Home /News /uttar-pradesh /

अनोखा ट्यूशन: यहां शिक्षा के लिए फीस नहीं कचरा जमा करना होता है.

अनोखा ट्यूशन: यहां शिक्षा के लिए फीस नहीं कचरा जमा करना होता है.

प्लास्टिक

प्लास्टिक लाओ शिक्षा पाओ.

भारत देश में शिक्षा एक बहुत बड़ा व्यापार बनकर उभरा है, जहां लोग लाखों रुपए खर्च करते है पढ़ाई के लिए तो वहीं कुछ लोग ऐसे है जो शिक्षा के लिए तसरते है, क्योंकि उनके पास पैसा नहीं होता लेकिन नोएडा में एक ऐसी जगह है जहां पर शिक्षा के लिए पैसा नहीं कचरा देना होता है

अधिक पढ़ें ...

    नोएडा: भारत देश में शिक्षा एक बहुत बड़ा व्यापार बनकर उभरा है, जहां लोग लाखों रुपए खर्च करते है पढ़ाई के लिए तो वहीं कुछ लोग ऐसे है जो शिक्षा के लिए तसरते है, क्योंकि उनके पास पैसा नहीं होता लेकिन नोएडा में एक ऐसी जगह है जहां पर शिक्षा के लिए पैसा नहीं कचरा देना होता है. जी हां आपने सही पढ़ा शिक्षा के लिए कचरा देना पड़ता है.
    हर माह फीस के बदले पांच बॉटल
    सेक्टर 22 नोएडा में प्रिंस शर्मा रहते है, उनके कुछ दोस्त मिलकर यह कोचिंग संस्थान चलाते हैं. इसका नाम उन्होंने चैलेंजर्स की पाठशाला रखा है ( challengers ki pathashala) 24 वर्षीय प्रिंस बताते हैं कि मुझे बच्चे को पढ़ाने का बड़ा शौक है. मैं कई गरीब बच्चों को पढ़ाता भी हूं, लेकिन जब हम कभी किसी गरीब और झुग्गी में रहने वाले लोगों के यहां जाते थे और बच्चों को पढ़ने के लिए भेजने की बाद कहते थे तो वो हमे यह कह कर भगा देते थे कि इतने देर में वो कचरा बिन कर ले आएगा तो हमारा घर चलेगा. इसी समय हमारे दिमाग में आया कि हम शिक्षा के बदले कचरा ही लेंगे.
    कचरे का करते है रीसाइकल
    गीतिका 22 साला की है मुलतः उन्नाव से है लेकिन नोएडा सेक्टर 82 में रहती है वो बताती है कि हम हर महीने एक बच्चे से पांच प्लास्टिक की खाली बोतल चार्ज करते है फीस की तरह, और जब वो जमा हो जाता है तो हम उसे रिसाइकिल करते है और उस से अलग अलग चीजे बनाते है. फिर उस से जो पैसा आता है उसका हम बच्चो के पढ़ाई लिखाई पर खर्च करते है. वो बताती है कि हमारे पास लगभग 500 के आस पास बच्चे प्रतिदिन पढ़ने आते है.
    लोगों को आश्चर्य होता है कि मात्र पांच खाली बोतल के बदले पढ़ाई
    शिवानी कानपुर की रहने वाली है और आठवी क्लास में पढ़ती है, वो सबसे पुरानी छात्रा है जो इस पाठशाला में पढ़ने आती है. वो बताती है मुझे शिक्षक बनना है. जैसे कि भइया और दीदी हमे पढ़ाती है वैसे हमे भी दूसरों को पढ़ाना है. वो कहती है कि जब लोगों को यह पता चलता है कि मैं बस कोचिंग के लिए मात्र 5 खाली प्लास्टिक की बोतल देती हूं तो उनको आश्चर्य लगता है.
    (रिपोर्ट – आदित्य कुमार)

    Tags: Noida news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर