हाथरस गैंगरेप : मेडिकल रिपोर्ट में दावा- पीड़िता का नहीं हुआ था यौन शोषण, गला दबाने से टूटी थी रीढ़ की हड्डी

हाथरस कथित गैंगरेप मामले में डीएम और एसपी ने मीडिया को दी जानकारी
हाथरस कथित गैंगरेप मामले में डीएम और एसपी ने मीडिया को दी जानकारी

Hathras Gangrape Case: इसी बीच पीड़िता की मेडिकल रिपोर्ट सामने आई है जिसमें कहा गया है कि मृतका का किसी भी प्रकार का यौन शोषण नहीं किया गया था. गला दबाने की वजह से उनकी रीढ़ की हड्डी टूटी थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 29, 2020, 4:19 PM IST
  • Share this:
हाथरस. उत्तर प्रदेश के हाथरस (Hathras) जनपद के चंदपा क्षेत्र के बुलगाड़ी में 14 सितंबर को बाल्मीकि समाज की एक 19 वर्षीया युवती के साथ दरिंदगी के बाद अब उसकी मौत से प्रदेश का सियासी पारा एक बार फिर गरमा गया है. योगी सरकार (Yogi Government) एक बार फिर महिला अपराध को लेकर विपक्ष के निशाने पर है. इस बीच अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज की रिपोर्ट ने मामले में नया मोड़ ला दिया है.

इसी बीच पीड़िता की मेडिकल रिपोर्ट सामने आई है, जिसमें कहा गया है कि मृतका के साथ किसी भी प्रकार का यौन शोषण नहीं किया गया था. गला दबाने की वजह से उनके पीछे की रीढ़ की हड्डी टूटी थी. बता दें यह मेडिकल रिपोर्ट अलीगढ़ के जेएन मेडिकल कॉलेज की है, जहां पीड़िता का इलाज चला था. सोमवार को तबीयत बिगड़ने पर उन्‍हें दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में एडमिट कराया गया था, जहां मंगलवार सुबह उन्‍होंने दम तोड़ दिया. हालांकि, अभी मृतका का पोस्टमार्टम दिल्ली में किया जा रहा है, जिसका भी इंतजार पुलिस कर रही है.

14 सितंबर की है घटना
बता दें 14 सितंबर को 19 वर्षीया पीड़िता अपनी मां के साथ चारा लेने गई थी. तभी गांव के ही दबंगों ने उस पर हमला बोला था. पहले भाई की तरफ से दी गई तहरीर के आधार पर पुलिस ने आईपीसी की धारा 307 यानी जान से मारने की कोशिश का मामला दर्ज किया गया था. इसमें एक आरोपी संदीप को नामजद बनाया गया था. लेकिन इसके बाद जब पीड़िता के 161 और 164 के तहत बयान दर्ज हुए तो उसने अपने साथ रेप और तीन अन्य लोगों का भी नाम लिया. जिसके बाद पुलिस ने गैंगरेप की धारा 376डी बढ़ाते हुए तीन अन्य आरोपियों को भी आरोपी बनाया. इस मामले में सभी आरोपी संदीप, लवकुश, रामकुमार और रवि को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. अब सभी के खिलाफ आईपीसी की धारा 302 तामील कराई गई है.




मां ने कही थी ये बात
हमले के बाद मीडिया से बातचीत में मृतका की मां ने बताया था कि वह बेटी के साथ चारा काटने गई थी. बेटी आगे चल रही थी और वह कुछ दूरी पर थीं. तभी संदीप नाम के युवक ने पीछे से उस पर हमला किया और गला दबाने लगा. इस बीच शोर मचाने पर जब ग्रामीण आए तो आरोपी भाग गया. कुल मिलकर इस मामले में शुरुआत से ही भ्रम की स्थिति बनी हुई है. यही वजह थी कि मामले में पुलिस ने बाद में गैंगरेप की धारा को जोड़ा था.

पीड़िता के परिवार को अभी तक मिली 10 लाख की मदद
घटना के बाद और अब पीड़िता की मौत होने पर हाथरस जिला प्रशासन ने परिवार को 10 लाख रुपये की आर्थिक मदद दी है. जिलाधिकारी हाथरस प्रवीण कुमार लक्षकार ने पीड़िता के परिजनों को 5 लाख 87 हजार 500 रुपये की सहायता धनराशि देने की घोषणा की. इससे पहले प्रशासन द्वारा पीड़िता के परिजनों को 4 लाख 12 हजार 500 रुपये की सहायता राशि प्रदान की जा चुकी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज