लाइव टीवी

सामने आई सच्चाईः इसके चलते हरदोई में प्रेमी को जिंदा जला दिया

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 18, 2019, 9:39 AM IST
सामने आई सच्चाईः इसके चलते हरदोई में प्रेमी को जिंदा जला दिया
पुलिस ने अब मामले में युवती समेत तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है.

6 साल पहले भी प्रेमी जोड़ा घर छोड़ कर चला गया था लेकिन बाद में युवती के परिजनों ने उसे ढूंढ लिया था. अब एक बार फिर जब युवक ने युवती से मिलने का प्रयास किया तो उसे कुछ इस तरह दी गई सजा.

  • Share this:
हरदोई. युवक को जिंदा जलाने के मामले में अब एक नया मोड़ सामने आ गया है. जानकारी के अनुसार जिस युवक को जिंदा जलाया गया है वह दलित था और युवती जिससे उसका प्रेम प्रसंग था वह सवर्ण थी. यही कारण रहा कि युवती के परिजन ने युवक को चारपाई से बांध कर जिंदा जला दिया. इस सदमे को युवक की मां बर्दाश्त नहीं कर सकी और सदमे के चलते उसने भी दम तोड़ दिया. अब इस मामले में पुलिस ने लड़की समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया है.

जानकारी के मुताबिक, अभिषेक उर्फ मोनू नाम के युवक का गांव की रहने वाली शिवानी गुप्ता नाम की युवती के साथ प्रेम प्रसंग चल रहा था. बीते शनिवार रात को मोनू अपनी प्रेमिका से मिलने उसके घर गया था. लड़की के परिजनों ने युवक को चारपाई से बांधकर जिंदा जलाया. मोनू की चीख सुनकर गांववालों ने पुलिस को इसकी सूचना दी. इसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने मोनू को प्रेमिका के घरवालों से आजाद कराकर जिला अस्पताल में भर्ती कराया, जहां उसकी हालत को गंभीर देखते हुए लखनऊ रैफर कर दिया गया. लेकिन रास्ते में ही मोनू ने दम तोड़ दिया.

6 साल पहले भी फरार हुए थे दोनों प्रेमी युगल
हरदोई के एसपी आलोक प्रियदर्शी ने बताया कि गांव का ही मोनू राधेश्याम की भतीजी से प्रेम करता था. लगभग 6 साल पहले प्रेमी जोड़ा घर से फरार हो गया था, लेकिन तब लड़की के घरवाले उन्हें ढूंढकर वापस ले आए थे. शनिवार रात मोनू जब अपनी प्रेमिका से मिलने उसके घर पहुंचा तो लड़की की परिजनों ने इस वारदात को अंजाम दिया. वहीं, एसपी ने कहा कि गांववालों का आरोप है कि मोनू के साथ घटित हुई घटना के बाद उसकी मां की सदमे से मौत हो गई. दावा है कि उसकी मां लंबे वक्त से बीमार चल रही थी.

कांग्रेस ने यूपी सरकार पर साधा निशाना
दलित युवक को जिंदा जलाने के मामले में कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने यूपी सरकार पर निशाना साधा है. कांग्रेस नेता ने ट्वीट कर कहा, बीजेपी राज में एक और दलित को जिंदा जलाया. अमानवीय और शर्मनाक. यूपी में राजनीतिक मकसद हासिल करने के लिए सामाजिक ताने-बाने पर प्रहार हो रहा है. राजनीतिक रोटियां सेंकने वाला सत्ता पक्ष चुप है. यूपी में न महिलाएं सुरक्षित हैं, न दलित और न ही पिछड़े.'

ये भी पढ़ें- अयोध्या केस में मुस्लिम पक्षकार इकबाल अंसारी के खिलाफ FIR के आदेशराजस्थान को लेकर भड़कीं मायावती ने कांग्रेस को बताया धोखेबाज पार्टी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए हरदोई से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 17, 2019, 7:06 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर