COVID-19: कोरोना से जंग लड़ने में BJP विधायक ने पहले दिए पैसे, अब मांग रहे वापस

भाजपा विधायक श्याम प्रकाश मांग रहे पैसे वापस (फ़ाइल तस्वीर)
भाजपा विधायक श्याम प्रकाश मांग रहे पैसे वापस (फ़ाइल तस्वीर)

हरदोई जिले के गोपामऊ से बीजेपी विधायक श्याम प्रकाश ने अपनी विधायक निधि से कोरोना फंड में 25 लाख रुपए दिए थे. अब वह इन पैसों को वापस मांग रहे हैं. उनका कहना है कि उनके दिए गए पैसों का सही इस्तेमाल नहीं हो रहा है, इसलिए उनकी विधायक निधि का पैसा उन्हें वापस किया जाए.

  • Share this:
हरदोई. वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (Pandemic Coronavirus) के चलते देशव्यापी लॉकडाउन (Lockdown) है. इस संकटकाल में कोरोना से जंग के लिए कई विधायकों व सांसद ने अपनी निधि से पैसा दिया था, लेकिन जैसे ही संकटकाल में और फंड जोड़ने के लिए इनकी निधियों से कटौती का प्रस्ताव सरकार ने दिया वहीं अब ये अपनी निधि वापस लेने के लिए परेशान घूम रहे हैं. पहले भाजपा के एमएलसी सहित चार विधायकों व बसपा की एक विधायक ने पत्र लिखकर निधि की धनराशि का उपयोग करने से मना कर दिया. अब हरदोई जिले के विधायक अपने 25 लाख रुपए इस आधार पर मांग रहे हैं कि उन्हें लगता है कि उसका सही उपयोग नहीं हो रहा है.

विधायक का वायरल लेटर
विधायक का वायरल लेटर


पैसा वापस किया जाए
अब कोरोना वायरस के संकट से निपटने के लिए उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले के गोपामऊ से बीजेपी विधायक श्याम प्रकाश ने अपनी विधायक निधि से कोरोना फंड में 25 लाख रुपए दिए थे. अब वह ये पैसे वापस मांग रहे हैं. इस संबंध में विधायक ने बाकायदा पत्र लिखकर हरदोई जिला प्रशासन से पैसे वापस मांगे हैं. बता दें कि कोरोना वायरस के संकट से निपटने के लिए उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले की गोपामऊ से बीजेपी विधायक श्याम प्रकाश ने अपनी विधायक निधि से कोरोना फंड में 25 लाख रुपए दिए थे. लेकिन अब विधायक महोदय ने हरदोई जिला प्रशासन को पत्र लिखा और कहा कि उनके दिए गए पैसों का सही इस्तेमाल नहीं हो रहा है, इसलिए उनकी विधायक निधि का पैसा उन्हें वापस किया जाए.
अब जिला प्रशासन परेशान है कि विधायक श्याम प्रकाश के द्वारा वापस मांगी जा रही रकम कैसे वापस की जाए क्योंकि विधायक निधि से 25 लाख रुपए अवमुक्त करने संबंधी पत्र के आधार पर इसका 60 फीसदी पैसा पहली किस्त के रूप में स्वास्थ्य विभाग को दिया जा चुका है. अब वो पैसा विधायक को कैसे वापस किया जाए. लेकिन इस संकटकाल में कुछ जनप्रतिनिधियों की ये हरकतें इनकी मंशा पर कई सवाल भी खड़े कर रही हैं.



ये भी पढ़ें- COVID-19: हरियाणा से UP लाए गए 12 हजार से अधिक मजदूर, गृह जिलों के लिए किया गया रवाना
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज