हाथरस कांड पर केंद्रीय मंत्री निरंजन ज्योति बोलीं- परिजनों को मिलना चाहिए था बेटी का शव

परिजनों को मिलना चाहिए था बेटी का शव
परिजनों को मिलना चाहिए था बेटी का शव

मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति (Sadhvi Niranjan Jyoti) ने कहा कि हाथरस कांड की जांच एसआईटी कर रही है. अब डीएम और एसपी का रोल नहीं बचा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 2, 2020, 9:03 PM IST
  • Share this:
हमीरपुर. उत्तर प्रदेश में हाथरस कांड (Hathras Case) को लेकर जमकर सियासत हो रही है. इसी क्रम में हाथरस मामले पर केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति (Sadhvi Niranjan Jyoti) ने शुक्रवार को एक बड़ा बयान दिया है. बीजेपी सांसद साध्वी निरंजन ज्योति ने हमीरपुर में इस मुद्दे पर टिप्पणी करते हुए कहा, "मैं इसे अच्छा नहीं मानती, लाश परिजनों को मिलना चाहिए था." हाथरस कांड से नाराज होकर उन्होंने कहा कि जो प्रशासन ने लकड़ी के शव को रात में जलाया है. वह बहुत ही गलत है. इस मामले में मंत्री ने कड़ी निंदा करते हुए कहा कि दाह संस्कार रात में कराने वालों पर सरकार बड़ा एक्शन लेगी.

एसआईटी कर रही है जांच
मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने कहा कि हाथरस कांड की जांच एसआईटी कर रही है. अब डीएम और एसपी का रोल नहीं बचा है. साध्वी ने कहा कि हमारी सरकार पीड़ित परिवार के साथ खड़ी है. हाथरस कांड में कांग्रेस और सपा राजनीति कर रही है, वह गलत है.


छावनी में तब्दील हुआ गांव, मीडिया की नो-एंट्री


पुलिस ने हाथरस गैंगरेप पीड़ित के गांव को पुलिस ने छावनी बना रखा है. जिले में धारा-144 लगाने के साथ ही पीड़ित के गांव में नाकेबंदी है. गांव के लोगों को भी आईडी दिखाने के बाद ही एंट्री दी जा रही है. प्रशासन के इस रवैये से लोग नाराज हैं. उनका कहना है कि हमारे ही गांव में हमसे अपराधी जैसा सलूक हो रहा है.

पीड़ित परिवार ने सीबीआई जांच की मांग की
एक वीडियो में हाथरस के डीएम प्रवीण लक्षकार पीड़ित परिवार से यह कहते हुए दिख रहे हैं कि मीडिया आज यहां है, कल नहीं रहेगा. आप सरकार की बात मान लीजिए. यह वीडियो वायरल होने के बाद परिवार के किसी भी सदस्य को बाहर नहीं जाने दिया जा रहा. मृतक लड़की के पिता ने सीबीआई जांच की मांग की है. उनका कहना है कि यूपी पुलिस पर अब भरोसा नहीं रहा, हमें मीडिया वालों से नहीं मिलने दे रहे. घर से निकलने पर भी 10 तरह के सवाल किए जा रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज