हाथरसः मशहूर कथावाचक मोरारी बापू की विवादित टिप्पणी पर बवाल, यादव महासभा ने गवर्नर से की शिकायत
Hathras News in Hindi

हाथरसः मशहूर कथावाचक मोरारी बापू की विवादित टिप्पणी पर बवाल, यादव महासभा ने गवर्नर से की शिकायत
मोरारी बापू पर श्री कृष्ण के बड़े भाई बलदाऊ पर भी आपत्तिजनक टिप्प्णी का आरोप लगाया गया है. (फाइल फोटो)

अखिल भारतीय यादव महासभा की माने तो कथावाचक मोरारी बापू (Morari Bapu) ने एक चैनल पर रामकथा के दौरान भगवान श्रीकृष्ण का जिक्र करते हुए कुछ टिप्पणियां की है.

  • Share this:
हाथरस. उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले (Hathras District) में एक बड़ी खबर सामने आई है. यहां के कोतवाली सहपऊ क्षेत्र में कथावाचक मोरारी बापू (Morari Bapu) को लेकर लोगों में भारी आक्रोश है. अखिल भारतीय यादव महासभा (All India Yadav Mahasabha) के बैनर तले कथा वाचक मोरारी बापू के खिलाफ राज्यपाल के नाम कोतवाली प्रभारी को ज्ञापन सौंपा गया है और कार्रवाई की मांग की है. महासभा के लोगों का कहना है कि मोरारी बापू ने भगवान श्रीकृष्ण पर अमर्यादित टिप्पणी की है, जिससे उनकी भावनाएं आहत हुई हैं.

दरअसल, अखिल भारतीय यादव महासभा की माने तो कथावाचक मोरारी बापू ने एक चैनल पर रामकथा के दौरान भगवान श्रीकृष्ण का जिक्र करते हुए कुछ टिप्पणियां की है. महासभा के लोगों का कहना है कि इस दौरान मोरारी बापू ने भगवान श्रीकृष्ण और भगवान बलराम के खिलाफ अमर्यादिक शब्दों का प्रयोग किया था. यही वजह है कि हाथरस के सहपऊ क्षेत्र के लोगों में भारी आक्रोश व्याप्त है.

मोरारी बापू के खिलाफ कोतवाली प्रभारी को राज्यपाल के नाम एक ज्ञापन सौंपा
वहीं, अखिल भारतीय यादव महासभा के जिलाध्यक्ष बृजेश कुमार ने अखिल भारतीय यादव महासभा के बैनर तले लोगों को एकत्रित कर कथा वाचक मोरारी बापू के खिलाफ कोतवाली प्रभारी को राज्यपाल के नाम एक ज्ञापन सौंपा है. साथ ही कथा वाचक मोरारी बापू के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की मांग की गई है. जिलाध्यक्ष का कहना है कि या तो मोरारी बापू माफी मांगे नहीं तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी. क्योंकि उनके इस वक्तव्य से कृष्ण भक्तों की भावनाएं आहत हुई हैं. वहीं, कोतवाली प्रभारी ने ज्ञापन लेकर आगे के लिए भेज दिया है.



मोरारी बापू को लेकर सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था


बता दें कि हाल ही में मोरारी बापू को लेकर सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था. इस वीडियों में उन्हें व्यासगद्दी से उन्हें अल्लाह को पुकारते हुए सुना गया था. इसके बाद सनातनधर्मी उनके विरोध में सोशल मीडिया पर उतर आए थे. कथित कथावाचकों के खिलाफ न केवल संत, साधकों ने मोर्चा खोला था बल्कि सोशल मीडिया पर कड़ी बहस भी शुरू हो गई थी.

ये भी पढ़ें- 

कांग्रेस सोशल मीडिया पर सरकार को बता रही है बारिश में कितना बर्बाद हुआ अनाज

सिंधिया को झटका:BJP छोड़ कांग्रेस में लौटे माधवराव के बाल सखा बालेंदु शुक्ल

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading