अपना शहर चुनें

States

Noida News: बदल जाएगा ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम, लगेंगे खास 3 तरह के कैमरे

नोएडा में ट्रैफिक व्‍यवस्‍था को आधुनिक करने की तैयारी चल रही है. (फाइल फोटो)
नोएडा में ट्रैफिक व्‍यवस्‍था को आधुनिक करने की तैयारी चल रही है. (फाइल फोटो)

नोएडा (Noida) में 18 जगहों पर स्पीड डिटेक्शन सिस्टम लगाने की योजना भी है. इसके तहत रेड लाइट (Red light) जंप करने वालों का चालान इस सिस्टम से खुद ही कट जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 12, 2021, 8:42 AM IST
  • Share this:
नोएडा. जल्द ही नोएडा का ट्रैफिक (Noida Traffic) मैनेजमेंट सिस्टम बदलने वाला है. रेड लाइट (Red light) जंप करने पर कब आपका चालान कट जाएगा, आपको भी पता नहीं चलेगा. रेड लाइट पर वाहनों की भीड़ के हिसाब से लाइट की टाइमिंग ऑटोमेटिक तरीके से खुद सेट हो जाएगी. इतना ही नहीं सड़क पर चलते हुए आपको यह जानकारी भी मिल जाएगी कि किस सड़क पर जाम लगा है और कहां पर ट्रैफिक डायवर्ट कर दिया गया है. यह सब होगा कमांड एंड कंट्रोल सेंटर से. इंटेलीजेंट ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम (ITMS) के तहत 88 करोड़ से नोएडा के ट्रैफिक सिस्टम (Traffic System) की सूरत बदलने की तैयारी शुरू हो चुकी है.

नोएडा की सीईओ रितु माहेश्वरी के मुताबिक, बीते काफी वक्त से यह योजना फाइलों में अटकी हुई थी. अब आने वाले 9 महीनों में इसे अंजाम तक पहुंचा दिया जाएगा. आईटीएमएस के तहत इस योजना का खर्च करीब 88 करोड़ रुपये है. पहली बार सीसीटीवी कैमरों समेत तीन और खास तरह के कैमरों का इस्तेमाल इस योजना में किया जाएगा. जो कंपनी काम करेगी उसका भी चयन कर लिया गया है. यह योजना नोएडा के 84 चौराहों पर काम करेगी.

ऐसे काम करेंगे वो तीन खास तरह के कैमरे



RLVD कैमरा
रेड लाइट वायलेशन डिटेक्शन कैमरा उन लोगों पर निगाह रखता है जो रेड लाइट जंप करते हैं. यह कैमरा ऐसे लोगों की इमेज कैप्चर करके वाहन के नंबर के आधार पर खुद ही चालान काट देता है.

इंटरनेट यूजर्स के मामले में बिहार के गांव और दिल्ली के शहरी लोग हैं सबसे आगे, देखें कौन-से नंबर पर है आपका शहर

ANPR कैमरा

यह नंबर प्लेट रिकॉग्निशन कैमरा होता है. नोएडा अथॉरिटी के अफसरों के मुताबिक शहर के करीब 693 पाइंट पर यह कैमरे लगाए जाएंगे. इस कैमरे की खासियत यह है कि यह खुद से वाहनों की नंबर प्लेट पढ़कर चालान काट देता है. इतना ही नहीं कमांड कंट्रोल रूम में बैठे पुलिसकर्मी भी इस कैमरे की मदद से सड़क पर नज़र रख सकते हैं और रूल तोड़ने वाले का चालान काट सकते हैं.

Surveillance कैमरा

सर्विलांस कैमरा खासतौर पर पुलिस की मदद के लिए लगाया जाएगा. शहर के करीब 354 पाइंट पर लगा यह कैमरा वाहनों पर चलने वाले लोगों के चेहरों पर फोकस करेगा. यह कैमरा बेहद नजदीक से इंसान के चेहरे को फोसक करता है. इस कैमरे से पुलिस बदमाशों को आसानी से पहचान और पकड़ सकेगी.

खुद सेट होगी टाइमिंग

आईटीएमएस के तहत एडेप्टिव ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम बेहद खास माना जाता है. इसकी खासियत यह है कि ट्रैफिक लाइट पर वाहनों की संख्या ज़्यादा होने पर ग्रीन लाइट का वक्त खुद से ही बढ़ जाएगा. जिससे ज़्यादा से ज़्यादा वाहनों को निकलने का मौका मिल सके. अगर थोड़ी देर बाद वाहनों की संख्या कम हो जाएगी तो ग्रीन लाइट फिर से अपना टाइम बदल लेगी. शुरुआत में नोएडा के करीब के 40 हैवी ट्रैफिक वाली रेड लाइट पर यह सिस्टम लगाया जाएगा.


सड़क पर चलते हुए आपको मिलेगी जानकारी
आईटीएमएस के तहत नोएडा में 22 जगहों पर वैरिएबल मैसेज साइनबोर्ड लगाने की भी योजना है. इन बोर्ड की खासियत यह है कि रास्ता बताने के साथ ही यह आपको शहर के ट्रैफिक की भी जानकारी देते रहेंगे जिससे आप कहीं भी ट्रैफिक जाम में न फंसे. जैसे अगर कहीं जाम लगा है, ट्रैफिक डायवर्ट कर दिया गया है या फिर कोहरे के चलते रास्ता साफ नहीं है तो इसकी सूचना इस बोर्ड पर मिल जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज