अपना शहर चुनें

States

हाथरस में पशुओं के जारी हो रहे आधार कार्ड, कान पर Tag लगाकर दिया जा रहा नम्बर

हाथरस में पशुओं की टैगिंग शुरू हो गई है, इसके तहत उनके लिए आधार कार्ड जारी किए जा रहे हैं.
हाथरस में पशुओं की टैगिंग शुरू हो गई है, इसके तहत उनके लिए आधार कार्ड जारी किए जा रहे हैं.

हाथरस (Hathras) में मुख्य उप पशु चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर बी गोयल ने राष्ट्रीय पशु रोग नियंत्रण कार्यक्रम के तहत यह कार्यक्रम तैयार किया है. इस कार्यक्रम के अंतर्गत पशुओं के आधार कार्ड जारी किए जाएंगे, जिसमें पशुओं को विशिष्ट पहचान संख्या के टैग डाले जाएंगे एवं रोगों से बचाव हेतु खुरपका, मुंह पका एवं ब्रूसेलोसिस से बचाव हेतु निशुल्क टीकाकरण किया जाएगा.

  • Share this:
हाथरस. पशुओं को खुरपका, मुंह पका और तमाम बीमारियों से बचाने के लिए उत्तर प्रदेश में जानवरों की टैगिंग व्यवस्था शुरू हो गई है. इसके तहत हाथरस (Hathras) में अब पशुओं के भी आधार कार्ड (Aadhar Card) जारी किए जा रहे हैं. यहां पशुओं के आधार कार्ड बनाने का अभियान शुरू हो गया है, जिसके तहत सभी पशुओं को विशिष्ट पहचान संख्या के टैग डाले जाएंगे और यह संख्या पूरे देश में एक ही पशु को दी जाएगी. कोड नंबर के आधार पर पशु स्वामी का विवरण कंप्यूटर में संकलित किया जाएगा.

राष्ट्रीय पशु रोग नियंत्रण कार्यक्रम के तहत शुरू हुआ कार्यक्रम

मुख्य उप पशु चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर बी गोयल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा गत वर्ष राष्ट्रीय पशु रोग नियंत्रण कार्यक्रम के तहत यह कार्यक्रम तैयार किया है. इस कार्यक्रम के अंतर्गत पशुओं के आधार कार्ड जारी किए जाएंगे, जिसमें पशुओं को विशिष्ट पहचान संख्या के टैग डाले जाएंगे एवं रोगों से बचाव हेतु खुरपका, मुंह पका एवं ब्रूसेलोसिस से बचाव हेतु निशुल्क टीकाकरण किया जाएगा.



हर पशु को मिलेगी विशिष्ट पहचान संख्या
सादाबाद ब्लॉक की की 51 ग्राम पंचायतों में घर-घर जाकर पशुओं के कान में प्लास्टिक का टैग लगाया जा रहा है, जिस पर 12 अंकों की एक विशिष्ट पहचान संख्या अंकित है. यह संख्या पूरे देश में एक ही पशु को दी गई है. इस कोड नंबर के आधार पर पशु एवं पशु स्वामी का विवरण कंप्यूटर में संकलित किया जाएगा. हर ग्राम सभा से 2 व्यक्तियों का चयन वैक्सीनेटर एवं सहायक के रूप में किया गया है. यह चयनित व्यक्ति वैक्सीनेटर एवं सहायक अपनी अपनी ग्रामसभा के सभी पशुओं को यह विशिष्ट पहचान संख्या वाले टैग लगाएंगे. वहीं पशुधन प्रसार अधिकारी नेहा शर्मा द्वारा टैग लगाने और उनके अनुसार विवरण इनाफ पोर्टल पर अपलोड करने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है.

ये भी पढ़ें:

आर्थिक तंगी से परेशान पिता ने किया पत्नी और 3 बच्चों की हत्या कर सुसाइड

प्रतापगढ़ एक्सीडेंट: स्कॉर्पियो काटकर निकले 9 शव तो गांववालों के छलके आंसू
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज