• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • नोएडा: सिटी मजिस्ट्रेट मलेरिया के खतरों से है अंजान, मलेरिया ऑफिस ने किया नोटिस जारी

नोएडा: सिटी मजिस्ट्रेट मलेरिया के खतरों से है अंजान, मलेरिया ऑफिस ने किया नोटिस जारी

नोएडा: सिटी मजिस्ट्रेट मलेरिया के खतरों से है अंजान, मलेरिया ऑफिस ने किया नोटिस जारी

नोएडा: सिटी मजिस्ट्रेट मलेरिया के खतरों से है अंजान, मलेरिया ऑफिस ने किया नोटिस जारी

श्रुति राणा ने बताया कि 2020 में कोरोना के कारण स्थलीय निरीक्षण कम हो गए थे, 2019-20 में मानसून के दौरान चार लाख रुपए का जुर्माना अलग लग स्थानों से वसूला गया था.

  • Share this:

    नोएडा: बारिश का मौसम आ गया है, पिछले तीन दिनों से जिला गौतमबुद्ध नगर लगातार बारिश हो रही है. जहां बारिश से मौसम तो जरूर सुहाना हो गया है तो वहीं मच्छरजनित बीमारियों का खतरा भी अब मंडराने लगा है. ऐसे में जिला मलेरिया विभाग सक्रिय हो गया है, और नोएडा के विभिन्न क्षेत्रों में औचक निरीक्षण कर मलेरिया, डेंगू चिकनगुनिया इत्यादि बीमारियों को रोकने की कोशिश कर रहा है.जिसको लेकर नोएडा के सिटी मजिस्ट्रेट का ऑफिस ही नाकामियों से घिरा मिल गया. जिला मलेरिया विभाग ने सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय को नोटिस चस्पा कर तीन दिन का समय दिया है. इस बीच सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय के पूरे परिसर में जमा पानी को साफ करना होगा अन्यथा जुर्माना भी लगाया जाएगा.


    मलेरिया जनित मच्छर के लार्वा भी मिले
    सहायक मलेरिया अधिकारी (एडीएमओ)श्रुति राणा ने बताया कि \”शुक्रवार को जिले में अलग अलग जगहों पर चेकिंग अभियान चलाया गया था, जिसमें सेक्टर 19 स्थित सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय भी था, वहां हमने पाया कि जगह जगह पानी भरे हुए है, कहीं कहीं मच्छर के लार्वा भी पाया गया है, जिसे मौके पर नष्ट किया गया है. सिटी मजिस्ट्रेट उमा शंकर को नोटिस जारी किया गया है साथ ही तीन दिन का समय भी दिया गया है,इस बीच अगर सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय परिसर की सफाई नहीं होती तो जुर्माना भी लगाया जाएगा.\”राणा ने जानकारी दी कि इसके अलावा सेक्टर 2 स्थित एस्कॉम इंजीनियरिंग, फाइट इंजीनियरिंग, पीएम इंजीनियरिंग को भी नोटिस जारी किया गया है.

    कोरोना की वजह से औचक निरीक्षण हुआ था कम, लेकिन अब होगी कार्रवाई 
    श्रुति राणा ने बताया कि 2020 में कोरोना के कारण स्थलीय निरीक्षण कम हो गए थे, 2019-20 में मानसून के दौरान चार लाख रुपए का जुर्माना अलग लग स्थानों से वसूला गया था. इस वर्ष फिर से कार्यवाई की जा रही है ताकि मलेरिया, चिकनगुनिया या अन्य मच्छर जनित बीमारी को रोका जा सके.\”रुके हुए पानी में पलता है मलेरिया का मच्छर\”एडीएमओ श्रुति राणा ने बताया कि \”मलेरिया, डेंगू जैसी बीमारियां मच्छरों से फैलती है और ये मच्छर अपना प्रजनन रुके हुए पानी में करते है. ये पानी किसी भी रूप में हो सकती है जैसे कूलर, कप, बाल्टी, गिलास इत्यादि. इनमें जमा होकर मच्छर इंसानों को काटते है और बीमार करते है, इसीलिए जरूरी है कि रुके हुए पानी को साफ किया जाए.\”

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज