हाथरस मामला: BJP विधायक के बिगड़े बोल, कहा- बेटियों को अच्छी शिक्षा देने से रुकेंगे रेप

योगी सरकार ने हाथरस की घटना की सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी है. हालांकि पीड़ित परिवार का कहना है कि उन्होंने इसकी मांग नहीं की है (फोटो: न्यूज़ 18)
योगी सरकार ने हाथरस की घटना की सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी है. हालांकि पीड़ित परिवार का कहना है कि उन्होंने इसकी मांग नहीं की है (फोटो: न्यूज़ 18)

बलिया से विधायक सुरेंद्र सिंह (BJP MLA Surendra Singh) ने कहा कि ना शासन से, ना तलवार से बल्कि अच्छे संस्कारों से ही इस तरह की घटनाओं को रोका जा सकता है. सभी परिवारों को अपनी बेटियों को अच्छी शिक्षा दी जानी चाहिए. केवल सरकार और अच्छे मूल्यों के मेलजोल से ही देश को बेहतर बनाया जा सकता है

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 4, 2020, 9:28 AM IST
  • Share this:
हाथरस. अपने बयानों को लेकर अक्सर चर्चाओं में रहने वाले बीजेपी के विधायक सुरेंद्र सिंह (BJP MLA Surendra Singh) ने हाथरस की घटना (Hathras Case) पर अजीबोगरीब बयान दिया है. न्यूज़ एजेंसी एएनआई के अनुसार उन्होंने अपने ताजा बयान में कहा कि ना शासन से, ना तलवार से बल्कि अच्छे संस्कारों से ही इस तरह की घटनाओं को रोका जा सकता है. सभी परिवारों को अपनी बेटियों को अच्छी शिक्षा दी जानी चाहिए. केवल सरकार और अच्छे मूल्यों के मेलजोल से ही देश को बेहतर बनाया जा सकता है.



इससे पहले, शनिवार को योगी आदित्यनाथ सरकार (Yogi Government) ने हाथरस की घटना (Hathras Incident) की सीबीआई जांच की सिफारिश की. इस पर पीड़िता के भाई ने कहा कि परिवार ने इसकी मांग नहीं की है, इस मामले की SIT जांच पहले से चल रही है.
SIT की टीम दर्ज नहीं कर सकी पीड़िता के पिता का बयान



वहीं शनिवार देर शाम पीड़ित परिवार का बयान दर्ज करने के लिए एसआईटी की टीम हाथरस पहुंची. मगर वो पीड़िता के पिता की खराब स्थिति (स्वास्थ्य) को देखते हुए उनका बयान नहीं ले सकी. एसआईटी टीम के एक अधिकारी ने कहा कि SIT के जांच अधिकारी ने कहा कि पीड़िता के पिता अभी इस हालत में नहीं हैं कि वो बैठकर लंबा बयान दे सकें. जब उनकी तबीयत ठीक होगी तब हम फिर आ जाएंगे. इसके अलावा वो (परिवार) किसी का बयान अगर कराना चाहते हैं या कोई और बात बताना चाहते हैं, तो हम यह जानने आए हैं.

बता दें कि बीते 14 सितंबर को गांव की 19 वर्षीय एक दलित लड़की के साथ गैंगरेप की घटना सामने आई थी. इसका आरोप वहीं के चार युवकों पर लगा था. मामला सामने आने पर पुलिस ने कार्रवाई करते हुए आरोपियों को गिरफ्तार कर उन्हें जेल भेज दिया. बुरी तरह घायल पीड़िता की तीन दिन पहले इलाज के दौरान दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गई थी. अस्पताल के मेडिकल रिपोर्ट में बताया गया कि पीड़िता के साथ रेप नहीं हुआ है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज