पुलिस से नोंक-झोंक के बाद कासगंज रोड पर धरने पर बैठीं साध्वी प्राची

इस दौरान उनके समर्थकों की सिकंदराराऊ कोतवाल से नोंकझोंक हो गई.

Prashant Kaushik | ETV UP/Uttarakhand
Updated: January 27, 2018, 9:59 PM IST
पुलिस से नोंक-झोंक के बाद कासगंज रोड पर धरने पर बैठीं साध्वी प्राची
समर्थकों के साथ धरने पर बैठी साध्वी प्राची की फोटो.
Prashant Kaushik | ETV UP/Uttarakhand
Updated: January 27, 2018, 9:59 PM IST
कासगंज में झड़प के दौरान मारे गए युवक चंदन गुप्ता के अंतिम संस्कार में शामिल होने कासगंज जा रही साध्वी प्राची व उनके काफिले को सिकंदराराऊ पुलिस ने कासगंज रोड पर रोक लिया. इस दौरान उनकी और समर्थकों की सिकंदराराऊ कोतवाल से नोंक-झोंक हो गई.

रिपोर्ट के मुताबिक सिकंदराराऊ पुलिस द्वारा गाड़ी की चाबी निकालने से समर्थक साध्वी प्राची के आक्रोशित हो गए. फिर क्या था समर्थकों के साथ साध्वी पंत चौराहा पर धरने पर बैठ गईं और उनके समर्थकों ने अलीगढ़-एटा व मथुरा-बरेली मार्ग पर जाम लगा दिया है.

फिलहाल मौके कई थानों की फोर्स भी मौजूद है. कासगंज जिले से सटे होने के कारण सिकंदराराऊ की सीमा पर पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी हैं. किसी भी वीआईपी को कासगंज की सीमा में घुसने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है.

धरने पर बैठी साध्वी प्राची ने पुलिस महकमे पर आरोप लगाते हुए कहा कि हिन्दुओं की सुरक्षा चाहिए, उन्होंने कहा कि मुजफ्फरनगर में हमने गौरव और सचिन को खो दिया. वहीं दादरी के अंदर राहुल जेल में था तो उसको एक मुस्लिम जेलर ने पीट-पीटकर मौते के घाट उतार दिया.चौथा कासगंज में चन्दन की हत्या उस दिन हुई है जिस दिन देश जश्न मना रहा था.

उन्होंने कहा कि अगर वहां प्रशासन चाहता तो इतनी बड़ी घटना नहीं होती. उन्होंने हत्यारों को तत्काल गिरफ्तार करने की मांग की. मौके पर मौजूद पुलिस-प्रशासन ने साध्वी प्राची को कड़ी सुरक्षा में अलीगढ़ भेज दिया.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर