Noida News : कोरोना से मौत के बाद अस्पताल में महिला के गहने चोरी, बिल बढ़ाने का भी आरोप

कोरोना मृतक का शव. (File Photo)

चोरी के बाद सीनाज़ोरी की मिसाल पेश करते हुए मृतका के कान की बालियां मांगने वाले पति को अस्पताल ने चक्कर लगवाए. यही नहीं, पीड़ित का आरोप है कि मौत के बाद भी अस्पताल प्रबंधन बिल बढ़ाता रहा.

  • Share this:
    नोएडा. दुखद खबर है कि ग्रेटर नोएडा के एक अस्पताल में भर्ती एक महिला की जान कोरोना संक्रमण ने ले ली, लेकिन अफ़सोस की बात यह है कि मौत के बाद उसके कान से चार बालियां चुराए जाने की हरकत अस्पताल में हुई. अब चोरी और सीनाज़ोरी का आलम यह है कि बजाय ठोस कार्रवाई करने के, अस्पताल प्रबंधन मृतका के पति को बालियों के लिए चक्कर लगवा रहा है. हालांकि मामले में सूरजपुर कोतवाली पुलिस ने जांच शुरू कर दी है.

    पुलिस के मुताबिक उत्तर प्रदेश के ही बुलंदशहर के मूल निवासी और एक निजी कंपनी में नौकरी करने वाले लोकेंद्र ने बयान दिया कि जब पत्नी सीमा की मौत के बाद वह उसका शव लेने अस्पताल गया तो सीमा के कान की बालियां गायब थीं. इससे पहले हुआ ये था कि दादरी में रहने वाले दो बच्चों के पिता लोकेंद्र की पत्नी 35 वर्षीय सीमा कोरोना पॉज़िटिव पाई गई थीं.

    ये भी पढ़ें : दुर्लभ केस : दिल्ली में 2 मरीजोंं की छोटी आंत में ब्लैक फंगस, लक्षण और कारण नये दिखे!

    क्या है आखिर पूरा मामला?
    टेस्ट के बाद नोएडा स्थित एक निजी अस्पताल ने होम क्वारंटाइन की हिदायत दी. बीती 9 मई को सीमा की हालत बिगड़ी तो उसे लोकेंद्र ने अस्पताल में भर्ती करवा दिया, लेकिन अगले ही दिन सीमा की जान नहीं बच सकी. पुलिस रिपोर्ट के हवाले से खबरों के मुताबिक तुर्रा यह कि अस्पताल प्रबंधन ने सिक्योरिटी एजेंसी के सिर ठीकरा फोड़ा. लोकेंद्र की शिकायत पर पहले तो अस्पताल प्रबंधन ने मामले को रफा दफा करने की कोशिश की, फिर सिक्योरिटी एजेंसी की मदद से बालियां दिलवाने का वादा किया. इसके बाद लोकेंद्र ने कई बार अस्पताल में गुहार लगाई लेकिन उसे टरकाया ही गया.

    noida news, uttar pradesh news, corona in up, corona in noida, नोएडा न्यूज़, उत्तर प्रदेश समाचार, उत्तर प्रदेश में कोरोना, नोएडा में कोरोना
    न्यूज़18 क्रिएटिव


    अस्पताल पर बेजा वसूली का भी आरोप
    चोरी ही नहीं, बल्कि लोकेंद्र ने अस्पताल प्रबंधन पर बिल के नाम पर बेजा वसूली का भी आरोप लगाया. पुलिस के मुताबिक सीमा को भर्ती करवाए जाने के समय अस्पताल ने 50 हज़ार रुपए लोकेंद्र से जमा करवाए थे. लोकेंद्र का आरोप है कि सीमा की मौत हो जाने के बाद भी घंटों तक अस्पताल सिर्फ बिल बढ़ाने के लिए शव को रखे रहा और शव सौंपने से पहले 1.17 लाख रुपये का बिल अदा करने को कहा.

    ये भी पढ़ें : Corona Warriors : जयुपर में कोटपूतली के एक परिवार के आधा दर्जन सदस्य हैं कोरोना योद्धा

    क्या ऐसा एक ही मामला है?
    सीमा की मौत के बाद चोरी की बात सामने आने पर सोशल मीडिया पर लोगों ने प्रतिक्रियाएं देना शुरू कीं तो ऐसी और भी कहानियां सामने आईं. सोशल मीडिया पर एक यूज़र शोभना रावत ने भी लिखा कि ग्रेटर नोएडा के ही एक निजी अस्पताल में उनके पति की मौत के बाद न केवल उनकी अंगूठी चुरा ली गई बल्कि उनकी उंगली से मोबाइल को अनलॉक भी किया गया.

    ये भी पढ़ें : तूफान के बावजूद भागलपुर के 'खास आम' जर्दालू की पैदावार अच्छी, जल्द पहुंचेगा देश-विदेश

    इससे पहले भी कुछ इलाकों से मौत के बाद मरीज़ों के ज़ेवर या मोबाइल फोन चुरा लिये जाने की बातें सामने आ चुकी हैं. पीड़ितों का कहना है कि आम तौर पर सामान सौंपने से पहले ही अस्पताल द्वारा लौटाए गए सामान संबंधी पेपर पर हस्ताक्षर करवा लिये जाते हैं, जिसके चलते शिकायत करना भी मुश्किल हो जाता है.