Hathras Case: CBI की टीम ने शुरू की जांच, क्राइम स्‍पॉट पर लाया गया पीड़ता का भाई

हाथरस केस में मामले की जांच करने के लिए घटना स्थल पर पहुंची सीबीआई की टीम.
हाथरस केस में मामले की जांच करने के लिए घटना स्थल पर पहुंची सीबीआई की टीम.

हाथरस कांड (Hathras Case)में गंभीर रूप से घायल युवती की इलाज के दौरान दिल्‍ली के सफदरजंग अस्‍पताल में मौत हो गई थी. इसके बाद इस मामले ने तूल पकड़ लिया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 13, 2020, 4:18 PM IST
  • Share this:
हाथरस. CBI की टीम ने हाथरस कांड (Hathras case) की छानबीन की औपचारिक शुरुआत कर दी है. टीम में शामिल अधिकारी मंगलवार को क्राइम स्‍पॉट पर पहुंचे. पीड़‍िता के भाई को भी घटनास्‍थल पर बुलाया गया है, ताकि घटना के बारे में पूरी जानकारी जुटाई जा सके. हाथरस कांड में गंभीर रूप से घायल युवती की इलाज के दौरान दिल्‍ली के सफदरजंग अस्‍पताल (Safdarjung Hospital) में मौत हो गई थी. इसके बाद इस मामले ने तूल पकड़ लिया था. बाद में उत्‍तर प्रदेश सरकार ने मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी थी.

जानकारी के मुताबिक, करीब 15 लोगों की टीम हाथरस क्राइम लोकेशन पर पहुंची है. दुष्कर्म पीड़िता के भाई को भी सीबीआई की टीम ने क्राइम लोकेशन पर बुलया है. दरअसल, सीबीआई की टीम ने मौके की जांच में मदद मांगने के लिए पीड़िता के भाई  को बुलाया है. वहीं, तबीयत खराब होने की सूचना मिलने के बाद मृतका की मां को स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है. सीबीआई की टीम घटना स्थल का वीडियो रिकॉर्डिंग करवा रही है.

पिता की तबीयत बिगड़ गई है
वहीं, कुछ देर पहले खबर सामने आई थी कि पीड़िता के पिता की तबीयत बिगड़ गई है. पता चला है कि पिता ने खराब तबियत के बावजूद अस्पताल जाने से मना कर दिया है. मामले की सूचना जिला प्रशासन को हुई तो स्वास्थ्य विभाग से खुद सीएमओ पीड़िता के गांव रवाना हुए. उन्होंने कहा कि वह खुद जाकर पीड़ि‍ता के पिता को इलाज के लिए मनाएंगे.







पीड़िता के पिता हॉस्पिटल जाने को तैयार नहीं हैं
सीएमओ बृजेश राठौड़ ने कहा कि सूचना मिली है कि पीड़िता के पिता बीमार हैं. उनका ब्लड प्रेशर हाई है. मैं जा रहा हूं, देखता हूं. सीएमओ ने बताया कि पीड़िता के पिता हॉस्पिटल जाने को तैयार नहीं हैं. कह रहे हैं कुछ और दिक्कतें भी हैं. हम गांव जा रहे हैं. गांव पहुंचकर मैं खुद उनसे बात करूंगा. सीएमओ ने कहा कि हम उन्हें जिला चिकित्सालय लेकर जाएंगे, जो इलाज हम कर पाएंगे करेंगे, अगर जरूरी हुआ तो लेकर जाएंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज