भूख से तड़प रहा था 1 माह का बच्चा, रेल सेवा ऐप पर गुहार के बाद ट्रेन में पहुंचाया गया दूध

बिहार के गया से लुधियाना जा रहे परिवार ने रेल सेवा एप पर बच्चे के दूध के लिए मदद मांगी जिसके बाद रेलवे द्वारा हरदोई रेलवे स्टेशन पर उन्हें दूध पहुंचाया गया
बिहार के गया से लुधियाना जा रहे परिवार ने रेल सेवा एप पर बच्चे के दूध के लिए मदद मांगी जिसके बाद रेलवे द्वारा हरदोई रेलवे स्टेशन पर उन्हें दूध पहुंचाया गया

गंगा-सतलुज एक्सप्रेस ट्रेन (Ganga Satluj Express) में सफर कर रहे एक परिवार का मासूम बच्चा भूख से बिलख रहा था. परिवार के पास उसे पिलाने के लिए दूध नहीं था, न ही ट्रेन में दूध उपलब्ध था. परिवार ने आखिर में रेलवे (Indian Railways) के ऐप पर बच्चे के लिए दूध की गुजारिश की. रेलवे ने परिवार के अनुरोध पर तत्काल संज्ञान लेते हुए हरदोई स्टेशन पर बच्चे की भूख मिटाने के लिए ट्रेन में दूध भेजा

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 22, 2020, 8:01 PM IST
  • Share this:
हरदोई. यात्रियों को उनकी मंजिल तक पहुंचाने वाला रेलवे (Indian Railways) और रेल कर्मचारियों (Railway Employees) का मानवीय चेहरा भी समय-समय पर देखने को मिलता है. सोमवार को उत्तर प्रदेश के हरदोई रेलवे स्टेशन (Hardoi Railway Station) पर एक बार फिर रेलवे का यात्रियों के प्रति संवेदनशीलता देखने को मिला. सेवा सत्कार की इस भावना को देख ट्रेन में सफर कर रहे यात्री बोल पड़े- थैंक्स भारतीय रेलवे! दरअसल गंगा-सतलुज एक्सप्रेस ट्रेन (Ganga Satluj Express) में सफर कर रहे एक परिवार का मासूम बच्चा भूख से बिलख रहा था. परिवार के पास उसे पिलाने के लिए दूध नहीं था, न ही ट्रेन में दूध उपलब्ध था. परिवार ने आखिर में रेलवे के ऐप पर बच्चे के लिए दूध की गुजारिश की. रेलवे ने परिवार के अनुरोध पर तत्काल संज्ञान लेते हुए हरदोई स्टेशन पर बच्चे की भूख मिटाने के लिए ट्रेन में दूध भेजा, जिसे पाकर परिवार ने रेलवे को धन्यवाद बोला.

परिवार ने रेल प्रशासन द्वारा जारी की गई रेल सेवा ऐप पर मदद मांगी

मिली जानकारी के अनुसार बिहार के गया से लुधियाना जा रहा एक परिवार गंगा-सतलुज एक्सप्रेस (03307) से यात्रा कर रहा था. ट्रेन के लखनऊ रेलवे स्टेशन छोड़ते ही महिला का एक माह का बच्चा भूख से बेहाल होकर रोने लगा. ट्रेन में दूध ना मिलने पर परिवार ने रेल प्रशासन द्वारा जारी की गई रेल सेवा ऐप पर मदद मांगी. रेल प्रशासन ने परिवार की गुहार का गंभीरता से संज्ञान लिया. जिसके बाद कंट्रोल रूम ने स्टेशनों को सूचित किया और बच्चे तक तत्काल दूध पहुंचाने को कहा. रेल प्रशासन ने बालामऊ स्टेशन को निर्देश दिया परंतु साप्ताहिक बंदी होने के चलते बालामऊ में बच्चे के लिए दूध उपलब्ध नहीं हो सका.



इसके बाद कंट्रोल रूम द्वारा हरदोई सीएमआई अंबुज मिश्रा को गंगा-सतलुज एक्सप्रेस में दूध पहुंचाने को कहा गया. कंट्रोल रूम से जानकारी मिलते ही सीएमआई ने दूध की व्यवस्था की और ट्रेन का इंतजार करते रहे. जैसे ही ट्रेन हरदोई स्टेशन पहुंची तो कोच संख्या एस-5 में यात्रा कर रहे परिवार के पास बच्चे के लिए दूध उपलब्ध कराया. बच्चे के लिए दूध मिलने के बाद परिवारवालों और यात्रियों ने रेल प्रशासन की प्रशंसा की और उन्हें धन्यवाद दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज