BJP विधायक सुरेंद्र सिंह बोले- जवान बेटी को बनाएं संस्कारिक, तब ही रुकेंगी रेप की घटनाएं

BJP विधायक सुरेंद्र सिंह बोले- जवान बेटी को बनाएं संस्कारिक (file photo)
BJP विधायक सुरेंद्र सिंह बोले- जवान बेटी को बनाएं संस्कारिक (file photo)

बीजेपी विधायक (BJP MLA) ने कहा कि ये सबका धर्म है. सरकार और परिवार दोनों का. जहां सरकार का रक्षा करने का धर्म है वहीं परिवार का भी धर्म है कि वो अपने बच्चों में संस्कार डाले.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 4, 2020, 4:31 PM IST
  • Share this:
बलिया. बलिया जिले के बैरिया क्षेत्र के बीजेपी विधायक (BJP MLA) सुरेंद्र सिंह (Surendra Singh) ने रेप की घटनाओं पर विवादित बयान दिया है. बलिया के बैरिया से विधायक सुरेंद्र सिंह ने कहा कि सभी माता-पिता अपनी लड़कियों को अच्छे संस्कार दें, तब ही रेप की घटनाएं रुक सकती हैं. दरअसल, सुरेंद्र सिंह से एक पत्रकार ने सवाल किया कि कहा जाता है कि ये रामराज्य चल रहा है. इस रामराज्य में रेप जैसी घटनाएं आए दिन हो रही हैं. इसका क्या कारण है. विधायक से हाथरस कांड पर पर प्रतिक्रिया मांगी गई थी. सुरेंद्र सिंह ने कहा कि मैं विधायक के साथ एक शिक्षक हूं. ये घटनाएं संस्कार से रुक सकती हैं. शासन और तलवार से रुकने वाली नहीं हैं. सभी माता-पिता का धर्म है कि अपनी जवान बेटी को एक संस्कारिक वातावरण में रहने, चलने और शालीन व्यवहार प्रस्तुत करने का तरीका सिखाएं.

सबको मिलनी चाहिए सुरक्षा

बीजेपी विधायक ने कहा कि ये सबका धर्म है. सरकार और परिवार दोनों का. जहां सरकार का रक्षा करने का धर्म है वहीं परिवार का भी धर्म है कि वो अपने बच्चों में संस्कार डाले. सरकार और संस्कार मिलकर भारत को एक सुंदर रूप दे सकते हैं. सिंह ने कहा कि दलित हो या ब्राह्मण हो, सबकी बेटी, बेटी ही होती है. सबको सुरक्षा मिलनी चाहिए, लेकिन विपक्षी पार्टी अपने फायदे के लिए दलित की बेटी कहकर समाज को बांटने में लगे हुए हैं. राहुल गांधी और प्रियंका गांधी लाख कोशिश कर लें उत्तर प्रदेश की जमीन पर कांग्रेस स्थापित होने वाली नहीं हैं.





एसआईटी (SIT) की टीम पीड़िता के परिवार के सदस्यों का आज बयान दर्ज कर रही है. इस मामले में पीड़िता की मां और दो भाइयों के बयान लिए जा चुके हैं और कुछ सदस्यों का बयान लिया जाना बाकी है. एसआईटी की टीम के साथ एक एंबुलेंस भी गांव पहुंची है. इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एसआईटी को निर्देश दिया था कि वह हाथरस केस की प्राथमिक जांच सात दिन में पूरी करे. एसआईटी की टीम  सभी पहलू पर जांच कर रही है. वहीं एसआईटी आज अपनी दूसरी रिपोर्ट शासन को पेश करेगी.

डीएम पर कार्रवाई की तैयारी

सूत्रों के मुताबिक रिपोर्ट शासन को पहुंचने के बाद जिलाधिकारी हाथरस पर कार्रवाई हो सकती है. उधर, योगी सरकार ने केंद्र सरकार से सीबीआई जांच की सिफारिश की है. लेकिन पीड़ित परुवार सीबीआई जांच की सिफारिश संतुष्ट नजर नहीं आया.

(रिपोर्ट- मनीष मिश्रा)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज