लाइव टीवी

बांदा, झांसी और हमीरपुर के 22 खनन माफिया STF, ATS रडार पर, पुलिस के साथ मिलीभगत की जांच

UMA SHANKER | News18 Uttar Pradesh
Updated: December 11, 2019, 4:19 PM IST
बांदा, झांसी और हमीरपुर के 22 खनन माफिया STF, ATS रडार पर, पुलिस के साथ मिलीभगत की जांच
हमीरपुर, बांदा और झांसी के खनन माफियाओं के पुलिस के साथ मिलीभगत की जांच शुरू हो गई है.

ये मामला तब हुआ जब बुंदेलखंड के दौरे में सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) पहुंचे थे और उन्होंने झांसी व बांदा जिले में पहुंचकर जायजा लिया था. इस दौरान सीएम से स्थानीय लोगों ने अवैध खनन में पुलिस की संलिप्तता की शिकायत की थी, जिसके बाद सीएम योगी ने नाराजगी जाहिर की थी.

  • Share this:
हमीरपुर. यूपी के हमीरपुर (Hamirpur) जिले में खनन माफियाओं (Mining Mafia) और पुलिस की मुश्किलें अब बढ़ने वाली हैं. उत्तर प्रदेश शासन ने मामले में एसटीएफ (STF) और एटीएस (ATS) की टीम को लगाया है, जो खनन माफियाओं और पुलिस के सम्बधों की जांच करेगी. टीम ने जांच करना भी शुरू कर दिया है. सूत्रों की माने तो बांदा, झांसी और हमीरपुर के कई खनन माफियाओं को सर्विलांस में लगाया गया है और पुलिसवालों से होने वाली कॉल डिटेल को खंगाला जा रहा है.

ये मामला तब हुआ जब बुंदेलखंड के दौरे में सीएम योगी आदित्यनाथ पहुंचे थे और उन्होंने झांसी व बांदा जिले में पहुंचकर जायजा लिया था. इस दौरान सीएम से स्थानीय लोगों ने अवैध खनन में पुलिस की संलिप्तता की शिकायत की थी, जिसके बाद सीएम योगी ने नाराजगी जाहिर की थी. मामले में झांसी जिले में 8 खनन माफियाओं के घरों दबिश भी दी गई थी. इसके बाद से ही एसटीएफ और एटीएस की 12 सदस्यीय टीम बुंदेलखंड में गोपनीय डेरा जमाये हुए है और पुलिस और खनन माफियाओं का नेटवर्क खंगाल रही है.

5 बड़े खनन माफियाओं के सियासी संबंधों का अंदेशा

जानकारी के अनुसार बुंदेलखंड के 22 खनन माफियाओं के मोबाइल नंबर सर्विलांस में लगाए गए हैं, जिसमें 5 बड़े खनन माफियाओं के सियासी संबधों का अंदेशा जताया जा रहा है. यह एसटीएफ की टीम हमीरपुर ,बाँदा और झांसी में नेटवर्क की तलाश कर रही है. जिसमे झांसी में 18, जालौन में 6, ललितपुर के 2 खनन माफियाओं के साथ बांदा, हमीरपुर और महोबा के मिलकर 40 खनन माफियाओं के सम्बन्ध पुलिस और प्रशासनिक मशीनरी में भी तलाशे जा रहे है. फिलहाल योगी सरकार जल्द ही इसमें कड़ा कदम उठाने की तैयारी में लग गई है क्योंकि बुंदेलखंड में बेहताशा अवैध खनन हुआ है और उसमें कहीं न कहीं पुलिस का भी संरक्षण प्राप्त रहा है, जिसकी अब जांच शुरू हुई है.

ये भी पढ़ें:

कासगंज में तेजाब पीड़िता ने खून से पत्र लिखकर एसपी से लगाई गुहार

UP: कचहरी सीरियल ब्लास्ट केस की सुनवाई पूरी, 20 दिसंबर को आएगा फैसला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए झांसी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 11, 2019, 4:19 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर