Assembly Banner 2021

Noida News: ग्रेटर नोएडा-गाजियाबाद की हवा प्रदूषित, जानें फरीदाबाद और गुरुग्राम का AQI

शुक्रवार को गाजियाबाद में एक्यूआई 276, ग्रेटर नोएडा में 301, नोएडा में 250, फरीदाबाद में 268 और गुरुग्राम में 273 रहा था. (संकेतिक फोटो)

शुक्रवार को गाजियाबाद में एक्यूआई 276, ग्रेटर नोएडा में 301, नोएडा में 250, फरीदाबाद में 268 और गुरुग्राम में 273 रहा था. (संकेतिक फोटो)

केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) के प्रदूषण सूचकांक ऐप ‘समीर’ के अनुसार, शनिवार शाम चार बजे तक 24 घंटे में औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) गाजियाबाद में 213, ग्रेटर नोएडा में 204, नोएडा में 182, फरीदाबाद में 169 और गुरुग्राम में 177 रहा.

  • Share this:
नोएडा. राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के ग्रेटर नोएडा और गाजियाबाद में शनिवार को वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) ‘‘खराब’’ की श्रेणी में रही. नोएडा, फरीदाबाद और गुरुग्राम में यह स्तर ‘‘मध्यम’’ श्रेणी में दर्ज की गयी. केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) के प्रदूषण सूचकांक ऐप ‘समीर’ के अनुसार, शनिवार शाम चार बजे तक 24 घंटे में औसत AQI गाजियाबाद में 213, ग्रेटर नोएडा में 204, नोएडा में 182, फरीदाबाद में 169 और गुरुग्राम में 177 रहा.

सूचकांक के मुताबिक, शून्य से 50 के बीच एक्यूआई को ‘अच्छा’, 51 से 100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101 से 200 के बीच ‘मध्यम’, 201 से 300 के बीच ‘खराब’, 301 से 400 के बीच ‘बहुत खराब’ और 401 से 500 के बीच ‘गंभीर’ श्रेणी में माना जाता है. शुक्रवार को गाजियाबाद में एक्यूआई 276, ग्रेटर नोएडा में 301, नोएडा में 250, फरीदाबाद में 268 और गुरुग्राम में 273 रहा था.

वहीं, बीते साल 17 दिसंबर को खबर सामने आई थी कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में वायु प्रदूषण का स्तर बढ़ गया. ग्रेटर नोएडा सबसे ज्यादा प्रदूषित शहर रहा था. इसके बाद गाजियाबाद तथा नोएडा का स्थान रहा था. प्रदूषण सूचकांक ऐप ‘समीर’ के अनुसार बुधवार को ग्रेटर नोएडा में वायु प्रदूषण सूचकांक (एक्यूआई) 340, गाजियाबाद में 326 और नोएडा में यह सूचकांक 297 दर्ज किया गया था.



बुधवार को प्रदूषण का स्तर फिर से बढ़ गया था
ऐप के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के फरीदाबाद में एक्यूआई 235 और गुरुग्राम में यह 236 दर्ज किया गया था. वहीं, बुलंदशहर में एक्यूआई 324, बागपत में 235, हापुड़ में 111 दर्ज किया गया था. राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में चली तेज हवा की वजह से वायु प्रदूषण का स्तर काफी कम हुआ था, जिससे लोगों ने राहत की सांस ली थी. लेकिन बुधवार को प्रदूषण का स्तर फिर से बढ़ गया था. बता दें कि सर्दी के मौसम में दिल्ली- एनसीआर में ऐसे में प्रदूषण के स्तर बढ़ जाते हैं, जिससे लोगों का सांस लेना मुश्किल हो जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज