जेपी इन्फ्राटेक दिवालिया घोषित, नौ महीने में नहीं सुधरे हालात तो जब्त होगी संपत्ति

नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) ने जेपी इन्फ्राटेक को दिवालिया घोषित कर दिया है. इसके साथ ही एनसीएलटी ने जेपी बिल्डर अपने हालात बदलने बिल्डर को 9 महीनों का समय दिया है. इसके बावजूद अगर अगले 9 महीनों में बिल्डर के हालात नहीं सुधरे तो जेपी बिल्डर की संपत्तियां जब्त कर ली जाएंगी.

ETV UP/Uttarakhand
Updated: August 11, 2017, 5:43 PM IST
जेपी इन्फ्राटेक दिवालिया घोषित, नौ महीने में नहीं सुधरे हालात तो जब्त होगी संपत्ति
Photo : News18
ETV UP/Uttarakhand
Updated: August 11, 2017, 5:43 PM IST
नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) ने जेपी इन्फ्राटेक को दिवालिया घोषित कर दिया है. इसके साथ ही एनसीएलटी ने जेपी बिल्डर अपने हालात बदलने बिल्डर को 9 महीनों का समय दिया है. इसके बावजूद अगर अगले 9 महीनों में बिल्डर के हालात नहीं सुधरे तो जेपी बिल्डर की संपत्तियां जब्त कर ली जाएंगी.

जेपी बिल्डर की दिवालिया घोषित होने की खबर आते ही जेपी बिल्डर के बायर्स दुखी और परेशान हो गए हैं. इसके चलते आज वह अपना जवाब मांगने के लिए बिल्डर के सेक्टर 128 स्थित दफ्तर पहुंचे. वहां बायर्स ने बताया कि उन्होंने लगभग 6 से सात साल पहले अपना फ्लैट बिल्डर के पास बुक कराया था और बिल्डर ने उनसे लगभग 95 प्रतिशत पैसा ले लिया है और दो से तीन साल में फ्लैट देना का वादा किया था. लेकिन अब 2017 भी खत्म होने को आया है, लेकिन उन्हें अपने फ्लैट अभी तक नहीं मिले.



वहीं अब ऐसे में बिल्डर को दिवालिया घोषित कर दिया गया है इससे वह परेशान हैं. फ्लैट बायर्स ने कहा कि अब हमें अपना घर कौन देगा, क्योंकि बिल्डर ने बैंकों की मिलीभगत से अपने आप को दिवालिया घोषित करवा लिया है.

वहीं कुछ फ्लैट बायर्स ने कहा कि एक तरफ जहां मोदी जी कहते हैं कि 2021 तक सभी का अपना घर होगा, लेकिन यहां तो हमारे ही घर छिनते नजर आ रहे हैं, क्योंकि बिल्डर के हालात तो नौ महीनों में भी नहीं सुधरने वाले ऐसे में उसकी संपत्ति जब्त हो गई तो हमारे फ्लैट भी जब्त हो जाएंगे. हमने लाखों-करोड़ों रुपए देकर यह फ्लैट खरीदे हैं ऐसे में अगर बिल्डर की संपत्ति जब्त हो गई तो उनका पैसा उन्हें कौन देगा.

आपको बता दें कि जेपी बिल्डर के नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना प्राधिकरण में कुल 32 हजार फ्लैट हैं और बिल्डर पर बैंकों का कुल 8 हजार 365 करोड़ रुपए बकाया हैं.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...