हाथरस कांड: TMC सांसद प्रतिभा मंडल ने ज्वाइंट मजिस्ट्रेट प्रेम मीणा पर लगाया अभद्रता का आरोप, थाने में दी तहरीर

टीएमसी सांसद प्रतिभा मंडल ने हाथरस के ज्वाइंट मजिस्ट्रेट प्रेम मीणा के खिलाफ तहरीर दी (Photo: News18)
टीएमसी सांसद प्रतिभा मंडल ने हाथरस के ज्वाइंट मजिस्ट्रेट प्रेम मीणा के खिलाफ तहरीर दी (Photo: News18)

हाथरस (Hathras) में ज्वाइंट मजिस्ट्रेट प्रेम प्रकाश मीणा पर महिला सांसद प्रतिभा मंडल, पूर्व सासंद ममता ठाकुर को धक्का देकर भागने और अभद्रता करने का आरोप लगाया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 3, 2020, 10:51 AM IST
  • Share this:
हाथरस. उत्तर प्रदेश के हाथरस (Hathras) में गैंगरेप की पीड़िता की मौत के बाद उसके परिवार से मिलने को लेकर राजनीतिक दलों और जिला प्रशासन के बीच ठनी हुई है. मामले में शुक्रवार को तृणमूल कांग्रेस (TMC) के चार सांसद हाथरस पहुंचे और यहां उन्होंने पीड़िता के परिवार से गांव में मिलने की कोशिश की. लेकिन इस दौरान भारी संख्या में तैनात पुलिस और प्रशासन की टीमों ने सांसदों को एंट्री नहीं दी. काफी देर तक सांसद और प्रशासन के अफसरों के बीच झड़प चलती रही. इस दौरान टीएमसी की महिला सांसदों ने ज्वाइंट मजिस्ट्रेट प्रेम प्रकाश मीणा पर अभद्रता करने और धक्का देकर भागने का आरोप लगाया.

महिला सांसदों को धक्का देकर भागे

कोतवाली चंदपा क्षेत्र के गांव बूलगडी के बाहर पुलिस बैरिकेटिंग का ये मामला है. टीएमसी की सांसद प्रतिभा मंडल ने ज्वाइंट मजिस्ट्रेट प्रेम प्रकाश मीणा के खिलाफ थाने में मुकदमा लिखने की तहरीर दी है. इसमें उन्होंने बताया कि पीड़ित परिवार से मिलने महिला सांसद उनके गांव पहुंची थी. ज्वाइंट मजिस्ट्रेट द्वारा महिला सांसद प्रतिभा मंडल, पूर्व सासंद ममता ठाकुर को धक्का देकर भागने और अभद्रता करने का आरोप लगाया है. टीएमसी की महिला सांसदों ने ज्वाइंट मजिस्ट्रेट प्रेम प्रकाश मीणा के खिलाफ कोतवाली चंदपा में एएसपी हाथरस प्रकाश कुमार को लिखित रूप से शिकायत देकर कार्रवाई की मांग की है.



Hathras TMC4
टीएमसी सांसद की तहरीर



पीड़ित परिवार ने डीएम पर कार्रवाई की मांग की

उधर लगातार तीन दिन से अपने गांव में 'बंधक' है. पूरे गांव को प्रशासन और पुलिस ने लगातार सील किया हुआ है. मीडियाकर्मियों के साथ ही गांव में किसी को प्रवेश की इजाजत नहीं दी जा रही है. उधर योगी सरकार द्वारा एसपी सहित पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की गई लेकिन पीड़ित परिवार संतुष्ट नहीं है. 3 दिन से परिवार नजरबंद है और सरकार द्वारा डीएम पर कार्रवाई नहीं होने से परिजनों में आक्रोश है. बता दें शुक्रवार को डीएम प्रवीण लक्षकार पर पीड़ित परिवार से मारपीट करने और मोबाइल छीनने का आरोप लगा था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज