Home /News /uttar-pradesh /

hardoi woman ties knot with fiance after he lost his one leg in road accident upat

एक विवाह ऐसा भी! शादी से पहले दुर्घटना में मंगेतर ने गंवाया पैर, फिर भी युवती ने दिया साथ, लिए सात फेरे

Hardoi: सड़क  हादसे में मंगेतर का एक पैर काटने के  बाद भी सरोजिनी ने उसके साथ लिए सात फेरे

Hardoi: सड़क हादसे में मंगेतर का एक पैर काटने के बाद भी सरोजिनी ने उसके साथ लिए सात फेरे

Hardoi News: इलाज के दौरान भी सरोजिनी ने आदित्य का साथ नहीं छोड़ा. हमेशा उसके साथ रही और उसकी देखभाल करती रही. अस्पताल से छुट्टी हुई तो आदित्य आपने घर गया और सरोजिनी अपने घर. सरोजनी के घरवाले भी आदित्य के साथ हुए हादसे के बाद शादी को लेकर ढीले पड़ गए. उन्होंने सरोजनी को समझने का प्रयास किया, लेकिन सरोजनी ने अपने परिवार और रिश्तेदारों के सामने आदित्य के संग ही शादी करने का अपना फैसला सुना दिया.

अधिक पढ़ें ...

हरदोई. यूपी के हरदोई में बॉलीवुड फिल्म जैसी स्टोरी रियल लाइफ में देखने को मिली. रियल शादी और रील लाइफ की शादी में अंतर यह था कि यहां लड़का नहीं लड़की ने साथ निभाने की मिशाल पेश की. दरअसल, मंगेतर ने सड़क दुर्घटना में अपना एक पैर गंवा दिया. जिसके बाद युवती ने अस्पताल में साथ रहकर उसकी देखभाल की. इतना ही नहीं ठीक होने पर सात फेरे लेकर उसकी अर्धांगिनी बन गई. जिले में इस शादी की बड़ी चर्चा है.

दरअसल, बॉलीवुड की फ़िल्म विवाह में शाहिद कपूर की मंगेतर अमृता राव शादी से ठीक पहले जल गई थी और अस्पताल में भर्ती हो गई थी. मगर शाहिद ने अस्पताल में ही जाकर लड़की की मांग भर दी. खैर यह तो थी रील लाइफ मगर इसी तर्ज पर रियल लाइफ की संगिनी बनी सरोजनी. मामला हरदोई के हन्नपसिगवां का है, आदित्य का विवाह खीरी जिले के जमूका गांव की सरोजिनी के साथ तय हुआ था. आदित्य का तिलक समारोह हो चुका था. लेकिन एक अप्रैल की देर रात गांव से जहानीखेड़ा जाते वक्त आदित्य बाइक दुर्घटना में घायल हो गया. बेहतर इलाज के लिए आदित्य को शाहजहांपुर ले जाया गया और फिर वहां से लखनऊ. लखनऊ में आदित्य के पैर की प्लास्टिक सर्जरी की गई, मगर वह कामयाब न रही. इसके बाद दोबारा आदित्य के पैर का ऑपरेशन किया गया और आदित्य को अपना पैर गंवाना पड़ा.

इलाज के दौरान की देखभाल

सरोजिनी ने आदित्य का साथ नहीं छोड़ा. उसकी देखभाल करती रही. अस्पताल से छुट्टी हुई तो आदित्य पने घर गया और सरोजिनी अपने घर. सरोजनी के घरवाले भी आदित्य के साथ हुए हादसे के बाद शादी को लेकर ढीले पड़ गए. उन्होंने सरोजनी को समझाया , लेकिन सरोजनी ने अपने परिवार और रिश्तेदारों के सामने आदित्य के संग ही शादी करने का अपना फैसला सुना दिया. सरोजनी की जिद से नियत तिथि पर आदित्य और सरोजनी की शादी हो गई. सरोजनी अपने पति और परिवार के संग खुश है.

12 मई को लिए सात फेरे

कक्षा आठ पास सरोजिनी के पिता रामशंकर खेती करते हैं. उसकी मां की मौत हो चुकी है. पिता, दादी, बाबा ने पालन पोषण किया. सरोजनी के 2 छोटे भाई हैं. पिछले साल जून में तिलक के बाद शादी की तारीख पास भी सिर पर आ गई तो रिश्तेदारी में खुसुर- फुसुर शुरू हुई कि जिस लड़के का पैर कट गया हो उसके साथ शादी कैसे होगी? 12 मई को होने वाली शादी के लिए रिश्तेदारों व आस पड़ोसियों के बीच सुगबुगाहट होने लगी थी. आदित्य ने अपना पैर गवांया तो सरोजिनी को उनके रिश्तेदार मानसिक तनाव देने लगे . लेकिन अंत मे सरोजिनी ने दिल की सुनी और नियत तिथि 12 मई को सरोजिनी ने आदित्य के साथ सात फेरे लेकर जीवन भर साथ निभाने की कसमें खाईं.

Tags: Hardoi News, UP latest news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर