लाइव टीवी
Elec-widget

खनन घोटाला: CBI टीम ने हमीरपुर में डाला डेरा, IAS चंद्रकला सहित 78 लोगों को नोटिस

UMA SHANKER | News18 Uttar Pradesh
Updated: November 26, 2019, 11:30 AM IST
खनन घोटाला: CBI टीम ने हमीरपुर में डाला डेरा, IAS चंद्रकला सहित 78 लोगों को नोटिस
खनन घाेटाले में सीबीआई टीम ने हमीरपुर के मौदहा गेस्ट हाउस को अपना कैम्प कार्यालय बनाकर जांच शुरू कर दी है.

हमीरपुर (Hamirpur) के अवैध खनन केस (Illegal Mining Scam) में सीबीआई (CBI) ने 78 लोगों को नोटिस दिया है. इसमें आईएएस अफसर बी चन्द्रकला, सपा एमएलसी रमेश मिश्रा, पूर्व सांसद घनश्याम अनुरागी, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष संजय दीक्षित सहित कई मौरंग माफियाओं को नोटिस भेजा गया है.

  • Share this:
हमीरपुर. यूपी के हमीरपुर (Hamirpur) जिले में सपा शासनकाल में हुए 900 करोड़ से अधिक के अवैध खनन घोटाले (Illegal Mining Scam) की जांच कर रही सीबीआई (CBI) की 3 सदस्यीय टीम ने हमीरपुर में डेरा डाल दिया है. सीबीआई टीम ने मौदहा डेम गेस्ट हाउस को अपना कैम्प कार्यालय बनाकर जांच शुरू कर दी है. इस दौरान सीबीआई टीम ने खनिज कार्यालय में छापा मारकर अहम दस्तावेज खंगाले. वहीं मामले में सीबीआई ने 78 लोगों को नोटिस दिया है. इसमें अवैध खनन में शामिल आईएएस अफसर बी चन्द्रकला, सपा एमएलसी रमेश मिश्रा, पूर्व सांसद घनश्याम अनुरागी, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष संजय दीक्षित सहित कई मौरंग माफियाओं को नोटिस भेजा गया है. मंगलवार से नोटिस पाने वाले सभी लोगों की सीबीआई के कैंप कार्यालय में पेशी होनी है.

जानकारी के अनुसार सीबीआई मौरंग खनन के पूर्व से लेकर अब तक के पट्टों की जांच करेगी. इसमें अभी हाल में ही हुए खनन के 25 पट्टे भी शामिल हैं. सीबीआई 6 दिसंबर तक कैंप कार्यालय में रहेगी. मामले में जिले के एसपी की तरफ से कैंप कार्यालय के बाहर सुरक्षा को लेकर एक दरोगा और सिपाही को तैनात किया है.

इसी साल जून में सीबीआई ने मारे थे छापे
बता दें इससे पहले जून 2019 में सीबीआई की टीम ने सपा एमएलसी रमेश मिश्रा सहित 11 खनन माफियाओं के ठिकानो में छापा मारकर हड़कंप मचा दिया था. यही नहीं मामले में सीबीआई आईएएस बी चंद्रकला समेत 11 लोगो को निशाना बना चुकी है और 63 को इसमें आरोपी बनाया था. अरबों के इस घोटाले में शामिल और लोगों की खोज के लिए सीबीआई की टीम ने हमीरपुर में एक बार फिर से छापा मारा है.

अवैध खनन का यह था पूरा मामला
बता दें जुलाई 2012 के बाद जिले में 62 मौरंग के खनन के पट्टे दिए थे. ई-टेंडर के जरिए मौरंग के पट्टे देने का प्रावधान था. आरोप है कि सारे प्रावधानों की अनदेखी कर तत्कालीन जिलाधिकारी बी चन्द्रकला ने रमेश मिश्रा के साथ मिलकर जिले में जमकर अवैध खनन करवाया. 2015 में मौरंग के अवैध खनन पर HC में एक जनहित याचिका दायर हुई थी, इसके बाद 16 अक्टूबर 2015 को HC ने सभी खनन पट्टे अवैध घोषित कर दिया था. इसके बाद भी अवैध खनन का यह काला कारोबार जारी रहा.

28 जुलाई, 2016 को हाईकोर्ट ने सीबीआई को अवैध खनन की जांच सौंपी थी, जिसके बाद अप्रैल 2017 को हमीरपुर में सीबीआई टीम ने अवैध खनन से जुड़े सभी खनन माफियों से पूछताछ की थी. रमेश मिश्रा के बड़े भाई सुरेश चंद्र मिश्रा, संजय दीक्षित, राकेश दीक्षित, राम अवतार राजपूत, करण सिंह, अशोक सचान, बबलू मिश्रा से सीबीआई हमीरपुर डाक बंगले में पूछताछ कर चुकी है.
Loading...

सीबीआई की दस्तक से खनन माफियों में हड़कंप
इसके बाद सीबीआई ने हमीरपुर जिले में 6 से 7 बार छापेमारी कर खनिज माफियाओ के बैंकों, घरों की तलाशी भी ली. अब फिर उसी जांच को आगे बढ़ाते सीबीआई ने हमीरपुर में दस्तक दे दी है, जिसके बाद खनन माफियाओ में हड़कम्प मचा हुआ है.

ये भी पढ़ें:

महाराष्ट्र की गठबंधन सरकार में समाजवादी पार्टी की ये रहेगी भूमिका!
70वां संविधान दिवस आज: बसपा सुप्रीमो ने ट्वीट करके बीजेपी-कांग्रेस को दी सलाह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए हमीरपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 26, 2019, 11:25 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...