• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • RTI Activist: मिलिए विक्रांत से जिन्होंने वातावरण को बचाने की मुहिम के नाम कर दी अपनी जिंदगी

RTI Activist: मिलिए विक्रांत से जिन्होंने वातावरण को बचाने की मुहिम के नाम कर दी अपनी जिंदगी

एनसीआर

एनसीआर में आरटीआई से पर्यवरण को बचाने वाले विक्रांत

विक्रांत तोगड़ (vikrant tongad). विक्रांत के प्रयासों से एनजीटी (नेशनल ग्रीन ट्रिब्यून) को कई अहम फैसले देने को मजबूर होना पड़ा लेकिन अभी भी उनकी लड़ाई जारी है.

  • Share this:

    नोएडा: किसी ने लिखा है मुर्ख मानव अब तक ना समझ पाया है कि हमने प्रकृति को नहीं, प्रकृति ने हमे बनाया है? वातावरण (Environment) रक्षा की बात तो सब करते हैं लेकिन बहुत कम लोग होते हैं जो प्राकृतिक और अपने आबो हवा को बचाने की मुहिम के नाम अपनी जिंदगी कर दी है.उन्ही में से एक है जिला गौतमबुद्ध नगर (Noida- greater Noida) के रहने वाले विक्रांत टोंगड़ (vikrant tongad). विक्रांत के प्रयासों से एनजीटी (नेशनल ग्रीन ट्रिब्यून) को कई अहम फैसले देने को मजबूर होना पड़ा लेकिन अभी भी उनकी लड़ाई जारी है.
    आरटीआई सबसे बड़ा हथियार
    विक्रांत बताते हैं कि देश में बहुत कम लोग है जो एनवायरमेंट के लिए काम करते हैं, इसलिए ज्यादा सरकारी योजना पब्लिक प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध नहीं है. ऐसे में आरटीआई बहुत कारगर साबित होता है. इस से पता चलता है कि वातावरण को सुरक्षित करने के लिए कौन-कौन सी योजनाएं बनाई गई है और कौन सी लागू हुई हैं. मैंने इसे ही अपना हथियार बनाया है. वो कहते हैं कि मेरी आरटीआई के बाद काफी बदलाव आया है. एनजीटी काफी ऐसे अहम फैसले दिए हैं जिस से भूजल दोहन पर रोक लगाई जा सके. विक्रांत बताते है कि एसटीपी (sewage treatment plant) का पानी पहले किसी काम में नहीं आता था लेकिन मेरे आरटीआई के बाद एनजीटी ने आदेश दिया था कि एसटीपी का इस्तेमाल इमारतों को बनाने के लिए बिल्डर इस्तेमाल करे.
    पेड़ों को कराया कंक्रीट से मुक्त
    पेशे से वकील विक्रांत बताते हैं कि कुछ साल पहले एक आरटीआई मैने डाली थी, जिस से पता चला कि सड़क किनारे लगने वाले जितने भी पेड़ पौधों को लगाया गए है. सबको कंक्रीट से घेर दिया गया है. इसके बाद पता चला कि उसी कंक्रीट के कारण पेड़-पौधों का विकास नहीं हो पा रहा है. इसके बाद हमने इसके लिए प्रयास किया और एनजीटी ने आदेश दिया कि सभी पेड़ों को मुक्त कराया जाए. इसके बाद पूरे एनसीआर (Delhi Ncr) में कंक्रीट हटाया जा रहा है. उनका कहना है कि अभी तो लड़ाई बहुत आगे तक ले जानी है. बहुत से काम है जो अभी करने बाकी है.
    (रिपोर्ट – आदित्य कुमार)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज