हाथरस में मुठभेड़, पुलिस फायरिंग में 'लंगड़ा' हुआ 1 लाख का इनामी बदमाश, MP का शूटर भी गिरफ्तार

गौरव शर्मा हत्‍या के मामले में फरार चल रहा था.

गौरव शर्मा हत्‍या के मामले में फरार चल रहा था.

किसान अमरीश शर्मा की हत्‍या के मामले में फरार चल रहे एक लाख रुपये के इनामी बदमाश को पुलिस ने मुठभेड़ के बाद दबोच लिया है. इस मामले में मुख्यमंत्री योगी (CM Yogi) ने रासुका लगाने के आदेश दिए थे.

  • Share this:
हाथरस. उत्‍तर प्रदेश के हाथरस (Hathras) में छेड़छाड़ के मुकदमे में फैसला न करने पर युवती के पिता की हत्या (Murder) करने के आरोपी गौरव शर्मा और उसके साथी मध्य प्रदेश के मुरैना के सोनू तोमर को पुलिस ने मंगलवार की रात मुठभेड़ में दबोच लिया. इन्हें सासनी-इगलास रोड पर गांव तोछीगढ़ के पास पुलिस ने घेर लिया था. गौरव अलीगढ़ के जवां का रहने वाला है और वह सासनी क्षेत्र में अपनी मौसी के यहां जाता था. वहीं अपनी मौसी के गांव में ही युवती से छेड़छाड़ में जेल गया था. जमानत पर आने के बाद समझौते का दबाव बनाने लगा और जब लड़की की घरवालों ने बात नहीं मानी तो 1 मार्च को युवती के पिता को गोली मार दी थी.

इसके बाद युवती के पिता की हत्या करने के आरोपी गौरव शर्मा इस पर एडीजी जोन आगरा ने एक लाख रुपये का इनाम घोषित कर दिया था. जबकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी इस पर रासुका लगाने के आदेश दिए थे. आज देर रात पुलिस के साथ मुठभेड़ में गौरव व उसके साथी सोनू के पैर में गोली लगी है. दोनों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

यह है पूरा मामला

बता दें कि हाथरस के सासनी के गांव नौजरपुर में 1 मार्च को खेत पर आलू की खोदाई करा रहे किसान अमरीश शर्मा को हमलावरों ने गोलियों से भून दिया था. अमरीश शर्मा के परिवार की युवती ने आरोपित गौरव निवासी, गांव सौंगरा, थाना जवां अलीगढ़ पर जुलाई 2018 में छेड़छाड़ का मुकदमा दर्ज कराया था. इसी मुकदमे की वापसी का दबाव बनाते हुए किसान की हत्या की गई थी. मृतक की बेटी ने गौरव शर्मा, ललित शर्मा, रोहिताश और निखिल के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था. सभी आरोपितों को गिरफ्तार कर पुलिस जेल भेज चुकी है. मुख्य आरोपी गौरव शर्मा की तलाश के लिए चार टीमें लगी हुई थीं. किसान की हत्या के बाद उनकी बेटी का मार्मिक वीडियो वायरल होने पर यह हत्याकांड देशभर में चर्चाओं में आ गया था. गौरव पर एडीजी राजीव कृष्णा ने एक लाख रुपये का इनाम घोषित किया था, जबकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रासुका लगाने के आदेश दिए थे.
पुलिस को ऐसे मिली सफलता

एसपी विनीत जायसवाल के अनुसार, मंगलवार की रात को मुखबिर की सूचना पर सासनी, हाथरस गेट पुलिस और एसओजी टीम सासनी-इगलास रोड पर चेकिंग कर रही थी. रात करीब 10 बजे तोछीगढ़ के पास बिना नंबर की क्रेटा कार को पुलिस ने रुकवाया. उसमें तीन लोग सवार थे. इस बीच दो लोग फायरिंग करते हुए कार से उतरकर भागे. पुलिस ने उनकी घेराबंदी शुरू की. इस बीच एक युवक कार को लेकर भाग गया, तो दो अन्य खेतों में छिपकर पुलिस पर फायरिंग करते रहे. जवाबी फायरिंग करते हुए पुलिस ने दोनों को दबोच लिया. इनमें एक गौरव शर्मा और दूसरा सोनू तोमर उर्फ श्याम सिंह निवासी पुरा थाना दिमनी जिला मुरैना है. मुठभेड़ के बाद दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. गौरव के दोनों पैरों में गोली लगी हैं, तो सोनू के एक पैर में गोली लगी.

परमाल गैंग का शूटर है सोनू तोमर



एसपी के मुताबिक, सोनू तोमर मध्य प्रदेश के परमाल गैंग का शूटर है. उसने जुलाई 2019 में ग्वालियर के प्रॉपर्टी डीलर पंकज सिकरवार की हत्या की थी. ग्वालियर में उस पर 30 हजार रुपये ओर मुरैना में 10 हजार रुपये का इनाम घोषित है. एसपी ने बताया कि हाथरस पुलिस और एसओजी ने मुठभेड़ के बाद गौरव शर्मा और उसके साथी सोनू तोमर को गिरफ्तार किया है. दोनों पुलिस पर फायरिंग करते हुए भागने की फिराक में थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज