श्मशान घाट हादसा: कांग्रेस और सपा का सीएम योगी पर हमला, कहा- घटना के लिए भाजपा सरकार का भ्रष्टाचार जिम्मेदार

योगी सरकार इस हादसे को लेकर पूरी सख्‍ती बरत रही है.

योगी सरकार इस हादसे को लेकर पूरी सख्‍ती बरत रही है.

Ghaziabad Cremation Ground Tragedy: गाजियाबाद के मुरादनगर में श्मशान घाट की छत गिरने से 25 लोगों की मौत को लेकर यूपी की सियासत तेज हो गई है. समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) और कांग्रेस ने इसके लिए योगी सरकार (Yogi Government) को जिम्‍मेदार ठहराया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 4, 2021, 10:29 PM IST
  • Share this:
लखनऊ/ गाजियाबाद. राजधानी दिल्‍ली से सटे उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद (Ghaziabad) में रविवार को श्मशान घाट (Cremation Ground Tragedy) में गलियारे की छत गिरने से 25 लोगों की मौत के बाद सियासत तेज हो गई है. इस घटना के बाद समाजवादी पार्टी के अध्‍यक्ष और यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) के साथ कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने योगी सरकार पर हमला बोला है. हालांकि घटना से मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ (CM Yogi Adityanath) अफसरों से बेहद नाराज हैं और उन्‍होंने इस मामले में जिम्‍मेदार अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के संकेत दिए हैं.

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और यूपी के पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव ने गाजियाबाद के मुरादनगर में श्मशान घाट परिसर की छत गिरने से हुई लोगों की मौत के लिए प्रदेश की भाजपा सरकार को जिम्मेदार ठहराया है. इसके अलावा उन्‍होंने हादसे में मारे गए लोगों के परिजन को 50-50 लाख रुपए की सहायता देने की मांग की है. जबकि उत्‍तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने मुरादनगर श्मशान घाट की दो महीने पहले निर्मित बारादरी की छत ढहने से 25 लोगों की दुःखद मौत के लिए योगी आदित्यनाथ सरकार को सीधे तौर पर जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि यह सरकार के संगठित भ्रष्टाचार का जीवंत उदाहरण है.

कांग्रेस ने सीएम पर साधा निशाना

उत्‍तर प्रदेश कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने योगी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि मोटे कमीशन के लिये सरकार, अधिकारियों व ठेकेदारों के कॉकस जनता के जीवन से लगातार खिलवाड़ कर रहा है. भाजपा के योगी राज में निर्माण कार्यों की गुणवत्ता सदैव संदिग्ध रही है. सत्ता के संचालकों के इशारे पर कॉकस निरन्तर मोटा माल कमाने के चक्कर में मानवीय जिंदगियों को तबाह करने और मौत के मुंह में धकेलने में लगा हुआ है. योगी सरकार को मानव जीवन की सुरक्षा से कोई लेना देना नही है, वह मात्र संगठित भ्रष्टाचार को अंजाम देने में लगी है. इसके अलावा कांग्रेस अध्‍यक्ष ने कहा कि हर मोर्चे पर विफल योगी सरकार भ्रष्टाचार में आकंठ डूबी हुई है. उन्होने मृतकों के परिवारजनों को 25-25 लाख रुपये मुआवजा देने व घायलों के समुचित इलाज के साथ-साथ 10-10लाख रुपया मुआवजा राशि देने की मांग की है.
तीन नगर निकाय अधिकारी गिरफ्तार

गाजियाबाद पुलिस ने श्मशान घाट की छत ढहने के मामले में तीन नगर निकाय अधिकारियों को सोमवार को गिरफ्तार कर लिया. वहीं इलाके में तनाव बढ़ने के बीच हादसे में मारे गए लोगों के परिजन ने अधिक मुआवजे की मांग को लेकर सड़क पर दो शव रखकर दिल्ली-मेरठ राजमार्ग जाम कर दिया.

पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) इराज राजा ने बताया कि अधिकारियों ने 10 लाख रुपए का मुआवजा और प्रत्येक पीड़ित के परिवार को सरकारी नौकरी देने की सहमति दी. इसके बाद लोगों ने अपना प्रदर्शन समाप्त किया और शवों का अंतिम संस्कार करने के लिए तैयार हो गए. इसके साथ राजा ने बताया कि मुरादनगर नगरपालिका की कार्यकारी अधिकारी निहारिका सिंह, कनिष्ठ अभियंता चंद्र पाल और सुपरवाइजर आशीष को सोमवार सुबह गिरफ्तार किया गया, क्योंकि वे रविवार को ढह गयी इमारत के निर्माण के लिए निविदा प्रक्रिया में शामिल थे. जबकि पुलिस की टीम ठेकेदार अजय त्यागी को गिरफ्तार करने के लिए उसके संभावित ठिकानों पर छापे मार रही है.



शहरी विकास मंत्री ने किया दौरा

जिलाधिकारी अजय शंकर पांडे ने बताया कि शहरी विकास मंत्री और गाजियाबाद के जिला प्रभारी सुरेश खन्ना ने भी का दौरा किया और पीड़ितों के परिवार के सदस्यों से मुलाकात की. उन्होंने कहा कि प्रत्येक परिवार को दस लाख रुपये की आर्थिक सहायता और एक सरकारी नौकरी देने का प्रस्ताव सरकार को भेजा गया है और प्रशासन हादसे में मारे गये लोगों के बच्चों के लिए उनके वयस्क होने तक निशुल्क शिक्षा की भी व्यवस्था करेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज