Assembly Banner 2021

कोरोना का कहर: नोएडा में 17 अप्रैल तक नाइट कर्फ्यू का ऐलान, गाजियाबाद में भी बढ़ी सख्ती

नोएडा में लगा नाइट कर्फ्यू.  (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

नोएडा में लगा नाइट कर्फ्यू. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

COVID-19 in : दिल्ली के बाद अब नोएडा और गाजियाबाद में भी नाइट कर्फ्यू का ऐलान कर दिया गया है. इसके साथ ही शैक्षणिक संस्‍थान भी बंद रहेंगे.

  • Share this:
नोएडा. उत्तर प्रदेश में कोरोना (COVID-19) के बढ़ते प्रकोप के कारण गाजियाबाद (Ghaziabad) के बाद अब नोएडा में भी नाइट कर्फ्यू का ऐलान कर दिया गया है. जिला प्रशासन ने 17 अप्रैल तक रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक नाइट कर्फ्यू का ऐलान किया है. इस दौरान सभी स्कूल, कॉलेज और इंस्टीट्यूट बंद रहेंगे. प्रशासन ने अपने निर्देश में साफ कहा है कि इस दौरान जरूरी सेवाएं बाधित नहीं होंगी. इस दौरान जो परीक्षाएं पड़ रही है वो प्रोटोकॉल के मुताबिक ली जाएंगी. वहीं लोगों को कोरोना गाइडलाइन और मास्क का इस्तेमाल करने की हिदायत दी गई है.

यूपी में भी पिछले कई दिनों से कोरोना वायरस संक्रमण के मामले छह हजार के करीब आ रहे हैं. इसी बीच राज्‍य की योगी सरकार ने लखनऊ, कानपुर, वाराणसी और प्रयागराज में भी नाइट कर्फ्यू लगाने का आदेश जारी कर दिया गया है. यूपी में रात दस बजे से सुबह आठ बजे तक नाइट कर्फ्यू रहेगा. नाइट कर्फ्यू का आदेश नगर निगम क्षेत्र में ही लागू होगा. फल, सब्जी, दूध, एलपीजी, पेट्रोल-डीजल और दवा की सप्लाई जारी रहेगी. इसके अलावा नाइट शिफ्ट के सरकारी, अर्ध सरकारी, कार्मिक व आवश्यक वस्तुओं व सेवाओं के निजी क्षेत्र के कर्मचारियों को आने जाने में छूट मिलेगी. रेलवे स्टेशन, बस अड्डे व एयरपोर्ट पर आने-जाने वाले लोग अपना टिकट दिखाकर आ जा सकेंगे. सभी प्रकार की मालवाहक गाड़ियों के आने जाने पर कोई प्रतिबंध नहीं रहेगा. नर्सिंग, पैरा मेडिकल संस्थान और चिकित्सीय सेवा संस्थान खुले रहेंगे.

Youtube Video




नोएडा की 28 सोसायटी कंटेनमेंट जोन घोषित
राजधानी दिल्ली में नाइट कर्फ्यू लगने का असर पूरे एनसीआर में दिखने लगा है. नोएडा में खासकर इसका असर देखा जा सकता है. नोएडा वालों की इस नाइट कर्फ्यू ने परेशानी बढ़ा दी है. नोएडा से हजारों लोग रोज दिल्ली में नौकरी करने और बिजनेस के लिए आते हैं. ऐसे में उनके देर रात वापस जाने के लिए य़ा फिर दिल्ली आने के लिए ई-पास की जरूरत होगी. वहीं ई-पास को लेकर स्थिति अभी साफ नहीं है. ऐसे में लोगों के मन में इस बात को लेकर एक तरह की आशंका है.

ये भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ में खतरनाक हुई कोरोना की रफ्तार, पहली बार मिले 10 हजार से ज्यादा मरीज, 53 की मौत 

ऐसे में देखना यह है कि जिला प्रशासन ई-पास को लेकर क्या कदम उठाता है. क्या नोएडा से पास जारी किए जाएंगे या उन्हें दिल्ली प्रशासन की ओर से जारी पास पर यात्रा करनी होगी. इसको लेकर लोगों के मन में एक तरह की आशंका बनी हुई है. इसके साथ ही लोग परेशान हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज