• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • पंप ऑपरेटर ने दिखाई बहादुरी बचाई दो लोगोंं की जान

पंप ऑपरेटर ने दिखाई बहादुरी बचाई दो लोगोंं की जान

पंप ऑपरेटर ने दिखाई बहादुरी बचाई दो लोगो की जान

पंप ऑपरेटर ने दिखाई बहादुरी बचाई दो लोगो की जान

बलराम बताते है कि जब मैंने दो बच्चो को गिरते देखा तो बांस से उनको रोकने का प्रयास किया और मैंने दूसरे लोगो को मदद के लिए पुकारा, जिसे सुनकर एक ई -रिक्शा चालक बचाव के लिए आया बदकिस्मती से मिथेन गैस का रिसाव इतना तेज था वह भी उसी गड्ढे में गिर गया.

  • Share this:
    नोएडा: नोएडा में 55 वर्ष के एक व्यक्ति की बहादुरी के आगे मौत भी खाली हाथ लौट गई. बीते दिन रविवार की सुबह सेक्टर 5 (हौराला गांव) स्थित पार्क में क्रिकेट खेल रहे थे. उसी दौरान गेंद बगल के सीवर ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) में चली गई. उस गेंद को वापस लेने के लिए पहले एक युवक एसटीपी में घुसा, प्लांट से आ रही बदबू से वह बेहोश होकर एसटीपी में ही गिर पड़ा, उसे बचाने गए दूसरा व तीसरा युवक भी उसमे गिर पड़ा. जिसे वहां मौजूद नोएडा प्राधिकरण का पंप ऑपरेटर बलराम सिंह ने निकाला जिस से दो लोगों की जान बच गई वही दो लोगों की मृत्यु हो गई.

    'मना करने के बाद भी नहीं माने युवक'
    इटावा निवासी बलराम सिंह बताते है किएसटीपी के बगल में पार्क है रविवार की सुबह 6:30 में वहां बच्चे क्रिकेट खेल रहे थे. खेल के दौरान किसी बच्चे ने गेंद को जोर से मारा जिससे गेंद उछल कर एसटीपी प्लांट में गिर पड़ी. तभी दो तीन बच्चे गेंद लेने के लिए एसटीपी प्लांट में चले गए.मैने जब बच्चो को नीचे उतरते देखा तो उन्हें रोकने का प्रयास किया लेकिन वह नहीं रुके, मेरे नजदीक आने तक वो अंदर जा चुके थे.उसी दौरान मिथेन गैस के कारण पहला युवक बेहोश होकर एसटीपी प्लांट में गिर पड़ा, उसे बचाने के लिए दूसरा युवक भी नीचे गया जिससे वह भी उसी प्लांट में गिर गया.इस तरह तीन लोग इस कचरे से भरे प्लांट में गिर पड़े. बलराम बताते है कि जब मैंने दो बच्चो को गिरते देखा तो बांस से उनको रोकने का प्रयास किया और मैंने दूसरे लोगो को मदद के लिए पुकारा, जिसे सुनकर एक ई -रिक्शा चालक बचाव के लिए आया बदकिस्मती से मिथेन गैस का रिसाव इतना तेज था वह भी उसी गड्ढे में गिर गया. जिसे मैंने निकाला, तब तक पुलिस और फायर ब्रिगेड के लोग आ चुके थे, उनकी मदद से चारों को प्लांट से निकालकर हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया.

    मिथेन गैस के रिसाव से हुई मृत्यु
    एडिशनल कमिश्नर ऑफ पुलिस (एडीसीपी) रणविजय सिंह ने बताया कि घटना सेक्टर 20 थाना क्षेत्र की है जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई थी. सेक्टर 5 और 6 दोनो जगहों से कचरे, सीवर और बारिश का पानी सेक्टर 6 स्थित एसटीपी में आता है. प्रतिदिन सुबह पंप चलाया जाता है, ताकि वो कचरा सेक्टर 14 ए के नाले में चला जाए, घटना उसी दौरान हुई.बच्चे जब गेंद लेने नीचे उतरे उस दौरान पंप चालू था जिस कारण मिथेन गैस का बहुत तेज रिसाव हो रहा था. रिसाव इतना तेज था कि नीचे गिरे बॉडी को गला चुका था, बॉडी में सिर्फ हड्डियां ही दिख रही थी. सिंह ने बताया कि संदीप (22 वर्ष) , सुरेश (23 वर्ष),  और विशाल (27 वर्ष)  गेंद लेने नीचे उतरे थे और मोहम्मद हैदर अंसारी (27 वर्ष) ई रिक्शा चालक थे जो बलराम सिंह के पुकारने पर आए थे. संदीप और विशाल सबसे पहले बेहोश होकर गिरे थे, उन्हें जिला अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने दोनो को मृत घोषित कर दिया. वहीं सुरेश और हैदर को सफदरजंग अस्पताल दिल्ली में रेफर कर दिया गया, जहां उनका इलाज चल रहा है\"


    दूसरो को बचाने के लिए लगा दी खुद की जान की बाजी
    बलराम सिंह के अनुसार, हैदर तो मदद करने आया था, वो तो अपने कमाई के लिए ई - रिक्शा चलाने के लिए सुबह जल्दी जा रहा था, लेकिन उसने जब मेरी आवाज सुनी वह अंदर अन्य चार लोगों को बचाने आया. और गश खा कर वह भी गिर गया.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज