लाइव टीवी

हमीरपुर: खनन घोटाले की फाइनल जांच करने पहुंची CBI टीम, हाथ लगा IAS बी. चंद्रकला का अहम पत्र
Hamirpur-Uttar-Pradesh News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: February 25, 2020, 2:07 PM IST
हमीरपुर: खनन घोटाले की फाइनल जांच करने पहुंची CBI टीम, हाथ लगा IAS बी. चंद्रकला का अहम पत्र
सीबीआई टीम ने हमीपुर डीएम ऑफिस जाकर आईएएस बी चंद्रकला के पत्र की जांच की.

UP Mining Scam: जानकारी के मुताबिक, CBI के हाथ में अवैध खनन से जुड़े कुछ पुख्‍ता साक्ष्य लगे हैं. इसलिए अब पांच दिनों तक सीबीआई हमीरपुर में जांच करेगी.

  • Share this:
लखनऊ. उत्‍तर प्रदेश के हमीरपुर जिले में अवैध खनन घोटाले (Illegal Mining Scam) की जांच के लिए सीबीआई (CBI) ने एक बार फिर मौदहा बांध निर्माणखंड के निरीक्षण भवन में आकर कैंप में डेरा डाल लिया है. निरीक्षण भवन को सीबीआई के अधिकारियों के लिए कैंप ऑफिस में तब्दील कर दिया गया. जांच एजेंसी के निर्देशों के अनुपालन के लिए अधिकारियों की तैनाती भी कर दी गई है. एक बार फिर अवैध खनन की जांच शुरू होने से मौरंग कारोबारियों में हड़कंप मच गया है. मामले से जुड़े तमाम कारोबारी भूमिगत हो गए हैं. माना जा रहा है कि ये सीबीआई की फाइनल जांच है. यह पांच दिनों तक चलेगी.

पता चला है कि सीबीआई के हाथ एक अहम दस्तावेज भी लगा है. दरअसल, सीबीआई के हाथ आईएएस बी. चंद्रकला लिखित वह पत्र लगा है, जिसमें उन्होंने शासन को पत्र भेजकर खनन पट्टों की स्वीकृति मांगी थी. बता दें कि मामले में शासन की स्वीकृति के बाद 14 खनन पट्टे लिए गए. आरोप है कि खनन पट्टों की शुरुआत आईएएस बी. चंद्रकला द्वारा कराई गई थी. मामले में सीबीआई टीम ने डीएम ऑफिस पहुंचकर पत्र की सत्यता की जांच कराई है.

बता दें कि सपा सरकार में हमीरपुर समेत प्रदेश के कई जिलों में मौरंग का अवैध खनन हुआ था. 900 करोड़ के अवैध खनन घोटाले को लेकर पिछले चार साल पूर्व हाईकोर्ट प्रयागराज में याचिका दाखिल की गई थी, जिस पर हाईकोर्ट ने इस मामले की जांच सीबीआई को सौंपी थी. सीबीआई की टीम वर्ष 2012 से लेकर साल 2016 तक मौरंग खनन को लेकर गहराई से जांच कर रही है.



इन लोगों से हो चुकी है पूछताछ



सीबीआई के रडार में आए सपा सरकार में तैनात रहे विधि सलाहकार मनोज त्रिवेदी, आईएएस जिलाधिकारी बी चंद्रकला समेत तमाम अधिकारियों को तलब कर सीबीआई के अधिकारी खनन से संबंधित बयान ले चुके हैं. साथ ही सपा के एमएलसी रमेश मिश्रा, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष संजय दीक्षित और खनिज विभाग के रिटायर्ड बाबू रामआसरे समेत कई मौरंग कारोबारियों से कई बार पूछताछ की जा चुकी है.

पांच दिन तक फाइनल जांच करेगी सीबीआई टीम
सीबीआई की तीन सदस्यीय टीम ने पांच दिन के लिए फिर से एक बार डेरा डाल दिया है. याचिकाकर्ता विजय द्विवेदी ने बताया कि सीबीआई अब फाइनल जांच कर रही है. खासकर इस अवैध खनन घोटाले में सपा सरकार के कई सफेदपोश नेता सीबीआई की रडार में आ चुके हैं, क्योंकि जब सपा सरकार थी तब एक ही दिन में 14 मौरंग के पट्टे दिए गए थे, जो बाद में हाईकोर्ट के आदेश पर रद्द हो गए थे. कुल 63 मौरंग के पट्टे यहां कारोबारियों ने चलाए हैं, जो नियमों के विपरीत पट्टे दिए गए थे. सीबीआई के हाथ में अवैध खनन के साक्ष्य आ चुके हैं, इसीलिए अब पांच दिनों तक सीबीआई अंतिम जांच करेगी.

रिपोर्ट: उमाशंकर मिश्र

ये भी पढ़ें:

योगी कैबिनेट के इस फैसले से VRS लेने वाले UP के कर्मचारियों की बढ़ी मुश्किलें

वक्फ बोर्ड के दस्तावेजों से खत्म हुआ 'बाबरी मस्जिद' का नाम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए हमीरपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 25, 2020, 1:31 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading