होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की फटकार पर रेप के 17 महीने बाद पुलिस ने दर्ज किया केस, नाबालिग पीड़िता बन चुकी मां

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की फटकार पर रेप के 17 महीने बाद पुलिस ने दर्ज किया केस, नाबालिग पीड़िता बन चुकी मां

हरदोई पुलिस ने 17 महीने बाद केस दर्ज कर इस मामले की छानबीन शुरू की है.

हरदोई पुलिस ने 17 महीने बाद केस दर्ज कर इस मामले की छानबीन शुरू की है.

हरदोई जिले के बेहटा गोकुल थाना इलाके में नाबालिग बच्ची के साथ दुष्कर्म किया गया. लेकिन पुलिस ने शिकायत नहीं सुनी. बच्ची ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- आशीष मिश्रा

हरदोई. दुष्कर्म जैसी घिनौनी करतूत को लेकर भले ही कानून का रुख सख्त हो गया हो, लेकिन आज भी कई ऐसे मामले सामने आते हैं जिसमें पुलिसिया लापरवाही बेहतर पुलिसिंग पर सवाल खड़े कर देती है. यूपी के हरदोई जिले के बेहटा गोकुल थाना इलाके की रहने वाली नाबालिग बच्ची के साथ दुष्कर्म किया गया. लेकिन पुलिस ने शिकायत नहीं सुनी. बच्ची गर्भवती हो गई, पुलिस ने फिर भी नहीं सुनी. दुष्कर्म की शिकार बच्ची ने एक बच्चे को जन्म दिया. फिर भी ना तो लोकल पुलिस ने ध्यान दिया और न ही पुलिस अफसरों ने कान दिए. बात राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग नई दिल्ली पहुंची. आयोग ने सब कुछ बहुत गहराई से परखने के बाद पुलिस को मामला दर्ज करने के सख्त निर्देश दिए. तब कहीं जाकर 17 महीने बाद पुलिस ने दुष्कर्म का मामला दर्ज किया है.

बेहटागोकुल थाने में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग नई दिल्ली के निर्देश पर 2 अक्टूबर को धारा 376/506 के तहत मामला दर्ज किया गया. रिपोर्ट दर्ज कराने वाली एक महिला का कहना है कि मई 2021 में एक दिन वह दवा लेने गई हुई थी. उसी बीच उसकी 15 वर्षीय नाबालिग पुत्री गांव के बाहर लकड़ी व घास लेने गई थी. वहीं पर गांव के ही बहशी युवक ने नाबालिग को दबोच लिया और दुष्कर्म किया. साथ ही उसका वीडियो भी बनाया.

वीडियो वायरल करने की धमकी देकर आरोपी लगातार नाबालिग से दुष्कर्म करता रहा. महिला दुष्कर्म की शिकार अपनी बच्ची को इंसाफ दिलाने के लिए थाना-चौकी भटकती रही, लेकिन किसी ने उसकी नहीं सुनी. 31 जनवरी 2022 को दुष्कर्म की शिकार बच्ची ने एक बच्चे को जन्म दिया. यूपी-112 की पुलिस उसके बच्चे को चाइल्स केयर सेंटर लखनऊ को सौंपने के बाद अंजान बन कर बैठ गई.

नाबालिग बच्ची की मां थाना-चौकी और पुलिस अफसरों के चक्कर लगाती रही. लेकिन अफसोस उसकी गरीबी और बेबसी पर किसी को तरस नहीं आया. वह अर्जी पर अर्जी लगाती रही, लेकिन पुलिस को उसकी हर अर्जी फर्जी लग रही थी. इसके बाद उस बेबस मां ने दिल्ली की तरफ रुख किया. उसने इंसाफ के लिए राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के आगे अपनी झोली फैलाई. आयोग ने सारे मामले को बड़ी गहराई से परखा और उसके बाद पुलिस को रिपोर्ट दर्ज करने के निर्देश दिया. आयोग के निर्देश के बाद पुलिस ने 17 महीने बाद दुष्कर्म करने वाले अज्ञात युवक के खिलाफ मामला दर्ज किया है. इस बारे में एसएचओ बेहटा रंधा सिंह का कहना है कि रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है. जांच की जा रही है.

Tags: Hardoi News, UP news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें