हाथरस कांड : पीड़िता के शव को जलाने के लिए इस्तेमाल किया ज्वलनशील पदार्थ, अब पुलिसकर्मियों का Video Viral

वायरल वीडियो का स्क्रिन शॉट जिसमें केन से चिता पर ज्वलनशील लिक्विड का छिड़काव करते देखा जा सकता है.
वायरल वीडियो का स्क्रिन शॉट जिसमें केन से चिता पर ज्वलनशील लिक्विड का छिड़काव करते देखा जा सकता है.

पीड़िता के शव को जल्दी जलाने के लिए पुलिसकर्मियों ने ज्वलनशील पदार्थ का भी इस्तेमाल किया. वायरल वीडियो में दिख रहा है कि केन से चिता पर लिक्विड का छिड़काव किया जा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 8, 2020, 7:23 PM IST
  • Share this:
हाथरस. उत्तर प्रदेश के हाथरस (Hathras Gangrape Case) में कथित बलात्कार पीड़िता के दाह संस्कार के वक्त का एक और वीडियो सोशल मीडिया (social media) पर वायरल हुआ है. इस वायरल वीडियो (Viral Video) में साफ दिख रहा है किस तरह पुलिस व प्रशासन के लोगों ने लाश जलाई. पीड़िता के शव को जल्दी जलाने के लिए ज्वलनशील पदार्थ का भी इस्तेमाल किया गया. वीडियो में दिख रहा है कि केन से चिता पर लिक्विड का छिड़काव किया जा रहा है. इस वीडियो में वर्तमान एसएचओ लक्ष्मण सिंह भी शव जलाते दिखाई दे रहे हैं. कोतवाली चंदपा के और भी कई पुलिसकर्मी वीडियो में कैद हुए हैं.

वैसे तो इस मामले के कई वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुए हैं. पुलिस पर परिजनों द्वारा लगाए गए वीडियो भी मौजूद हैं. गौरतलब है कि हाथरस केस में यूपी पुलिस पर आरोप है कि देर रात लड़की का शव उसके गांव पहुंचाया गया और वहां जबरन उसका अंतिम संस्कार कराया गया है. पीड़ित परिवार का कहना है कि पुलिस ने शव को एक बार घर ले जाने की इजाजत तक नहीं दी. जल्दी-जल्दी में अंतिम संस्कार करा दिया गया. ट्विटर पर पीड़िता के अंतिम संस्कार के कई वीडियो शेयर किए गए हैं, जिसमें लोग पुलिस के इस रवैये पर सवाल खड़े कर रहे हैं.

देखें वीडियो




पुलिस की नसीहत-लाश को ज्यादा देर नहीं रखना चाहिए
सोशल मीडिया पर शेयर किए गए इनमें से एक वीडियो में पुलिस अफसर पीड़ित परिवार को नसीहत भी दे रहा है कि लाश को इतनी देर तक रखना ठीक नहीं. सब कुछ रीति-रिवाज के मुताबिक हो जाना चाहिए. एक वीडियो में लड़की की मां पुलिस अफसर से गुहार लगाती दिखी है, 'मेरी बच्ची को एक बार घर ले जाने दीजिए. सिर्फ एक बार. अंतिम संस्कार की इतनी जल्दी क्या है? इतनी रात गए... जल्दी जल्दी में क्यों करा रहे हैं?' जवाब में पुलिस अफसर कहते हैं, 'मैं राजस्थान से हूं. मेरे कल्चर में लाश को ज्यादा देर तक नहीं रखा जाता. बाकी सब आप देख लीजिए.'

आप लोग मानिए आपसे भी गलती हुई
एक अन्य वीडियो में लड़की की मां दोबारा पुलिस से गुहार लगाती हैं. तब पुलिसवाला कहता है, 'रीति-रिवाज समय के साथ बदलते हैं. आप लोग मानिए कि आप लोगों से भी गलती हुई है.' एक और वीडियो फुटेज में लड़की की मां ने कहा, 'हम अपनी बच्ची की विदाई करना चाहते हैं. हल्दी लगानी होती है. तभी आखिरी विदाई होती है. आप हमें बेटी को एक बार घर क्यों नहीं ले जाने दे रहे हैं? आप जबदस्ती क्यों कर रहे हैं?'

अंतिम संस्कार के दौरान परिवार को चिता से दूर रखा
करीब 200 की संख्या में पुलिसवाले घरवालों की मांग ठुकराते हुए लाश को रात 2 बजकर 20 मिनट पर अंतिम संस्कार के लिए ले गए. पुलिसवालों ने अंतिम संस्कार के वक्त घेरा बना लिया. किसी को चिता के पास जाने तक नहीं दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज