Home /News /uttar-pradesh /

two farmers died high tension line brother in law hanged in shock anger among people nodelsp

हाईटेंशन लाइन से दो किसानों की मौत, सदमे में साले ने भी दी जान, लोगों ने किया शव रखकर प्रदर्शन

खेत में टूटे पड़े हाइटेंशन लाइन के तारों की चपेट में आने से दो किसानों की मौत हो गई.

खेत में टूटे पड़े हाइटेंशन लाइन के तारों की चपेट में आने से दो किसानों की मौत हो गई.

Farmer death: खेत में टूटे पड़े हाईटेंशन लाइन के तारों की चपेट में आने से दो किसानों की मौत हो गई. बहनोई के हादसे का शिकार होने की खबर सुनते ही साले ने भी गांव के बाहर फांसी लगाकर जान दे दी. घटना के बाद लोगों का गुस्सा फूट पड़ा. उन्होंने इसके लिए बिजली महकमे को जिम्मेदार ठहराते हुए मुआवजे की मांग को लेकर प्रदर्शन किया.

अधिक पढ़ें ...

हरदोई. खेत में टूटे पड़े हाईटेंशन बिजली के तारों की चपेट में आने से दो किसानों की मौत हो गई थी. जबकि बहनोई के हादसे का शिकार होने की खबर सुनते ही उसके साले ने गांव के बाहर फांसी लगाकर खुद भी अपनी जान दे दी. इसका पता होते ही इलाके में अफरा-तफरी मच गई. घटना के बाद लोगों का गुस्सा फूट पड़ा. उन्होंने इसके लिए बिजली महकमे को जिम्मेदार ठहराते हुए मुआवजे की जोरदार तरीके से मांग उठाई. इससे पुलिस काफी देर तक उलझी रही. पुलिस और राजस्व टीम ने मौके पर पहुंच कर जांच-पड़ताल शुरू कर दी है.

बताते चलें कि बुधवार की शाम टड़ियावां थाने के ककरहा मजरा पुरवा देवरिया निवासी वीरपाल अपने बेटे अनुराग व गांव के सत्येन्द्र के साथ खेत पर गेहूं काटने जा रहा था. इसी बीच रास्ते में टूटे पड़े हाईटेंशन  बिजली के तारों की चपेट में आने से वीरपाल व सत्येन्द्र की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई थी, जबकि अनुराग बुरी तरह झुलस गया था. इस हादसे की खबर सुनते ही वीरपाल के 32 वर्षीय साले रमेश पुत्र खिन्ना निवासी रावल थाना टड़ियावां को ऐसा सदमा पहुंचा कि उसने भी बुधवार की देर रात गांव के किनारे आम के बाग में फांसी लगाकर जान दे दी. इसका पता होते ही इलाके में अफरा-तफरी मच गई.

एसएचओ राजेश मिश्रा अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंचें. उन्होंने शव को कब्जे में लिया. हादसे को लेकर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा. इसके लिए बिजली महकमे को जिम्मेदार मानते हुए मुआवजे की मांग करते हुए अड़ गए. जिस पर एसएचओ ने उन्हें समझाने की कोशिश की, लेकिन कोई नहीं माना. इसके बाद एसएचओ की जानकारी पर सदर तहसीलदार डा. प्रतीक त्रिपाठी, कानूनगो और लेखपाल ने मौके पर पहुंच कर तुरंत मुआवज़ा दिलाने का भरोसा देते हुए शवों को कब्जे में लेकर पंचनामा कराया गया.

आधी रात तक पड़े रहे शव
करंट की चपेट में आने से हुई दो किसानों की मौत और उसके बाद किसान के साले की मौत पर लोगों के गुस्से के आगे पुलिस बेचारी बन गई. मुआवजे की मांग पर अड़े लोगों ने शवों को हाथ नहीं लगाने दिया. नतीजतन आधी रात तक तीनों शव पड़े रहे. अफसरों के दखल के बाद पुलिस ने शवों को अपने कब्ज़े में लिया.

बिखर गया रमेश का कुनबा
बहनोई वीरपाल की मौत की खबर सुनते ही उसके साले रमेश ने भी फांसी लगाकर मौत को गले लगा लिया. रमेश खेती-बाड़ी करके किसी तरह अपना और अपने बच्चों का पेट पाल रहा था. उसके इस तरह कदम उठा लेने से सारा कुनबा टूट कर बिखर गया. रमेश की इस तरह हुई मौत से पत्नी और उसके बच्चों का हाल-बेहाल है.

मौत और जिंदगी से जूझ रहा है अनुराग
हाईटेंशन बिजली का करंट लगने से झुलसे किसान वीरपाल का बेटा अनुराग लखनऊ में मौत और जिंदगी के बीच जूझ रहा है. उसका मेडिकल कालेज में इलाज चल रहा है. अनुराग की हालत फिलहाल नाजुक बनी हुई थी. इलाज कर रहे डाक्टर उसकी हालत में देर से सुधार होने की बात कह रहें.

Tags: Farmer Death, Hardoi crime news, UP news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर