UP Election 2022: योगी सरकार के पूर्व मंत्री ओम प्रकाश राजभर बोले- ओवैसी से ज्यादा खतरनाक है बीजेपी

ओवैसी से ज्यादा खतरनाक है बीजेपी

ओवैसी से ज्यादा खतरनाक है बीजेपी

संडीला में मीडिया से बातचीत के दौरान ओमप्रकाश राजभर (Om prakash Rajbhar) ने कहा कि उन्होंने भागीदारी संकल्प मोर्चा में बनाया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 19, 2020, 6:42 AM IST
  • Share this:
हरदोई. यूपी विधानसभा चुनाव-2022 से पहले राज्य में राजनीतिक हलचल तेज हो गई है. इसी कड़ी में योगी सरकार के पूर्व मंत्री और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर (Om prakash Rajbhar) ने बीजेपी सरकार पर जमकर हमला बोला. हरदोई के संडीला पहुंचे ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि सरकार उद्योगपतियों को बढ़ावा दे रही है और किसान परेशान हैं. उन्होंने कहा कि एआईएमआईएम (AIMIM) चीफ असदुद्दीन ओवैसी और शिवपाल यादव द्वारा बनाए गए मोर्चे से बीजेपी में घबराहट का माहौल पैदा हो गया है.

राजभर ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि ओवैसी से भी सबसे ज्यादा खतरनाक बीजेपी है. क्योंकि पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा था देश नहीं बिकने दूंगा लेकिन रेलवे, बैंक,एयरपोर्ट, एलआईसी कोयला खदान समेत 28 विभाग बेंच दिए और उवैशी ने क्या बेचा. योगी सरकार के पूर्व मंत्री आगे कहते हैं कि हम देश के किसानों की आय दोगुनी करेंगे. लेकिन आय दोगुनी होने के बजाए किसानों से यूरिया आदि पर धन दोगुना लिया जा रहा. यह सरकार उधोगपतियों को लाभ पहुंचा रही है.

भागीदारी संकल्प मोर्चा के तहत लड़ेंगे चुनाव

मीडिया से बातचीत के दौरान ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि उन्होंने भागीदारी संकल्प मोर्चा में बनाया है. उसमें लीडर 9 एकत्र हुए है जिनमें बाबूसिंह कुशवाहा, प्रेमचन्द्र प्रजापति, बाबूराम पाल रामसागर बिंद, रामकरण कश्यप, अनिल चौहान, कृष्णा पटेल और असदुद्दीन ओवैसी शामिल है. जो 2022 में 423 सीटों पर चुनाव लड़ने का मन बनाया है. उन्होंने कहा कि अभी हम हिन्दू- मुस्लिम में नफरत नहीं हम शिक्षा, स्वास्थ्य, नौकरी और रोजगार की बात करते हुए सरकार बनाने के प्रयास में है और यूपी में मुफ्त शिक्षा और स्वास्थ्य देकर 2022 में सरकार बनाएंगे. अखिलेश से मिलने की बात पर उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में समर्थन पर जो भी साथ आये उसका स्वागत है.
ओवैसी- राजभर की मुलाकात से बदला समीकरण

इससे पहले ओम प्रकाश राजभर और एआईएमआईएम (AIMIM) चीफ असदुद्दीन ओवैसी की मुलाकात हुई थी. सवाल यही है कि क्या बिहार गठबंधन में शामिल बसपा भी यूपी के चुनाव में AIMIM के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी. हालांकि, गठबंधन की तलाश शिवपाल यादव के साथ भी जारी है. यूपी में आम आदमी पार्टी के चुनाव लड़ने की घोषणा के बाद आप के साथ गठबंधन पर भी ओवैसी कहते हैं कि रास्ते सबके लिये खुले हैं. इसके अलावा अपना दल के कृष्णा पटेल गुट को भी ये महागठबंधन अपने साथ लाना चाहता है. फिलहाल ओवैसी की नज़र यूपी के 2022 के विधानसभा चुनाव पर है. बिहार में 5 विधायकों की जीत ने ओवैसी को कॉन्फिडेंस से भर दिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज