हाथरस गैंगरेप: पीड़िता की रीढ़ की हड्डी टूटी, गांव में PAC तैनात, SP बोले- बिटिया को दिया जा रहा बेस्ट मेडिकल केयर

हाथरस पुलिस अधीक्षक विक्रांत वीर
हाथरस पुलिस अधीक्षक विक्रांत वीर

Hathras Dalit Gangrape: पुलिस अधीक्षक विक्रांत वीर ने कहा कि पीड़िता को बेस्ट मेडिकल केयर दिया जा रहा है. उन्होंने कहा कि आरोपियों द्वारा जान से मारने की नियत से गला दबाते समय पीड़िता के गले के पीछे की रीढ़ की हड्डी में फ्रैक्चर है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 27, 2020, 4:33 PM IST
  • Share this:
हाथरस. उत्तर प्रदेश के हाथरस (Hathras) में कथित सामूहिक बलात्कार (Gang Rape) की पीड़िता की हालत काफी नाजुक बनी हुई है. इस घटना के बाद पूरे इलाके में तनाव का माहौल है. प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी (BSP) की अध्यक्ष मायावती (Mayawati) ने इस घटना को लेकर यूपी की कानून-व्यवस्था पर सवाल उठाया है और दोषियों के खिलाफ अविलंब कार्रवाई की मांग की है. पुलिस अधीक्षक विक्रांत वीर ने कहा कि पीड़िता को बेस्ट मेडिकल केयर दिया जा रहा है. उन्होंने कहा कि आरोपियों द्वारा जान से मारने की नियत से गला दबाते समय पीड़िता के गले के पीछे की रीढ़ की हड्डी में फ्रैक्चर है. डॉक्टरों ने बताया है कि समुचित इलाज किया जा रहा है. अभी फ़िलहाल दिल्ली रेफर करने की जरूरत नहीं है.

पीड़िता के परिजनों का आरोप है कि गांव में ठाकुर जाति के दबंग लोगों ने उन्नाव जैसी जघन्य घटना को दोहराने की बात करते हुए जान से मारने की धमकी दी है. पीड़ित परिजनों की शिकायत पर गांव के अंदर पीएसी तैनात कर दी गई है. भारी संख्या में पुलिस फ़ोर्स भी तैनात है. पीड़ित के पिता ने कहा कि बिटिया की रीढ़ की हड्डी टूट गई है, जिससे उसके शरीर के आधे हिस्से ने काम करना बंद कर दिया है. डॉक्टरों के मुताबिक बिटिया की हालत लगातार नाजुक बनी हुई है.

एसपी ने कही ये बात



बता दें कि 19 साल की इस युवती को अलीगढ़ के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां पर वह जीवन और मृत्यु के बीच जूझ रही है. उसे वेंटीलेटर पर रखा गया है. अधिकारियों ने इसकी जानकारी दी. हाथरस के पुलिस अधीक्षक विक्रांत वीर (Vikram Veer) ने बताया कि 14 सितंबर को हुये इस सामूहिक दुष्कर्म के मामले में चारों नामजद आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है. एसपी ने बताया कि उन्होंने जेएन मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों से पीड़िता की हालात के बारे में जानकारी ली. डॉक्टरों ने बताया कि बेस्ट मेडिकल सुविधाएं दी जा राही है. पूरा इलाज मुफ्त चल रहा है.
Hathras gangrape
हाथरस गैंगरेप पीड़िता के परिजनों ने इलाज से जताई संतुष्टि (News18)


सभी आरोपी गिरफ्तार

दुष्कर्म के बाद पीड़िता के साथ हैवानियत की गई थी. इस मामले में आरोपियों की पहचान गांव के ही रहने वाले संदीप, लवकुश, रामू और रवि के रूप में हुई थी. हाथरस पुलिस अधीक्षक ने बताया कि संदीप को 14 सितंबर को ही गिरफ्तार कर लिया गया था. घटना के कई दिन बीत जाने के बाद पुलिस ने रामू और लवकुश को गिरफ्तार किया. वहीं फरार चल रहे चौथे आरोपी रवि को 26 सितंबर को पुलिस ने गिरफ्तार करते हुए जेल भेज दिया है. एसपी ने बताया कि पीड़िता के बयान के मुताबिक सम्बंदित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. साथ ही मुआवजे के लिए समाज कल्याण विभाग को भी लिखा गया था जो स्वीकृत कर लिया गया है.

मायावती ने उठाए सवाल

गौरतलब है कि इस मामले में रविवार को बीएसपी प्रमुख मायावती ने एक ट्वीट में लिखा, यूपी के जिला हाथरस में एक दलित लड़की को पहले बुरी तरह से पीटा गया, फिर उसके साथ गैंगरेप किया गया, जो अति-शर्मनाक व अति-निंदनीय है जबकि अन्य समाज की बहन-बेटियां भी अब यहां प्रदेश में सुरक्षित नहीं हैं. सरकार इस ओर जरूर ध्यान दे, बीएसपी की यह मांग. उधर भीम आर्मी प्रमुख चन्द्रशेखर आज़ाद भी पीड़िता से मिलने के लिए रवाना हुए लेकिन पुलिस ने उन्हें रास्ते में ही रोक दिया.

ये है पूरा मामला

दरअसल, हाथरस के थाना चंदपा क्षेत्र के गांव बुलगढ़ी में अपनी मां के साथ खेत पर चारा लेने के लिए गई  युवती  के साथ गांव के ही दबंगों ने पहले तो दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया. उसके बाद उसे जान से मारने की कोशिश की, लेकिन युवती के चीखने-चिल्लाने से मौके पर ग्रामीणों को आता देख दबंग वहां से फरार हो गए. इसके बाद पीड़ित युवती के परिजनों ने पुलिस को सूचना दी. सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने गंभीर रूप से घायल युवती को अलीगढ़ के मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया. पुलिस ने परिजनों की तहरीर पर आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है.

इस मामले में एसपी  विक्रांत वीर ने कहा कि पुलिस ने घटना के 6 दिन बाद तीन लोगों की गिरफ्तारी कर ली थी. चौथे आरोपी को पुलिस ने कल गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. पुलिस द्वारा जब पीड़िता के परिजनों का बयान लिया गया तो उस बयान में पीड़िता के परिजनों ने पुलिस की कार्रवाई से संतुष्टि जताई. परिजनों के कहा कि मेडिकल कॉलेज में इलाज चल रहा है. अगर जरूरत पड़ी तो दिल्ली रेफर करने की मांग की जाएगी. वहीं पुलिस द्वारा इस मामले की विवेचना का निस्तारण कर फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलाने के लिए आवश्यक विधिक कार्रवाई की जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज