लाइव टीवी

हरदोई में फर्जी मिले 10 शिक्षक बर्खास्त, SIT जांच के बाद हुई मुन्ना भाइयों पर कार्रवाई

News18 Uttar Pradesh
Updated: December 7, 2019, 10:50 AM IST
हरदोई में फर्जी मिले 10 शिक्षक बर्खास्त, SIT जांच के बाद हुई मुन्ना भाइयों पर कार्रवाई
हरदोई में फर्जी मिले 10 शिक्षक बर्खास्त

बीएसए हेमंत राव ने बताया कि डॉ. भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय आगरा से बीएड सत्र 2004-05 के फर्जी और टेंपर्ड प्रमाण पत्र लगाकर 16 लोगों ने परिषदीय विद्यालयों में नौकरी पा ली थी. विशेष अनुसंधान दल (SIT) की जांच के बाद छह शिक्षकों को पहले ही बर्खास्त किया जा चुका है.

  • Share this:
हरदोई. हरदोई (Hardoi) में शुक्रवार शाम फर्जी डिग्री के आधार पर नौकरी पाने वाले 10 शिक्षकों को विशेष अनुसंधान दल की रिपोर्ट के बाद तत्काल प्रभाव से बर्खास्त कर दिया गया. वहीं उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के भी निर्देश दिए गए हैं. बीएसए हेमंत राव ने बताया कि डॉ. भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय आगरा से बीएड सत्र 2004-05 के फर्जी और टेंपर्ड प्रमाण पत्र लगाकर 16 लोगों ने परिषदीय विद्यालयों में नौकरी पा ली थी. विशेष अनुसंधान दल (SIT) की जांच के बाद छह शिक्षकों को पहले ही बर्खास्त किया जा चुका है. वहीं 10 अन्य शिक्षकों को भी बर्खास्त कर दिया गया है.

बीएसए के मुताबिक इनके वेतन पर तत्काल रोक लगा संबंधित बीईओ को रिपोर्ट दर्ज कराने के निर्देश दिए गए हैं. इसके साथ ही उन्हें बर्खास्त कर दिया गया है. बर्खास्त होने वालों में भरखनी के प्राथमिक विद्यालय तेरा के सतेंद्र कुमार, इसी ब्लाक के उच्च प्राथमिक विद्यालय अनंगपुर की आशू, हरपालपुर के प्राथमिक विद्यालय नरौथा के आनंद कुमार शाक्य, उच्च प्राथमिक विद्यालय मिरगावां के राधेश्याम, प्राथमिक विद्यालय मुर्वाशहाबुद्दीनपुर के अनिल कुमार शामिल हैं.

टोडरपुर ब्लाक के उच्च प्राथमिक विद्यालय सराय रानक के अभिषेक कुमार, माधौगंज ब्लाक के उच्च प्राथमिक विद्यालय शाहपुर वसुदेव की नमिता देवी, प्राथमिक विद्यालय मल्लाहनपुरवा के विजय कुमार राजन, सांडी के उच्च प्राथमिक विद्यालय लाहौरीपुरवा की ममता त्रिपाठी व अहिरोरी के प्राथमिक विद्यालय कसमंडी के शिक्षक गजेंद्र सिंह पर भी कार्रवाई की गई है.

बता दें इससे पहले भी वर्ष 2015 में फर्जी शिक्षकों का मामला सामने आया था जिसके बाद धीरे-धीरे मामले खुलते गए और 2017 तक आते-आते तकरीबन 100  फर्जी शिक्षकों को निकाल कर बाहर किया गया था. इसके बाद इस पूरे मामले की जांच एसआईटी को सौंप दी गई थी.

एसआईटी की जांच के बाद और भी फर्जी शिक्षक जो डॉक्टर भीमराव अंबेडकर यूनिवर्सिटी से फर्जी B.Ed की डिग्री लगाकर या फिर अन्य यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन, बीएड और बीटीसी की फर्जी दस्तावेज लगाकर नौकरी कर रहे थे.

ये भी पढे़ं:

उन्नाव गैंगरेप पीड़िता की मौत पर CM योगी ने जताया शोक, कहा- फास्ट ट्रैक कोर्ट से दिलाएंगे सजाप्रियंका गांधी ने योगी सरकार पर साधा निशाना, बोलीं- उन्नाव में 11 महीने में हुए 90 रेप

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए हरदोई से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 7, 2019, 10:50 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर