हाथरस कांड: परिवार को नहीं सौंपा गया पीड़िता का शव, पुलिस ने रात में ही कर दिया अंतिम संस्कार

पुलिस ने किया पीड़िता का अंतिम संस्कार
पुलिस ने किया पीड़िता का अंतिम संस्कार

Hathras Incident: पुलिस और प्रशासन के इस रवैये से परिजनों व ग्रामीणों में भारी आक्रोश है. इतना ही नहीं मीडिया को भी कवरेज से रोक दिया गया और बदसलूकी की गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 30, 2020, 6:56 AM IST
  • Share this:
हाथरस. उत्तर प्रदेश के हाथरस (Hathras) जनपद के चंदपा क्षेत्र के बुलगाड़ी में कथित गैंगरेप (Gangrape) की शिकार पीड़िता की मौत के बाद पुलिस और जिला प्रशासन का शर्मनाक चेहरा सामने आया है. दिल्ली से शव लाने के बाद पुलिस ने उसे परिवार को नहीं सौंपा और रात में ही बिना रीति रिवाज के पीड़िता का अंतिम संस्कार कर दिया गया. पुलिस और प्रशासन के इस रवैये से परिजनों व ग्रामीणों में भारी आक्रोश है. इतना ही नहीं मीडिया को भी कवरेज से रोक दिया गया और बदसलूकी की गई.

इससे पहले जब शव गांव पहुंचा तो उसे परिजनों को नहीं सौंपा गया. इसके बाद परिजनों ने एम्बुलेंस के सामने लेटकर आक्रोश जताया. इस दौराम एसडीएम पर परिजनों के साथ बदसलूकी करने का आरोप लगा. इसके बाद पुलिस और ग्रामीणों में झड़प हो गई. दरअसल, परिजन रात में शव का अंतिम संस्कार नहीं करना चाहते थे, जबकि पुलिस तुरंत अंतिम संस्कार कराना चाहती थी. इसके बाद आधी रात के बाद करीब 2:40 बजे बिना किसी रीति रिवाज के और परिजनों की गैरमौजूदगी में पीड़िता का अंतिम संस्कार कर दिया गया.

'शव का चेहरा भी नहीं देखने दिया'
मृतका के चाचा भूरी सिंह ने कहा कि पुलिस दबाव बना रही थी कि शव का अंतिम संस्कार कर दें. जबकि बेटी के मां-बाप और भाई कोई भी यहां मौजूद नहीं है, वे लोग दिल्ली में ही हैं और अभी पहुंचे भी नहीं हैं. रात में अंतिम संस्कार न करने और परिवार का इंतजार करने की बात कहने पर पुलिस ने कहा कि अगर नहीं करोगे तो हम खुद कर देंगे.
जगह-जगह विरोध प्रदर्शन


पीड़िता की मौत के बाद तमाम सियासी दलों ने जमकर सरकार पर निशाना साधा. भीम आर्मी ने तो सफदरजंग अस्पताल पहुंचकर धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया. समाजवादी पार्टी, बसपा और कांग्रेस ने भी राजनीतिक रोटियां सेकीं. इस बीच, प्रदेश के कई जिलों में लोगों ने पीड़िता के समर्थन में कैंडल मार्च निकालकर न्याय की गुहार लगाई.

मेडिकल रिपोर्ट में रेप की पुष्टि नहीं
विपक्षी दलों के विरोध और मीडिया रिपोर्ट्स का खंडन करते हुए आईजी पीयूष मोडिया ने बताया कि मेडिकल जांच में रेप की पुष्टि नहीं हुई है. साथ ही ट्विटर पर मीडिया रिपोर्ट्स का खंडन छापते हुए पुलिस ने कहा कि न जीभ काटी गई थी और न ही रीढ़ की हड्डी टूटी थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज