लाइव टीवी

सुपारी देकर बीजेपी नेता की कराई गई थी हत्या, शूटर समेत तीन गिरफ्तार

ETV UP/Uttarakhand
Updated: December 4, 2017, 9:47 PM IST

सुपारी देकर बीजेपी नेता शिव कुमार की कराई गई हत्या.

  • Share this:
ग्रेटर नोएडा में बीजेपी नेता शिव कुमार समेत दो सुरक्षा गार्ड की हत्या को लेकर एसटीएफ और पुलिस ने खुलासा किया है. एसटीएफ और पुलिस की टीम ने मामले में एक शूटर समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया है. मामला पुरानी रंजिश का था.

बीजेपी नेता की हत्या सुपारी देकर कराई गई थी. इस हत्या को अंजाम देने वाले सुंदर भाटी गैंग थे. हत्या कराने वाले आरोपी के पिता की 2004 में हत्या हुई थी. जिसका 13 साल बाद बदला लिया गया. इस हत्या को अंजाम देने के लिए सुंदर भाटी के भतीजे अनिल भाटी को अरूण यादव ने सुपारी दी थी.

सुपारी गैंग ने की थी फायरिंग

16 नवंबर को बीजेपी नेता शिव कुमार यादव अपनी कार से जा रहे थे. तभी बाइक सवार बदमाशों ने उन पर ताबड़तोड़ फायरिंग की. इस दौरान बीजेपी नेता समेत तीन लोगों को गोली लगी और मौके पर ही तीनों की मौत हो गई. इस घटना में 14 साल की लड़की की भी कार के चपेट में आने से मौत हो गई.

हत्या के शक में लिया गया बदला

शिव कुमार के चाचा की हत्या साल 2000 में हुई थी. जिसमे आरोपी अरुण यादव के चाचा समेत 5 लोग शामिल थे. मामले में पांचों आरोपियों को पांच साल की जेल की सजा हुई. वहीं 2004 में आरोपी अरूण यादव के पिता महेंद्र यादव की हादसे में मौत हो गई. लेकिन ये हादसा अरूण यादव और उसके परिवार के लिए हादसा नहीं हत्या था. जिसका आरोपी वे शिव कुमार यादव को मानते थे.

एसटीएफ ने किया खुलासापूरे मामले पर बीजेपी नेता शिवकुमार के भाई योगेश यादव ने पुलिस में मुकदमा दर्ज कराया था. जिसके बाद आरोपी अरूण यादव और उसके भाई अमित यादव पर हत्या का शक जाहिर किया गया. अरुण यादव का भाई अमित यादव यूपी के अलीगढ़ के जवां थाने में थानेदार है. पुलिस में शिकायत के बाद से एसटीएफ लगातार अमित यादव को ट्रैक कर रही थी. नोएडा एसटीएफ और पुलिस की ज्वाइंट ऑपरेशन से मामले का खुलासा किया गया और टीम ने अरुण यादव ,शूटर नरेश जाट और मुखबिर सोनू पंडित को गिरफ्तार किया. हत्या में शामिल 2 शूटर अभी-भी फरार हैं जिनकी पुलिस तलाश में है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ग्रेटर नोएडा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 4, 2017, 9:47 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर