक (Dharmendra Malik) की ओर से जारी बयान में टिकैत ने कहा, ‘‘ सरकार के साथ वार्ता वहीं से बहाल होगी जहां 22 जनवरी को खत्म हुई थी. मांग भी वही हैं कि तीनों काले कानूनों को निरस्त किया जाए, न्यूनतम समर्थन मूल्य सुनिश्चित करने के लिए नया कानून बनाया जाए. ’’ टिकैत का बयान कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज (Anil Vij) द्वारा केंद्रीय कृषि मंत्री से वार्ता बहाली के लिये की गयी अपील के बाद आया है.

वहीं, पिछले हफ्ते खबर सामने आई थी कि केंद्र सरकार के कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर दिल्ली के तीन तरफ बॉर्डर पर बैठे किसान अब एक बार फिर दिल्ली कूच करने की तैयारी में हैं. किसान महासभा के रामपाल जाट ने गत गुरुवार को नई दिल्ली डीसीपी ऑफिस में दिल्ली के जंतर मंतर पर कृषि कानूनों की वापसी की मांग को लेकर प्रस्तावित अनिश्चितकालीन धरने की इजाजत लेने के लिए आवेदन किया है. रामपाल जाट ने कहा था कि हमारा उद्देश्य किसी से बैर लेना नहीं, बल्कि किसानों की भलाई के लिए इन कानूनों में बड़े संशोधन या इनकी वापसी की मांग के लिए सकारात्मक लड़ाई लड़ना है.

हमें इजाजत मिल जाएगी

रामपाल जाट ने कहा था कि इसके लिए हमने 13 अप्रैल से दिल्ली के जंतर मंतर पर धरने क्रमिक अनशन उपवास को लेकर नई दिल्ली डीसीपी ऑफिस में अनुमति के लिए आवेदन किया है. इस संबंध में दिल्ली पुलिस की ओर से चाही गई सभी औपचारिकताएं पूरी कर दी गई है. हमें पूरी उम्मीद है कि इस धरने के लिए हमें इजाजत मिल जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज