Hathras news

हाथरस

अपना जिला चुनें

हाथरस गैंगरेप: घुटन और सामाजिक बहिष्कार झेल रहा पीड़ित परिवार, इंसाफ की आस में लिए बैठा है बेटी की अस्थियां

हाथरस दुष्कर्म पीड़िता का जबरन अंतिम संस्कार करना सवालों के घेरे में रहा था. (File Photo)

हाथरस दुष्कर्म पीड़िता का जबरन अंतिम संस्कार करना सवालों के घेरे में रहा था. (File Photo)

Hathras Gangrape Case: यूपी के चर्चित हाथरस सामूहिक दुष्कर्म कांड के एक साल पूरा होने के बाद किन हालातों में जी रहा है पीड़ित दलित लड़की का परिवार? घटना के बाद इस परिवार के प्रति गांववालों का व्यवहार बदला, मामले की जांच किस रफ्तार से चल रही, पढ़ें ये रिपोर्ट...

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 15, 2021, 21:57 IST
SHARE THIS:

हाथरस. उत्तर प्रदेश में हाथरस के सामूहिक बलात्कार कांड को एक बरस पूरा हो रहा है, लेकिन दुष्कर्म एवं हत्या की शिकार दलित लड़की की अस्थियां अब भी विसर्जित नहीं की गई हैं. ये अस्थियां उसके परिजनों ने एक छोटे से कलश में घर के कमरे के एक कोने में रखी हुई हैं. अस्थियां ही नहीं, उसकी सिलाई मशीन और कपड़े भी संभाल कर रखे हैं. ऐसा क्यों है? इस सवाल के जवाब में दलित परिवार कहता है- जब तक उसे अदालत से न्याय नहीं मिल जाता, वह अपनी बच्ची का ‘अंतिम संस्कार’ नहीं करेंगे. परिवार के लोगों ने कहा- यह लड़ाई व्यक्तिगत नहीं, बल्कि सामाजिक अन्याय के खिलाफ है.

एक साल पहले 14 सितंबर, 2020 को 19 वर्षीय लड़की के साथ कथित तौर पर ऊंची जाति के चार युवकों ने गैंगरेप किया और उसे खेत में खून से लथपथ छोड़कर भाग गए. उसकी गर्दन और प्राइवेट पार्ट्स पर गंभीर चोटें पाई गई थीं. अलीगढ़ के एक अस्पताल के बाद पीड़िता को दिल्ली ले जाया गया था. 11 दिन बाद, दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में उसने दम तोड़ दिया था. देर शाम एम्बुलेंस में शव को उसके गांव ले जाया गया था और यूपी पुलिस और प्रशासन ने सुबह 3.30 बजे जबरन शव का अंतिम संस्कार कर दिया.

ये भी पढ़ें : यूपी हाई कोर्ट ने रचा इतिहास, सभी अदालतों में बहस, सुनवाई आदेश सब हिंदी में, बस ‘प्रेसनोट’ अंग्रेजी में

एक साल बाद घुटन का आलम
इस पूरी घटना को पूरा साल बीत जाने के बाद भी परिवार को गांव से काट दिया गया है. सीसीटीवी कैमरे हर समय उनके घर पर नज़र रखते हैं. सीआरपीएफ के करीब 35 जवान पहरा देते रहते हैं. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, पीड़िता के बड़े भाई ने कहा, “यहां घुटन होती है. कोई हमसे बात नहीं करता…, हमारे साथ गुनाहगारों जैसा बर्ताव होता है… मुझे पता है कि सीआरपीएफ के जाते ही वो (दबंग) हम पर हमला करेंगे. मेरी तीन छोटी बेटियां हैं और मैं उनकी सुरक्षा को लेकर परेशान हूं.”

uttar pradesh news, up news, hathras rape case, gang rape victim, rape and murder, उत्तर प्रदेश न्यूज़, यूपी न्यूज़, हाथरस गैंगरेप, हाथरस बलात्कार कांड

हाथरस सामूहिक बलात्कार कांड को लेकर धरने, प्रदर्शनों और विरोध का सिलसिला लंबे अरसे तक चला था. (File Photo)

‘हम चाहते हैं लोग हमें स्वीकार करें’
लड़की के बेरोज़गार पिता ने कहा कि गांव में उनका घर 70-80 साल पुराना है और उसे छोड़कर जाना मुमकिन नहीं है. उन्होंने कहा, “इस जगह को छोड़ना आसान नहीं है. हम चाहते हैं कि लोग हमें स्वीकार करें. हमने क्या गलत किया है? हम न तो मंदिर जा सकते हैं और न ही बाज़ार. हमें घर पर ही कैद रहना होता है. प्रार्थना करते हैं कि अदालत फैसला जल्द दे.” पीड़ित परिवार का कहना है कि उनकी लड़ाई अब न केवल अपनी बेटी को न्याय दिलाने के लिए है, बल्कि गांव में सामाजिक अन्याय के खिलाफ भी है.

लड़की के भाई ने घटना के बाद गांव में अपने परिवार के प्रति ग्रामीणों के बदले व्यवहार के बारे में भी बताया. उन्होंने कहा, ‘मैंने आरोपियों के परिवारों को कारों में जाते देखा है. उनके साथ ऑटो-रिक्शा और जीप में अन्य ग्रामीणों का काफिला चलता है. जब वे अदालत जाते हैं या जेल में आरोपियों से मिलने जाते हैं, तो आधा गांव उनके साथ होता है, लेकिन हमारे साथ कोई नहीं.’

ये भी पढ़ें : 11 को RC तो 6 का आवंटन निरस्त, नोएडा अथॉरिटी की सख्ती से बिल्डरों में खलबली

किस तरह चल रही है जांच?
लड़की की मौत के बाद दो मामले दर्ज किए गए थे. उनकी सुनवाई इलाहाबाद हाईकोर्ट और हाथरस में एससी/एसटी अदालत कर रही है. उच्च न्यायालय में, विशेष जांच दल ने अभी तक जबरन दाह संस्कार पर एक भी रिपोर्ट पेश नहीं की है. एससी/एसटी कोर्ट रेप-हत्या मामले की सुनवाई कर रही है. दबंग जाति के चार लोगों- संदीप (20), रवि (35), लव कुश (23), और रामू (26) को इस मामले में आरोपी बनाया गया है. दूसरी तरफ, परिवार को 25 लाख रुपए का मुआवजा मिला, लेकिन उत्तर प्रदेश सरकार के वादे के बावजूद उन्हें अभी तक नौकरी और नया घर नहीं मिला है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Hathras Rape Case: नाबालिग से बलात्कार और हत्या के आरोपी को फांसी की सजा

आरोपी को कड़ी सुरक्षा के बीच न्यायालय में पेश किया गया, जहां पर उसे फांसी की सजा सुनाई गई.

Rape and murder of minor: 2019 में हुई थी वारदात, पीड़िता के बायान को आधार मानते हुए हाथरस कोर्ट ने सुनाई सजा, 50 हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया.

SHARE THIS:

हाथरस. हाथरस में दो साल पहले नाबालिग युवती से बलात्कार और फिर हत्या करने वाले आरोपी को कोर्ट ने गुरुवार को फांसी की सजा सुनाई. इसके साथ ही हाथरस न्यायालय के विशेष न्यायाधीश पॉक्सो कोर्ट संख्या 1 ने आरोपी पर पचास हजार का अर्थदंड भी लगाया. गौरतलब है कि 2019 में आरोपी ने नाबालिग युवती का बलात्कार करने के बाद उस पर मिट्टी का तेल डालकर जिंदा जला दिया था. बाद में इलाज के दौरान युवती की मौत हो गई थी. अस्पताल में पीड़िता की ओर से दिए गए बयानों के आधार पर ही कोर्ट ने आरोपी को मौत की सजा सुनाई है.
उल्लेखनीय है कि सिकंदराराऊ पुलिस ने 16 अप्रैल 2019 को आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भे दिया था.

घर में घुस कर की थी वारदात
जानकारी के अनुसार अभियुक्त मोनू ठाकुर ने अपने कुछ अज्ञात साथियों के साथ मिलकर युवती के घर पर हमला बोला था. यहां पर उसके साथ बलात्कार किया और विरोध करने पर उस पर मिट्टी का तेल डालकर जिंदा जला दिया था. इस दौरान घर पर युवती अकेली थी. बाद युवती के परिजन ने गंभीर हालत में उसे अस्पताल में भर्ती करवाया था. यहीं पर युवती ने बयान में आरोपी की पहचान बताई थी. हालांकि इलाज के दौरान ही युवती की मौत हो गई थी.

पिता ने दर्ज करवाया था मामला
पीड़िता के पिता ने पुलिस में केस दर्ज करवाया था जिसके बाद पुलिस ने तत्काल कार्रवाई करते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर लिया था. उल्लेखनीय है कि पॉक्सो एक्ट के तहत हाथरस जिले में यह पहला मामला है जिसमें कोर्ट ने आरोपी को फांसी की सजा सुनाई है. कोर्ट ने भी मामले में तेजी से सुनवाई की और दो साल के अंदर ही सभी गवाही करवाने के साथ ही आरोपी को फांसी की सजा सुनाई.

हाथरस: UP के पूर्व ऊर्जा मंत्री रामवीर उपाध्याय और निजी सचिव कोर्ट में तलब 

UP: यूपी के पूर्व ऊर्जा मंत्री रामवीर उपाध्याय की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं. (File Photo)

Hathras News: हाथरस के पूर्व बीडीसी सदस्य के अपहरण की कोशिश, गाली-गलौज के मामले में एडीजे चतुर्थ ने सादाबाद विधायक व पूर्व ऊर्जा मंत्री रामवीर उपाध्याय और उनके निजी सचिव रानू पंडित को तलब किया है.

SHARE THIS:

हाथरस. उत्तर प्रदेश के पूर्व ऊर्जा मंत्री रामवीर उपाध्याय (Ramveer Upadhyay) की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं. दो साल पुराने एक मामले में रामवीर उपाध्याय और उनका निजी सचिव कोर्ट में तलब किए गए हैं. इन पर पूर्व बीडीसी सदस्य ने अपहरण की कोशिश का आरोप लगाया है. एडीजे चतुर्थ पारुल वर्मा ने दो साल पुराने मामले में इन्हें तलब किया है. बता दें पूर्व बीडीसी सदस्य के अपहरण की कोशिश, गाली-गलौज के मामले में एडीजे चतुर्थ ने सादाबाद विधायक व पूर्व ऊर्जा मंत्री रामवीर उपाध्याय और उनके निजी सचिव रानू पंडित को तलब किया है.

वीरेन्द्र कुमार पुत्र गंगाराम निवासी गंभीर पट्टी विसाना ने कोर्ट में प्रार्थना पत्र दिया कि एक सितम्बर 2019 को दोपहर 3 बजे सादाबाद विधायक रामवीर उपाध्याय और उनके सचिव अपनी गाड़ियों के काफिले के साथ विसाना गांव में आये. रामवीर उपाध्याय और उनके निजी सचिव ने देखते ही गाली-गलौज करना शुरू कर दिया. इतने में रामवीर उपाध्याय ने कहा कि इसे गाड़ी में खींचकर डालो. उन्होंने जान से मारने की धमकी दी. इतने में गांव के प्रदीप आ गये और उसे बचा लिया.

वीरेन्द्र ने कोर्ट में कहा कि पुलिस ने इस घटना का कोई मुकदमा नहीं लिखा. वीरेन्द्र ने कोर्ट में कहा कि पहले उसका अपहरण हुआ था. सीबीसीआईडी ने उस विवेचना में एफआर लगा दी. न्यायाधीश पारुल वर्मा ने रामवीर उपाध्याय और उनके निजी सचिव रानू पंडित धारा 365 और एससीएसटी एक्ट के मामले में तलब किया है. साथ ही परिवादी को पन्द्रह दिन के अंदर गवाहों की सूची दाखिल करने के लिए कहा है.

हाथरस में हादसा: अलीगढ़-आगरा बाईपास पर बोलेरो में ट्रक ने मारी टक्कर, दो की मौत, दो की हालत गंभीर

श्रद्धालुओं से भरी बिलेरो बोलेरो में ट्रक ने मारी टक्कर, दो की मौत.

Hathras Road accident : अलीगढ़ आगरा बाईपास पर मंगलवार को तेज रफ्तार ट्रक ने बोलेरो जीप में टक्कर मार दी. दुर्घटना में जीप के परखच्चे उड़ गए. इसमें श्रद्धालु सवार थे, जिनमें से दो की मौत हो गई.

SHARE THIS:

हाथरस. अलीगढ़-आगरा बाईपास पर मंगलवार को तेज रफ्तार ट्रक ने बोलेरो को टक्कर मार दी. एक्सीडेंट इतना भयंकर था कि जीप के परखच्चे उड़ गए और जीप में सवार सभी श्रद्धालु बुरी तरह जख्मी हो गए. तीन घायलों को अलीगढ़ रेफर किया गया है. एक महिला और एक व्यक्ति की इस हादसे में मौत हो गई है, जबकि 2 लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है. जीप में सवार सभी लोग हरिद्वार से गंगा स्नान करके आ रहे थे.

जानकारी के मुताबिक यह सड़क हादसा हाथरस से आगरा की ओर जाने वाले बाईपास के गांव रुहेरी के पास, बोलेरो जीप को तेज रफ्तार अज्ञात ट्रक चालक ने टक्कर मार दी. इसके बाद ट्रक आगरा की ओर भाग गया. टक्कर लगने से हुई धमाकेदार अवाज को सुनकर ग्रामीण घटना स्थल पर आ गए. इसकी सूचना फौरन हाथरस गेट पुलिस को दी गई. सूचना मिलते ही दो जीप में भर कर भारी फोर्स घटना स्थल पहुंच गया. जीप में फंसे घायलों को निकाल कर बागला अस्पताल भिजवाया गया.

डाक्टरों ने सभी को प्राथमिक उपचार देने के बाद तीन लोगों को गंभीर अवस्था में अलीगढ रेफर कर दिया है. घायल रजत यादव निवासी जगराजपुर फ़तियावाद आगरा के अनुसार उनकी 50 वर्षीय मां बेबी की मौत हो गई. पिता जयप्रकाश उम्र 55 सहित तीन लोग अलीगढ़ रेफर कर दिए गए हैं. उनकी पत्नी सोनम तथा तीन बच्चे घायल हैं, जिनका उपचार चल रहा है. सभी लोग हरिद्वार से गंगा स्नान करके आ रहे थे कि यह हादसा हो गया. पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजकर कार्रवाई शुरू कर दी है.

हाथरस: NH-93 पर ट्रक और कार में जबरदस्त भिड़ंत, 2 आयकर अफसरों की दर्दनाक मौत, 1 गंभीर

UP: हाथरस में सड़क दुर्घटना में दो लोगों की मौत हो गई है, वहीं एक गंभीर है.

Hathras News: हादसे में अलीगढ़ में तैनात इनकम टैक्स अधिकारी अमरजीत व सहायक चंद्रभान की मौत हो गई. वहीं प्रकाश कटियार, आयकर अधिकारी गंभीर रूप से घायल हैं. रोडवेज बस को ओवरटेक करते वक्त कार ट्रक से टकराई.

SHARE THIS:

हाथरस. उत्तर प्रदेश के हाथरस (Hathras) में तेज रफ्तार का कहर देखने को मिला है. यहां भीषण सड़क हादसे में इनकम टैक्स अधिकारी, एक सहायक इनकम टैक्स टेक्नीशियन की दर्दनाक मौत (Death) हो गई है. एनएच 93 पर आगरा (Agra) से अलीगढ़ (Aligarh) जाते वक्त ये भीषण सड़क हादसा हुआ. कार टकराने पर एक अधिकारी की मौके पर ही मौत हो गई, वहीं दूसरे की मौत उपचार के दौरान हुई. सूचना पर पहुंची पुलिस मामले की जांच में जुटी है. कोतवाली हाथरस गेट क्षेत्र के नेशनल हाईवे-93 पर आगरा अलीगढ़ मार्ग पर हतीश पुल की ये घटना है.

हादसे में अलीगढ़ जिले में तैनात इनकम टैक्स अधिकारी अमरजीत व सहायक चंद्रभान की मौत हो गई, वहीं उनके साथ कार में सवार प्रकाश कटियार, आयकर अधिकारी हादसे में गंभीर रूप से घायल हो गए हैं. बताया जा रहा है कि रोडवेज बस को ओवरटेक करते वक्त कार ट्रक से टकराई.

दरअसल नेशनल हाईवे 93 पर आगरा से अलीगढ़ जा रहे इनकम टैक्स के अधिकारियों की i10 कार तेज रफ्तार अज्ञात ट्रक से टकरा गई. रोडवेज बस को ओवर ब्रिज पर ओवरटेक करते समय कार अज्ञात ट्रक से टकराई. ट्रक सवार गाड़ी को टक्कर मारने के बाद मौके से फरार हो  गया. अलीगढ़ जिले में तैनात इनकम टैक्स अधिकारी अमरजीत सिंह व सहायक चंद्रभान की मौत हो गई. पुलिस ने परिजनों को सूचना दे दी है. फिलहाल ट्रक ड्राइवर पकड़ से दूर है.

जिला अस्पताल के डॉक्टर एके सिंह ने बताया कि दो लोगों की मौत हुई है, वहीं एक आयकर अधिकारी प्रकाश कटियार गंभीर रूप से घायल हैं.

अलीगढ़ में PM मोदी से मिलकर हाथरस का नाम बदलकर राजा महेंद्र प्रताप करने की मांग करेंगे वंशज

राजा महेंद्र प्रताप सिंह के बंशजों ने की हाथरस जिले का नाम बदलने की मांग

Hathras News: देश तथा केंद्र सरकार के इस कदम पर राजा साहब के वंशजों तथा कस्बा मुरसान के लोगों ने खुशी जताई है और मांग की है कि हाथरस जिले का नामकरण राजा साहब के नाम पर हो.

SHARE THIS:

हाथरस. भारत के स्वतंत्रता संग्राम में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले और निर्वासित रहते हुए 1915 में अफगानिस्तान में बनी भारत की अंतरिम सरकार के मुखिया रहे प्रसिद्ध जाट राजा महेंद्र प्रताप सिंह (Raja Mahendra Pratap Singh) के सम्मान में अलीगढ़ (Aligarh) जनपद में 14 सितंबर को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राजा महेंद्र प्रताप सिंह विश्वविद्यालय का शिलान्यास करने जा रहे है. प्रदेश तथा केंद्र सरकार के इस कदम पर राजा साहब के वंशजों तथा कस्बा मुरसान के लोगों ने खुशी जताई है और मांग की है कि हाथरस जिले का नामकरण राजा साहब के नाम पर हो. राजा साहब के वंशज  गणरद्धवज सिंह ने कहा कि अलीगढ़ में जब वे प्रधानमंत्री से मिलेंगे तो हाथरस जिले का नाम बदलने की मांग करेंगे.

बता दें कि 32 वर्ष निर्वासित रहकर देश की आजादी के लिए जंग लड़ने वाले और अफगानिस्तान के काबुल में 1915 में बनी अंतरिम सरकार के राष्ट्रपति रहे राजा महेंद्र प्रताप सिंह की जन्मस्थली हाथरस का कस्बा मुरसान है. कस्बा में आज भी शाही परिवार का किला मौजूद है, जिसमें राजा साहब के वंशज रहते हैं. वर्ष 1998 में मुरसान नगर पंचायत ने कस्बे में उनकी यादगार में एक पार्क तथा स्मारक बनाया था, जिसमें उनकी प्रतिमा लगी हुई है. राजा साहब ने अपने जीवन काल में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, वृंदावन के प्रेम महाविद्यालय सहित कई शिक्षण संस्थानों की स्थापना में जमीन आदि के जरिए महत्वपूर्ण योगदान दिया था और वह 1957 में मथुरा लोकसभा सीट से सांसद भी चुने गए थे.

सरकार को दिया धन्यवाद
देश की आजादी के लिए महत्वपूर्ण योगदान देने वाले राजा साहब के नाम पर अलीगढ़ में विश्वविद्यालय बनाए जाने से हाथरस के कस्बा मुरसान के लोग खुश हैं. राजा साहब के वंशज भी खुश हैं. राजा साहब के वंशज  गणरद्धवज सिंह इसे गौरव का विषय बता रहे हैं और प्रदेश तथा केंद्र सरकार को धन्यवाद दे रहे हैं. अलबत्ता इन लोगों की मांग है कि हाथरस जिले का नाम राजा साहब के नाम पर हो और उनकी यादगार में ऐसा स्मारक बने जिसमें उनकी प्रतिमा लगे. एक लाइब्रेरी भी हो जो राजा साहब के बारे में नई पीढ़ी को जानकारी दे सके.

भारतीय हॉकी टीम के कोच हाथरस के पीयूष दुबे की कहानी, 3 साल से देश के लिए परिवार से दूर

टोक्यो ओलंपिक में इतिहास रचने वाली भारतीय हॉकी टीम के कोच पियूष दुबे हाथरस के रहने वाले हैं.

India in Tokyo Olympic: टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक (Bronze Medal) जीतकर इतिहास रचने वाली भारतीय हॉकी टीम के कोच पीयूष दुबे (Piyush Dubey) उत्तर प्रदेश के हाथरस के लिए गौरव हैं. पीयूष दुबे गांव रसमई के रहने वाले हैं.

SHARE THIS:

हाथरस. दुनियाभर के खेल प्रेमियों की नजर इन दिनों टोक्यो ओलम्पिक (Tokyo Olympic) पर लगी हुई है. इस बार भारतीय हॉकी टीम (Indian Hockey Team) ने 41 साल बाद भारत को पदक दिलाकर इतिहास रचा है. उत्तर प्रदेश के हाथरस (Hathras) के लिये गौरव की बात यह है कि इस हॉकी टीम के कोच पीयूष दुबे (Coach Piyush Dubey) सादाबाद के गांव रसमई के रहने वाले हैं. गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पीयूष दुबे को कॉल कर जीत की बधाई दी. गांव रसमई में भी जश्न का माहौल है. दुबे परिवार भी गर्व महसूस कर रहा है. पीयूष वो शख्स हैं, जो देश के लिए टीम तैयार करने के जज्बे को लेकर घर से दूर रहे और 3 साल तक अपनी पत्नी, बच्चियों से नहीं मिले.

हॉकी टीम के मुख्य कोच पीयूष दुबे के पिता गवेन्द्र सिंह दुबे भूमि संरक्षण विभाग में अधिकारी थे और माता जी भी अध्यापिका थीं. प्रयागराज में तैनाती के दौरान बड़े भाई श्रवण कुमार दुबे की सलाह पर 1994 में पीयूष ने हॉकी खेलना शुरू किया था. उन्हें स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (SAI) कोच प्रेमशंकर शुक्ला का भी मार्गदर्शन मिला. कुछ ही दिन में वह टीम के कप्तान बन गये. बाद में वह प्रयागराज विवि और प्रदेश स्तर पर भी खेले.

पीयूष कोच ऐसे बने, ऐसे निखरे
पीयूष ने 2003 में पटियाला से कोच की परीक्षा पास की और उन्हें पटियाला में नियुक्ति मिली. 2004 में पीयूष दुबे वहां के केन्द्रीय विद्यालय की हॉकी टीम के कोच बने. इसके बाद 2008 में प्रयागराज विवि विद्यालय की टीम की कोच के रूप में कार्य किया. यहां से उन्होंने साई के कोच की परीक्षा में टॉप किया और साई की सोनीपत शाखा का उन्हें कोच बनाया गया. यहां से कई खिलाड़ियों को उन्होंने नेशनल, इंटरनेशनल के लिये तैयार किया.

पीयूष के गांव में जश्न का माहौल
उनकी अगुवाई में ही पहली बार साई की टीम ने राष्ट्रीय स्तर पर हॉकी में पदक जीता. इससे पहले साई की टीम ने कोई पदक नहीं जीता था. लगातार बेहतरीन प्रदर्शन करने और बेहतर प्रशिक्षण के चलते उन्हें भारतीय हॉकी टीम के कोच के रूप में काम करने का मौका मिला. 2019 से वह लगातार भारतीय हॉकी टीम के कोच हैं. उनकी अगुवाई में ही 2020 टोक्यो ओलम्पिक में बेहतरीन प्रदर्शन कर भारत को 41 साल बाद पदक दिलाया है.

piyush dubey, indian coach hockey, Hathras News, Tokyo Olympics,

Hathras: भारतीय हॉकी टीम के कोच पीयूष दुबे के गांव में जश्न का माहौल

स्वामी विवेकानंद से प्रेरणा लेते हैं पीयूष
पीयूष दुबे का परिवार बताता है कि वह स्वामी विवेकानंद से प्रेरित ही नहीं, बल्कि उनके आदर्शों को उन्होंने अपने जीवन में आत्मसात किया है. कोच के पद पर रहते हुये भी वह मांसाहार, लहसून, प्याज से परहेज रखते हैं. त्याग का गुण भी उन्हें उनके आदर्शों से मिला है. तीन साल से ज्यादा समय हो गया, वह पत्नी, बच्चियों से नहीं मिले हैं. उनका परिवार सोनीपत में रहता है. वह लेखनी के धनी होने के साथ-साथ संगीत में भी रूचि रखते हैं.

दुबे के खून में है खेल
पीयूष दुबे के दादा खेमकरण सिंह दुबे बेहतरीन रेसलर थे. पिता गवेन्द्र सिंह और श्रवण कुमार दुबे भी रेसलर रहे हैं, जबकि चाचा उदयवीर सिंह कुशल तैराक हैं. भाई लखन सिंह दुबे भी खेल से जुड़े हुये हैं. इसलिए उन्होंने हॉकी को ही भविष्य बना लिया था. खून में खेल होने के चलते ही आज हॉकी टीम ने उनकी अगुवाई में चार दशक बाद ओलम्पिक में इतिहास रचा है, जबकि उनका भतीजा जगत युवराज दुबे भी मुक्केबाज है.

आईएएस बनने का था सपना
गुरुग्राम के मशहूर उद्योगपति भाई श्रवण कुमार दुबे को आदर्श मानने वाले पीयूष दुबे अपने पिता गवेन्द्र सिंह दुबे की प्रेरणा से आईएएस बनकर देश की सेवा करना चाहते थे. लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था. यूपीएससी की प्रारम्भिक परीक्षा में सफलता के बाद भी उन्होंने हॉकी को ही चुना. उन्होंने अर्थशास्त्र से मास्टर डिग्री भी हासिल की है. बड़े भाई बताते हैं कि उन्होंने जो भी परीक्षा, टेस्ट दिया उसमें हमेशा टॉप किया.’

गांव में मनाया गया जश्न
पीयूष दुबे के पैतृक गांव रसमई में हॉकी टीम की सफलता का जश्न मनाया गया. गांव के बेटे की अगुवाई में हॉकी टीम ने ओलम्पिक में पदक जीत इतिहास जो रचा है. लखन दुबे की अगुवाई में हुये कार्यक्रम में शानदार जश्न मनाया गया. मिठाई बांटकर ढोल, नगाड़ों की धुन पर लोग खूब थिरके. इस दौरान लखन दुबे, उदयवीर दुबे, दिनेश दुबे, देवकीनंदन, ललित गोपाल, राहुल कुमार शामिल रहे. गुजरात से गांव के रवि ठाकुर ने भी उनकी लिये बधाई पेश की है.

शासन से गंगा एक्सप्रेसवे की जमीन अधिग्रहण के लिए हापुड़ को मिले 175 करोड़

हापुड़ :- शासन से गंगा एक्सप्रेसवे की जमीन अधिग्रहण के लिए हापुड़ को मिले 175 करोड

हापुड़ में भूमि अधिग्रहण के लिए 765 करोड़ रुपए की जरूरत थी इसलिए ही कुछ दिन पहले ही जिला प्रशासन द्वारा शासन को 272 करोड़ रुपये की डिमांड भेजी थी, जिसमें यूपीडा द्वारा जनपद के लिए 175 करोड़ की धनराशि जारी कर दी गई है.

SHARE THIS:
1 - हाईवे पर कैश वैन ने हापुड़ सीओ सिटी की गाड़ी में मारी जोरदार टक्कर, बाल - बाल बचे सीओ सिटी
हापुड़ के नगर कोतवाली क्षेत्र के एनएच 9 स्थित निजामपुर कट के पास एक कैश वैन ने सीओ सिटी की कार में टक्कर मार दी. जिसमें सीओ सिटी और उनके गनर तथा चालक को  चोट आई. पुलिस ने कैश वैन को कब्जे में लेकर चालक को हिरासत में ले लिया है. एएसपी सर्वेश कुमार मिश्रा ने बताया कि सीओ सिटी वैभव पांडे, चालक गुलाब सिंह व गनर गोपाल गिरी के साथ चेकिंग करते हुए पिलखुवा से हापुड़ की तरफ आ रहे थे तभी निजामपुर कट के पास पहुंचने पर कैश वैन में टक्कर मार दी जिसमें कार क्षतिग्रस्त हो गई.

2 - जिला पंचायत राज अधिकारी ने कार्यभार संभाला 
नए जिला पंचायत राज अधिकारी वीरेंद्र सिंह ने शुक्रवार  को जनपद हापुड़ में कार्यभार ग्रहण कर लिया. इससे पहले वह रामपुर के जिला पंचायत राज अधिकारी के पद पर थे. पिछले दिनों शासन ने उनका तबादला जिला पंचायत राज अधिकारी के पद पर हापुड़ कर दिया था. इससे पहले यहां पर यावर अब्बास जिला पंचायत राज अधिकारी के पद पर थे. विरेंद्र सिंह ने कार्यभार ग्रहण करने के बाद विभागीय अधिकारियों और कर्मचारियों से यहां की स्थिति के बारे में जानकारी ली.


3 - शासन से गंगा एक्सप्रेसवे की जमीन अधिग्रहण के लिए हापुड़ को मिले 175 करोड 
एक्सप्रेसवे की भूमि अधिग्रहण का कार्य हापुड़ में किया जा रहा है, हापुड़ में भूमि अधिग्रहण के लिए 765 करोड़ रुपए की जरूरत थी इसलिए ही कुछ दिन पहले ही जिला प्रशासन द्वारा शासन को 272 करोड रुपये की डिमांड भेजी  थी, जिसमें यूपीडा द्वारा जनपद के लिए 175 करोड़  की धनराशि जारी कर दी गई है. अब मात्र 95 करोड की धनराशि शेष बची है.

4 - नेशनल हाईवे पर लगा लंबा जाम
हापुड़ में तेज रफ्तार का कहर थमने का नाम नही ले रहा,आज हाइवे पर तेज रफ्तार मिनी ट्रक अनियंत्रित होकर हाइवे पर पलट गया जिसमें दो लोग घायल हो गए,मिनी ट्रक के पलटने से हाईवे पर लंबा जाम लग गया,जिससे वाहन चालकों को भारी परेशानी हुई.

हापुड़ से न्यूज़18 लोकल के लिए सौरभ त्यागी की रिपोर्ट

Hathras News: श्रद्धालुओं से भरी कार कैंटर से टकराई, तीन की मौत, सात अन्य घायल

हाथरस सड़क हादसे में घायल हुए श्रद्धालुओं का जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है.

Hathras Road Accident: मिली जानकारी के मुताबिक कार सवार सवार सभी श्रद्धालु बरेली से मथुरा गोवर्धन दर्शन के लिए जा रहे थे. एक्सीडेंट की सूचना पर पहुंची पुलिस ने सभी घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया.

SHARE THIS:
हाथरस. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के हाथरस (Hathras) जनपद के हसायन कोतवाली क्षेत्र के नेशनल हाईवे-91 पर एक तेज रफ़्तार कार और कैंटर की टक्कर में तीन लोगों की मौ हो गई, जबकि सात अन्य घायल हो गए. घायलों में से तीन की हालत गंभीर बानी हुई, जिनका इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है. हादसा (Road Accident) उस वक्त हुआ जब श्रद्धालुओं से भरी ईको कार मथुरा-बरेली मार्ग पर गांव रति का नगला के पास कैंटर से टकरा गई. इस हादसे में दो लोगों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि एक ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया.

मिली जानकारी के मुताबिक कार सवार सवार सभी श्रद्धालु बरेली से मथुरा गोवर्धन दर्शन के लिए जा रहे थे. एक्सीडेंट की सूचना पर पहुंची पुलिस ने सभी घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया. तीन लोगों की गंभीर हालत को देखते हुए डॉक्टरों ने उन्हें अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया. वहीं पुलिस ने तीनों मृतकों के शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. हादसे की वजह का अभी पता नहीं चला है. पुलिस मामले की जांच कर अग्रिम कार्रवाई में जुटी है.

UP News: हाथरस में पूर्व प्रधान की गोलियों से भूनकर हत्या, ग्रामीणों ने किया रोड जाम

हाथरस में पूर्व प्रधान की गोलियों से भूनकर हत्या (Symbolic Pic)

एएसपी (ASP) प्रकाश कुमार ने भी ग्रामीणों को समझा कर यातायात सुचारु कराया गया है. पुलिस पंत चौराहा तथा घटनास्थल से कुछ दूरी पर एक दुकान पर लगे सीसीटीवी (CCTV) कैमरों को खंगाल कर हत्यारों की पहचान करने में जुटी है.

SHARE THIS:
हाथरस. यूपी के हाथरस (Hathras) रोड स्थित गांव कमालपुर के पूर्व प्रधान (48) वर्षीय रामखिलाड़ी यादव की बाइक सवार हमलावरों ने गोली मारकर हत्या कर दी. हमलावर घटना को अंजाम देकर फरार हो गए. आक्रोशित ग्रामीणों ने सिकंदराराऊ-हाथरस रोड पर जाम लगा दिया. दो घंटे तक यातायात अवरुद्ध रहा. सीओ तथा कोतवाल ने ग्रामीणों को समझा-बुझाकर जाम खुलवाया. मृतक के परिजनों ने पुलिस को तहरीर नहीं दी थी. बता दें कि मृतक रामखिलाड़ी यादव पूर्व में दो बार गांव कमालपुर के प्रधान रहे थे. वह अपने साथी मुनेश कुमार के साथ सिकंदराराऊ से गांव लौट रहे थे, जबकि मुनेश बाइक चला रहे थे.

हाथरस रोड पर बरामई नहर पुल पार करते ही पीछे से अपाचे बाइक पर दो हमलावर आए और फायरिंग कर दी. रामखिलाड़ी के पीठ में गोलियां लगीं, जिससे वह बाइक से नीचे गिर पड़े. इसके बाद हमलावरों ने जमीन पर गिरे रामखिलाड़ी के सिर में गोली मारी. उसके बाद हत्यारे अपनी मोटरसाइकिल से सिकंदराराऊ की ओर भाग गए. गोली चलने की आवाज सुनकर आसपास के ग्रामीण मौके पर घटनास्थल की ओर दौड़ पड़े. मृतक के गांव से बड़ी संख्या में ग्रामीण व परिजन घटनास्थल पर आ गए.

UP: इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 2 अगस्त तक बढ़ाई अग्रिम जमानत की अवधि, बैंक वसूली और बेदखली पर लगी रोक

परिजनों की चीख पुकार से हाहाकार मच गया. ग्रामीणों ने सिकंदराराऊ-हाथरस रोड पर जाम लगा दिया. घटना की सूचना मिलते ही कोतवाल प्रवेश राणा पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए. ग्रामीणों के आक्रोश को देखते हुए पुलिस बल व पीएसी को बुला लिया गया. एएसपी प्रकाश कुमार ने भी ग्रामीणों को समझा कर यातायात सुचारु कराया गया है. पुलिस पंत चौराहा तथा घटनास्थल से कुछ दूरी पर एक दुकान पर लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगाल कर हत्यारों की पहचान करने में जुटी है.

हाथरस: पूर्व ऊर्जा मंत्री रामवीर उपाध्याय की पत्नी सीमा BJP में शामिल, निष्कासित बेटे चिराग की भी वापसी

हाथरस में आज पूर्व मंत्री रामवीर उपाध्याय की पत्नी 
ने बीजेपी ज्वाइन की. निष्कासित बेटे चिराग की भी हुई वापसी. (File Photo)

Hathras News: पंचायत चुनाव में सीमा उपाध्याय ने बीजेपी समर्थित अपनी ही देवरानी ऋतु को मात दी थी. यही नहीं इस हार के बाद बीजेपी ने रामवीर उपाध्याय के बेटे चिराग सहित 11 पार्टी नेताओं पर अनुशासनहीनता का आरोप लगाते हुए उन्हें निष्कासित कर दिया था.

SHARE THIS:
हाथरस. उत्तर प्रदेश के हाथरस में यूपी के पूर्व ऊर्जा मंत्री रामवीर उपाध्याय (Former Minister Ramveer Upadhyay) की पत्नी सीमा उपाध्याय (Seema Upadhyay) अपने समर्थकों के साथ भारतीय जनता पार्टी (BJP) में शामिल हो गई हैं. प्रदेश उपाध्यक्ष ब्रज बहादुर भारद्वाज की मौजूदगी में सीमा उपाध्याय ने अपने समर्थकों के साथ भाजपा की सदस्यता ग्रहण की. इस दौरान निष्काषित सभी 11 भाजपा कार्यकर्ताओ की भी भाजपा में वापसी हो गई है. रजनीकांत महेश्वरी ने इसकी वर्चुअल घोषणा की.

बता दें कि पंचायत चुनाव में सीमा उपाध्याय जिला पंचायत वार्ड नंबर 14 से निर्दलीय चुनाव लड़ी थीं. सीमा उपाध्याय ने बीजेपी समर्थित प्रत्याशी अपनी ही देवरानी ऋतु उपाध्याय को भारी मतों से पराजित किया था. वहीं चुनाव परिणाम आने के बाद बीजेपी ने विश्वासघात करने के आरोप में 11 भाजपा नेताओं को निष्कासित भी किया था. दिलचस्प बात ये रही कि निष्कासित किए गए नेताओं में पूर्व ऊर्जा मंत्री रामवीर उपाध्याय के पुत्र चिराग वीर (Chirag Veer) भी शामिल थे.

चिराग वीर पर आरोप था कि वह भाजपा समर्थित प्रत्याशी के खिलाफ अपनी मां सीमा उपाध्याय के पक्ष में क्षेत्र में जाकर प्रचार-प्रसार कर रहे हैं. इसी को देखते हुए पार्टी ने जनपद भर में ऐसे पार्टी के कार्यकर्ताओं को चिन्हित करते हुए 11 भाजपा कार्यकर्ताओं पर अनुशासनहीनता का आरोप लगते हुए सभी को पार्टी से निष्कासित किया था. चिराग वीर के साथ डॉक्टर अविन शर्मा उनकी पत्नी क्षमा शर्मा, देवदत्त वर्मा, चंद्रवीर सिंह, कृष्णा सिसोदिया, रानू जादौन, रिंकू जादौन, गीता देवी, सोमेश यादव के नाम भी शामिल थे.

चिराग सहित निष्कासित सभी 11 कार्यकर्ताओं की होगी वापसी

अब ताजा घटनाक्रम में आज सुबह ही पार्टी जिला अध्यक्ष गौरव आर्य ने न्यूज़18 से हुई बातचीत के दौरान बताया कि पार्टी से निष्कासित सभी 11 पार्टी कार्यकर्ताओं को आज भाजपा कार्यालय में आयोजित बैठक में पार्टी में दोबारा वापस लिया जाएगा. जिला अध्यक्ष गौरव आर्य ने बताया कि आज पार्टी कार्यालय पर आयोजित कार्यक्रम में दोपहर 12 बजे सीमा उपाध्याय भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो जाएंगी. और 12 बजते ही ऐसा हुआ भी.

जिला पंचायत अध्यक्ष की दावेदारी पर नजर

राजनीतिक विशेषज्ञों की मानें तो सीमा उपाध्याय भारतीय जनता पार्टी में शामिल तो हो ही रही हैं. जिला पंचायत अध्यक्ष की दावेदारी भी सीमा उपाध्याय द्वारा की जा रही है. भारतीय जनता पार्टी से उनको आश्वासन मिला है कि पार्टी जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव के लिए उनको ही नामांकित करेगी.बता दें हाथरस जिला पंचायत चुनाव को लेकर सभी पार्टियों ने अपनी अपनी तैयारियां पूर्ण कर ली हैं.

UP में खुलेंगी शराब की दुकानें, आगरा, हाथरस, प्रयागराज, के बाद लखनऊ में आज फैसला

आगरा में कोरोना कर्फ्यू के बीच खुली रहेंगी शराब की दुकानें  (File)

Lucknow News: यूपी के कई जिलों के जिलाधिकारियों के पास शराब की दुकान खोलने के लिए आबकारी विभाग की पत्रावली पहुंच गई है. इसी क्रम में लखनऊ जिलाधिकारी भी आज आबकारी विभाग की पत्रावली पर फैसला करेंगे. आगरा और प्रयागराज समेत कई जिलों के जिलाधिकारियों ने शर्त के साथ शराब दुकान खोलने अनुमति दी है.

SHARE THIS:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (Yogi Government) ने प्रदेश में शराब की दुकानों (Liquor Shops) के खोलने को लेकर फैसला डीएम पर छोड़ दिया है. जानकारी के अनुसार जिलाधिकारी (DM) जिले की परिस्थिति के अनुसार आबकारी विभाग को शराब की दुकानों को खोलने के लिए अनुमति दे सकते हैं. यूपी के कई जिलों के जिलाधिकारियों के पास शराब की दुकान खोलने के लिए आबकारी विभाग की पत्रावली पहुंच गई है.

इसी क्रम में लखनऊ जिलाधिकारी भी आज आबकारी विभाग की पत्रावली पर फैसला करेंगे. आगरा और प्रयागराज समेत कई जिलों के जिलाधिकारियों ने शर्त के साथ शराब दुकान खोलने अनुमति दी है. हाथरस शामली के डीएम ने भी सोशल डिस्टेंसिंग के साथ शराब की दुकानों को खोलने के आदेश जारी कर दिए हैं.

जिलाधिकारी ही लेंगे फैसला

आबकारी सूत्रों के मुताबिक कर्फ्यू का फ़ैसला करते वक्त सरकार की तरफ से आबकारी की दुकानें को बंद करने का कोई आदेश नहीं था. लेकिन पिछले कई दिनों से दुकानें बंद चल रही है. जिसकी वजह से दुकानदारों ने आपत्ति दर्ज करायी थी. एसोसिएशन ने आबकारी विभाग से दुकानों को खोलने की परमीशन देने के लिये कहा है. इसी क्रम में अपने विवेकाधीन फ़ैसले के तहत जिले के ज़िलाधिकारी शराब की दुकानें खोलने की इजाज़त दे सकते हैं.

हाथरस डीएम का आदेश

hathras exise
हाथरस में डीएम का आदेश




शराब संघ ने की थी मांग

जानकारी के मुताबिक गौरतलब है कि यूपी लिकर एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर शराब की दुकानों को खोलने की इजाजत मांगी थी. एसोसिएशन का कहना था कि बंदी की वजह से रोजाना 100 करोड़ का नुकसान हो रहा है. साथ ही उनका तर्क था कि कोरोना कर्फ्यू की गाइड लाइन में भी दुकानों के बंद करने का कोई जिक्र नहीं है.

कोरोना के डर से लोगों ने महिला का शव छूने से किया मना, गौ सेवकों ने पेश की मानवता की मिसाल

हाथरस में एक महिला की मौत के बाद कई घंटे तक शव लावारिस पड़ा रहा तो गौ सेवकों की टीम आगे आई.

Hathras News: कई घंटे तक शव लावारिसों की तरह महिला का शव पड़ा रहा. जब सूचना गौ सेवक कृष्णा यादव को हुई तो वह तत्काल अपनी गौ सेवकों की टीम के साथ वहां पहुंचे. उन्होंने अर्थी को कंधा दिया और पूरे विधि विधान से हिन्दू रीति-रिवाज के साथ अंतिम संस्कार किया.

SHARE THIS:
हाथरस. उत्तर प्रदेश के हाथरस (Hathras) के कोतवाली सिकन्दराराऊ क्षेत्र के एक मोहल्ले में किराये पर अकेली रह रही महिला की मौत हो गई. अंतिम संस्कार करने जब कोई नहीं आया तो गौ सेवा करने वाली टीम के युवाओं ने अंतिम संस्कार किया और मानवता की मिसाल पेश की. आपको बता दें की सिकंदराराऊ के अनल कॉलोनी में एक महिला अकेली रहती थी, जिसको कुछ दिन से बुखार की शिकायत थी. उनका देहांत हो गया.

लोगों में कोरोना के डर की वजह से कोई भी उनको कंधा देने को तैयार नहीं था. कई घंटे तक शव लावारिसों की तरह पड़ा रहा. जब इस बात की सूचना गौ सेवक कृष्णा यादव को प्राप्त हुई तो वह तत्काल अपनी गौ सेवकों की टीम के साथ वहां पहुंचे. यहां उन्होंने अर्थी को कंधा दिया और पूरे विधि विधान से शमशान घाट ले जाकर उनका हिन्दू रीति-रिवाज के साथ अंतिम संस्कार किया. इस दौरान कृष्णा के साथ अमन गुप्ता, अभिषेक वार्ष्णेय, गुड्डू यादव, लव पंडित, योगेश सिसोदिया, हिमांशु वार्ष्णेय रमेश चंद्र शर्मा आदि लोग मौजूद रहे.



हम आगे भी लोगों की मदद करते रहेंगे: कृष्णा यादव

कृष्णा यादव बताते हैं कि एक महिला किराये पर रहती थी कुछ दिनों से उसकी तबीयत खराब थी, जिसको स्थानीय लोगों ने दवा दिलाई थी. उसके बाद उस महिला की बुखार के कारण मृत्यु हो गई. कोरोना के डर से आसपास के लोगों ने महिला को छूने से भी मना कर दिया. इस पूरे मामले की सूचना जैसे ही हमको हुई तो अपनी टीम के साथ पीपीई किट पहनकर महिला के शव का हिंदू रीति रिवाज के साथ अंतिम संस्कार किया है और हम आगे भी लोगों की मदद करते रहेंगे.

हाथरस: एक ही गांव के 4 लोगों की संदिग्ध हालात में मौत से हड़कंप, पूरे गांव की सैप्लिंग, सैनेटाइजेशन शुरू

हाथरस के चंदपा थाना क्षेत्र के एक गांव में 4 लोगों की संदिग्ध मौत से हड़कंप मच गया है.

Hathras News: हाथरस के एसपी ने बताया कि कल देर रात को कोतवाली चंदपा क्षेत्र के गांव कपूरा में कुछ लोगों की अचानक तबीयत खराब हुई थी. उसके बाद चार लोगों की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई है. स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव में पहुंचकर लोगों की जांच कर रही है.

SHARE THIS:
हाथरस. यूपी के हाथरस (Hathras) में एक गांव के 4 लोगों की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत से हड़कंप मच गया है. कोतवाली चंदपा क्षेत्र के गांव कपूरा का ये मामला है. गांववालों के अनुसार अचानक तबीयत खराब होने की वजह से इनकी मौत हुई. बिना पुलिस को सूचना दिए परिवार के लोगों ने शवों का अंतिम संस्कार भी कर दिया. सूचना मिलने पर पुलिस व जिला प्रशासन की टीम पहुंची. अब स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव में पहुंचकर लोगों के सैंपल ले रही है. वहीं गांव को जिला प्रशासन द्वारा सैनेटाइज किया जा रहा है.

बता दें कि कोतवाली चंद्रपाल छेत्र के गांव कपूरा में संदिग्ध परिस्थिति में 4 लोगों की मृत्यु हो गई. आज कोतवाली पुलिस को विभिन्न माध्यमों से सूचना प्राप्त हुई कि चार लोगों की कल देर रात अचानक तबीयत खराब होने की वजह से संदिग्ध परिस्थितियों में मृत्यु हो गई है. उनका अंतिम संस्कार उनके परिजनों द्वारा रीति रिवाज के अनुसार कर दिया है. पुलिस के अनुसार मौके पर पहुंचकर परिजनों व ग्रामवासियों से जानकारी की गई तो पता चला के मृतकों को अचानक सांस उखड़ने की समस्या की बात प्रकाश में आई है. मामले की जांच के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम को गांव भिजवाया गया है. स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा कोविड-19 की जांच का कार्य किया जा रहा है. पूरे गांव का सैनेटाइजेशन भी करवाया जा रहा हैं. वरिष्ठ पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा गांव पहुंचकर मृतकों को जन्नत करते हुए उनके परिजनों से संपर्क कर आवश्यक कार्यवाही की जा रही है.

पूरे गांव में शुरू हुआ सैनेटाइजेशन

hathras 4 died
हाथरस के चंदपा थाना क्षेत्र के एक गांव में 4 लोगों की संदिग्ध मौत से हड़कंप मच गया है.




पूरे गांव में स्वास्थ्य विभाग की टीम कर रही जांच: एसपी

हाथरस के पुलिस अधीक्षक विनीत जायसवाल ने बताया कि कल देर रात को कोतवाली चंदपा क्षेत्र के गांव कपूरा में कुछ लोगों की अचानक तबीयत खराब हुई थी. उसके बाद चार लोगों की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई है. स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव में पहुंचकर लोगों की जांच कर रही है. वह कोविड-19 की सैंपलिंग कर रही है. गांव को सैनिटाइजेशन का कार्य कराया जा रहा है. मामले में पुलिस द्वारा जांच कर जो भी तथ्य सामने आएंगे, उसके बाद वैधानिक कार्यवाही की जाएगी.

हाथरस: जिला पंचायत चुनाव में जेठानी ने देवरानी को दी मात, 6628 वोट पाकर हासिल की जीत

हाथरस जिला पंचायत चुनाव में जेठानी ने देवरानी को हराया है.

हाथरस (Hathras) जिला पंचायत चुनाव में जेठानी सीमा उपाध्याय ने देवरानी रितु उपाध्याय को जिला पंचायत चुनाव (Zila Panchayat Chunav) में सियासी पटकनी दी है. सीमा निर्दलीय प्रत्याशी छथीं, जबकि रितु को भाजपा का समर्थन प्राप्त था.

SHARE THIS:
हाथरस. जिला पंचायत चुनाव (Zila Panchayat Chunav) में कुछ मुकाबले बड़े ही रोचक हैं. क्योंकि ऐसे कयास लगाये जा रहे हैं कि इन्हीं वार्डों से विजयी प्रत्याशी जिला पंचायत अध्यक्ष बनेगा. इसमें सबसे ज्यादा रोमांचक मुकाबला वार्ड नंबर 14 में रहा. यहां जेठानी सीमा उपाध्याय ने देवरानी रितु उपाध्याय को जिला पंचायत चुनाव में सियासी पटकनी दी है.

इसी बीच मुकाबले को कुछ और प्रत्याशियों ने भी रोचक बना दिया. पूर्व मंत्री रामवीर उपाध्याय की प्रतिष्ठा भी दांव पर लगी हुई थी है. निर्दलीय प्रत्याशी सीमा ने सभी प्रत्याशियों को मात देते हुए जीत हासिल की है. सबसे बड़ी बात तो यह रही कि भाजपा से समर्थित प्रत्याशी रितू उपाध्याय इस पूरे मुकाबले में  5वें स्थान पर आई हैं.

कल सुबह से ही मतगणना शुरू होते ही स्थानीय लोगों की निगाहें सिर्फ इसी बार्ड में जेठानी और देवरानी की जीत पर बनी हुई थीं. वहीं पूरे मतगणना के समय सीमा शुरू से ही आगे रहीं और दूसरे स्थान पर निर्दली प्रत्याशी क्षमा शर्मा रही हैं. वहीं तीसरे स्थान पर बसपा प्रत्याशी मधु चौधरी और चौथे स्थान पर सपा प्रत्याशी रहीं. पाचवें स्थान पर भाजपा की प्रत्याशी देवरानी रितू उपाध्याय रही हैं. साथ में उपाध्याय परिवार की इस फूंट का लाभ कई अन्य दमदार प्रत्याशीयों ने भी खूब उठाया. वहीं सभी प्रत्याशी अपनी जीत का समीकरण भी साध रहे थे.

UP Lockdown Extended: यूपी में वीकेंड लॉकडाउन की समय सीमा बढ़ाई गई, 6 मई की सुबह 7 बजे तक रहेगी पाबंदियां

जिले के कद्दावर नेता व सादाबाद विधायक रामवीर उपाध्याय के परिवार में जिला पंचायत चुनाव को लेकर कलह खुलकर सामने आई थी. रामवीर उपाध्याय की पत्नी और पूर्व सांसद सीमा उपाध्याय जिला पंचायत के वार्ड नंबर 14 से सदस्य पद का निर्दलीय चुनाव लड़ी और 6628 वोटों से जीत भी हासिल की.

उनके सामने कोई और नहीं बल्कि उनकी देवरानी व पूर्व एमएलसी मुकुल उपाध्याय की पत्नी भाजपा से समर्थित रितु उपाध्याय थीं. पूर्व मंत्री रामवीर उपाध्याय के साथ-साथ मुकुल उपाध्याय की प्रतिष्ठा भी दांव पर लगी थी. सीमा उपाध्याय जहां निर्दलीय चुनाव मैदान में खड़ी थीं वहीं रितु को भाजपा का समर्थन प्राप्त था. इस मुकाबले को और रोचक बना दिया है निर्दलीय प्रत्याशी क्षमा शर्मा ने. क्षमा शर्मा के पति डॉ. अविन शर्मा लंबे समय से भाजपा की राजनीति कर रहे थे और इस बार से पार्टी का समर्थन पाने के लिए दावेदारी भी की थी. लेकिन, भाजपा ने ऐन वक्त पर मुकुल की पत्नी को समर्थन दे दिया. ऐसे में क्षमा भी मैदान में कूद गई.

मुकाबला काफी रोचक भरा रहा इस सीट पर उनके पति व जिले के दिग्गज नेता रामवीर की प्रतिष्ठा दांव पर लगी थी. वहीं अपने परिवार से बगावत कर चुनाव लड़ रहे मुकुल के सामने भी अपनी राजनीति साख बचाने की चुनौती थी. मुकुल की पत्नी नगर पालिका का चुनाव हार चुकी हैं और मुकुल भी कई चुनाव हार चुके हैं. ऐसा पहली बार हो हुआ है कि उपाध्याय परिवार के दो सदस्य आमने सामने मैदान में है. इस मुकाबले को निर्दलीय प्रत्याशी क्षमा शर्मा ने भी रोमांचक बना दिया था. इनकी कोशिश है कि इस परिवार में हुई फुट को बना लिया जाए और विजयश्री प्राप्त कर ली जाए.

Hathras Panchayat Chunav Result: हाथरस मतगणना स्थल पर सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां, पुलिस ने भांजी लाठी

हाथरस में पंचायत चुनाव मतगणना केंद्र में सोशल डिस्टेंसिंग नियम की जमकर धज्जियां उड़ीं.

Hathras Panchayat Chunav Result: हाथरस के एमजी पॉलिटेक्निक कॉलेज में बने मतगणना केंद्र पर कोरोना प्रोटोकॉल की जमकर उड़ी धज्जियां. पुलिस को सोशल डिस्टेंसिंग का नियम पालन कराने को हल्का बलप्रयोग करना पड़ा.

SHARE THIS:
हाथरस. पंचायत चुनाव की मतगणना के दौरान यूपी के कई शहरों में कोरोना प्रोटोकॉल की जमकर धज्जियां उड़ रही हैं. सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के बावजूद इन स्थलों पर सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन नहीं हो रहा है. यूपी के हाथरस जिले के मतगणना स्थल का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें काउंटिंग एजेंट और प्रत्याशियों के समर्थक दीवार फांसदर काउंटिंग सेंटर की ओर बढ़ते नजर आ रहे हैं. हालात यहां तक खराब हुए कि पुलिस को इन समर्थकों को तितर-बितर करने के लिए हल्का बल प्रयोग करना पड़ा. मतगणना केंद्र पर एजेंट व प्रत्याशी एक दूसरे के ऊपर चढ़ते हुए आ रहे हैं.

वीडियो में आप देख सकते हैं कि जिले के कोतवाली सदर क्षेत्र में मतगणना के दौरान सैकड़ों की संख्या में पहुंचे समर्थकों को न तो कोरोना महामारी की परवाह है और न ही सुप्रीम कोर्ट के दिशा-निर्देशों की. हाथरस के एमजी पॉलीटेक्निक कॉलेज में बने मतगणना केंद्र पर पहुंचे प्रत्याशी, उनके समर्थकों और काउंटिंग एजेंट्स की भीड़ इतनी जबर्दस्त है कि पुलिस को इन्हें रोकने के लिए बल प्रयोग करना पड़ रहा है. जिला पुलिस प्रशासन को एमजी पॉलिटेक्निक कॉलेज के बाहर एकत्रित भीड़ को वहां से हटाने में कड़ी मशक्कत करनी पड़ी.





इससे पहले खबर आई कि हाथरस के मुरसान स्थित मतगणना केंद्र पर चार मतगणना कर्मी कोरोना संक्रमित निकले हैं. कर्मचारियों के पॉजिटिव मिलते ही खलबली मच गई. इसके अलावा सासनी में भी काउंटिंग सेंटर पर मतगणना कर्मी कोरोना पॉजिटिव पाए गए, जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग की टीमें मौके पर पहुंची.

Hathras Panchayat Chunav Results 2021: हाथरस में 7 मतगणना कर्मी निकले कोरोना पॉजिटिव, जानें फिर क्‍या हुआ?

हाथरस के सासनी और मुरसान में सात मतगणना कर्मी निकले कोरोना पॉजिटिव.

UP Panchayat Election Results 2021: हाथरस (Hathras) में पंचायत चुनाव की मतगणना शुरू होने से पहले सासनी में 3 और मुरसान में चार ड्यूटी कर्मी के कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive) निकलने से हड़कंप मच गया है.

SHARE THIS:
हाथरस. उत्‍तर प्रदेश पंचायत चुनाव की मतगणना (UP Panchayat Chunav Results) शुरू हो गई है और कुछ घंटों के बाद रिजल्‍ट आने का सिलसिला शुरू हो जाएगा. इस बीच हाथरस से चिंता बढ़ाने वाली खबर सामने आ रही है. दरअसल, यूपी के हाथरस (Hathras) में पंचायत चुनाव की मतगणना चल रही है. इस दौरान जिले के सासनी में मतगणना में आए 3 ड्यूटी कर्मी कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive) निकलने से हड़कंप मच गया. यही नहीं, हाथरस जिले के ही थाना मुरसान में मतगणना केंद्र पर चार ड्यूटी कर्मी पॉजिटिव निकले हैं.

बता दें कि आज यूपी के 75 जिलों में पंचायत चुनाव की मतगणना चल रही है, जिसमें हाथरस भी शामिल है. इस दौरान पंचायती राज विभाग ने कोरोना प्रोटोकॉल के पालन की सख्‍त हिदायत दी है. इस वजह से मतगणना केंद्रों पर तैनात ड्यूटी कर्मियों का कोरोना टेस्‍ट किया जा रहा है. इस वजह से हाथरस के सासनी और मुरसान केंद्रों पर आज सुबह ड्यूटी पर पहुंचने के बाद कर्मियों का RTPCR टेस्‍ट किया गया, जिसमें सात लोग कोरोना पॉजिटिव मिले हैं.

ड्यूटी कर्मियों को वापस भेजा
मतगणना केंद्रों पर कोरोना पॉजिटिव आने के न सिर्फ सभी सात ड्यूटी कर्मियों को वापस भेज दिया गया है बल्कि उनको क्‍वारंटाइन भी कर दिया गया है. वहीं, यह सभी जहां पहुंचे थे वहां सैनिटाइजेशन का काम करने के बाद मतगणना का काम शुरू किया गया है.

यूपी में कोरोना से हाहाकार
उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 30317 नए कोरोना के मामले आये हैं.जबकि इस दौरान 303 लोगों की कोरोना से मौत हुई. इस समय उत्तर प्रदेश में 3 लाख 1 हजार 83 एक्टिव केस हैं. इसके अलावा प्रदेश में अब तक 1,02,64,986 लोगों को कोरोना वैक्सीन की डोज लग चुकी है. इसमें से 23,22,998 लोगों को वैक्सीन की दूसरी डोज लगी है. वहीं 1 मई से प्रदेश में 18-44 वर्ष के लोगों का वैक्सीनेशन भी शुरू हो गया है.

हाथरस: दो फौजियों ने अपने गांव की नाबालिग लड़की के साथ किया गैगरेप, एक गिरफ्तार

हाथरस में सेना के दो जवानों ने अपने ही गांव की एक नाबालिग लड़की के साथ गैंगरेप किया. एक गिरफ्तार हो गया है.

Hathras News: क्षेत्राधिकारी सादाबाद ब्रह्मदेव ने बताया कि पुलिस को सूचना प्राप्त हुई थी कि 28 तारीख की रात को एक लड़की अपने घर से बाहर गई थी. तभी गांव के ही 2 लड़कों ने लड़की के साथ सामूहिक दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया है.

SHARE THIS:
हाथरस. उत्तर प्रदेश के हाथरस (Hathras) की कोतवाली सादाबाद क्षेत्र के एक गांव में नाबालिग लड़की के साथ सामूहिक दुष्कर्म (Gangrape) की घटना को अंजाम दिया गया है. आरोप है कि 28 अप्रैल की रात को नाबालिग युवती अपने घर से पड़ोसी के घर गई थी, जहां से लौटते वक्त गांव के ही दो युवक मुकेश पुत्र मोहन और सौरव पुत्र संजय द्वारा उसके के साथ गलत काम किया गया. इसकी सूचना मिलते ही तत्काल कोतवाली सादाबाद पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गई.

पुलिस ने घटनास्थल का निरीक्षण करते हुए घटना के बारे में जानकारी की. परिजनों द्वारा कोतवाली सादाबाद पुलिस को लिखित तहरीर के आधार पर कोतवाली में सुसंगत धाराओं में अभियोग पंजीकृत करने के बाद पुलिस द्वारा पीड़िता को चिकित्सीय परीक्षण हेतु जिला चिकित्सालय भेजा गया.

आरोपी मुकेश गिरफ्तार

पुलिस द्वारा गांव में जानकारी करने पर पता चला आ कि आरोपी मुकेश सेना में कार्यरत है और अवकाश पर घर पर आया हुआ है. वहीं आरोपी सौरभ भी सेना में कुछ समय पहले ही भर्ती हुआ है. पुलिस ने नामजद आरोपी मुकेश पुत्र मोहन (उम्र लगभग 22 वर्ष) निवासी कोतवाली सादाबाद क्षेत्र को गिरफ्तार कर लिया गया है. पुलिस मामले में अग्रिम आवश्यक वैधानिक कार्यवाही कर रही है.

दोनों आरोपी सेना में कार्यरत

क्षेत्राधिकारी सादाबाद ब्रह्मदेव ने बताया कि पुलिस को सूचना प्राप्त हुई थी कि 28 तारीख की रात को एक लड़की अपने घर से बाहर गई थी. तभी गांव के ही 2 लड़कों ने लड़की के साथ सामूहिक दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया है. पुलिस ने तत्काल पीड़ित की तहरीर पर अभियोग पंजीकृत करते हुए एक नामजद आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. गिरफ्तार आरोपी भारतीय सेना में कार्यरत है. अवकाश पर गांव में आया था. वही दूसरा आरोपी भी ही सेना में ही कार्यरत है. आरोपी के खिलाफ सुसंगत धाराओं में अभियोग पंजीकृत कर कानूनी कार्यवाही की जा रही है.

Hathras News: जहरीली शराब पीने से पांच की मौत, आधा दर्जन से अधिक की हालत गंभीर

हाथरस में जहरीली शराब पीने से पांच की मौत

Hathras Hooch Tragedy: जानकारी के मुताबिक गांव हुई पारंपरिक पूजा के दौरान सभी ने देसी शराब का सेवन किया था. जिसके बाद उनकी तबीयत बिगड़ने पर उन्हें जिला अस्पताल में एडमिट कराया गया, जहां डॉक्टरों ने पांच लोगों को मृत घोषित कर दिया.

SHARE THIS:
हाथरस. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के हाथरस (Hathras) जनपद में जाहिरी शराब (Illicit Liquor) पीने से पांच लोगों की मौत हो गई, जबकि आधा दर्जन से अधिक लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है. गंभीर मरीजों का इलाज जिला अस्पताल और अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज में चल रहा है. जानकारी के मुताबिक गांव हुई पारंपरिक पूजा के दौरान सभी ने देसी शराब का सेवन किया था. जिसके बाद उनकी तबीयत बिगड़ने पर उन्हें जिला अस्पताल में एडमिट कराया गया, जहां डॉक्टरों ने पांच लोगों को मृत घोषित कर दिया.

जिलाधिकारी रमेश रंजन ने बताया कि कोतवाली गेट क्षेत्र के नगला दया ग्राम पंचायत के दो मजरे हैं,  नगला पराध गांव नगला सिंधी. यहां पर 26 अप्रैल को सिंधी समाज के लोगों ने अपने कुल देवता की पूजा  .यह परंपरा सदियों पुरानी है. इसमें सिंधी समाज के लोग अपने कुल देवता को शराब चढ़ाते हैं और उसके बाद प्रसाद के रूप में उसका सेवन करते हैं. जिलाधिकारी के मुताबिक 26 अप्रैल को यह पूजा हुई और लोगों ने शराब का सेवन किया. 27 अप्रैल की रात स्थानीय पुलिस और अन्य माध्यमों से हमें पता चला कि गांव में मौतें हुई हैं. सूचना के बाद ततकाल खुद मैं, एडीएम, पुलिस अधीक्षक व अन्य टीमें मौके पर पहुंची. मौके पर पता चला कि चार लोगों की डेथ हो चुकी थी. उसमें से एक को उसके परिवार वालों ने अंतिम संस्कार कर दिया था. बाकी  तत्काल पोस्टमॉर्टेम के लिए भेजा गया.



एक आरोपी गिरफ्तार
जिलाधिकारी ने बताया कि परिजनों ने जिस पर शराब बेचने का आरोप लगाया था उसे रात में ही पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था. उससे पूछताछ जारी है. मौके से पुलिस ने कुछ खली बोतलें भी बरामद की हैं. जिसकी स्कैनिंग के बाद पता चला है कि वे स्थानीय दुकानों से खरीदी गई हैं. पुलिस और आबकारी विभाग की टीम उन दुकानों पर छापेमारी कर रही हैं. आज यानी 28 अप्रैल को एक और व्यक्ति की मौत हो गई है. अब तक कुल पांच लोगों की मौत हुई है.

Hathras: शराब पीने से अब तक 6 की मौत, कई गंभीर, एसपी का दोषी पुलिसकर्मियों पर एक्शन

दरोगा रामदास (बाएं) निलंबित किए गए. थाना प्रभारी जगदीश चंद्र के खिलाफ जांच के आदेश. (File Photo)

Hathras News: हाथरस शराब कांड में अब तक 6 लोगों की मौत हो चुकी है. एसपी ने कोतवाली हाथरस गेट में तैनात हलका इंचार्ज रामदास पचौरी और आरक्षी 464 रिन्कू सिंह को निलंबित कर दिया है. वहीं कोतवाली गेट प्रभारी जगदीश चंद्र के खिलाफ विभागीय जांच कर कार्यवाही के आदेश दिए हैं.

SHARE THIS:
हाथरस. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के हाथरस (Hathras) जनपद में शराब से अब 6 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं आधा दर्जन से अधिक लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है. गंभीर मरीजों का इलाज जिला अस्पताल और अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज में चल रहा है. उधर मामले में एसपी ने दोषी पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की है. एसपी ने एक दारोगा और एक सिपाही को निलंबित कर दिया है. एसपी ने ड्यूटी में लापरवाही बरतने पर पुलिसकर्मियों के खिलाफ ये कार्रवाई की है. एसपी ने कोतवाली गेट प्रभारी जगदीश चंद्र के खिलाफ भी विभागीय जांच कर कार्यवाही के आदेश दिए हैं. कोतवाली हाथरस गेट में तैनात हलका इंचार्ज रामदास पचौरी और आरक्षी 464 रिन्कू सिंह को निलंबित किया गया है.

जानकारी के मुताबिक गांव में पारंपरिक पूजा के दौरान सभी ने देसी शराब का सेवन किया था. जिसके बाद उनकी तबीयत बिगड़ने पर उन्हें जिला अस्पताल में एडमिट कराया गया, जहां अब तक 6 लोगों की मौत हो चुकी है.

जिलाधिकारी रमेश रंजन ने बताया कि कोतवाली गेट क्षेत्र के नगला दया ग्राम पंचायत के दो मजरे हैं,  नगला पराध गांव नगला सिंधी. यहां पर 26 अप्रैल को सिंधी समाज के लोगों ने अपने कुल देवता की पूजा की थी. यह परंपरा सदियों पुरानी है. इसमें सिंधी समाज के लोग अपने कुल देवता को शराब चढ़ाते हैं और उसके बाद प्रसाद के रूप में उसका सेवन करते हैं.



26 अप्रैल को हुई थी पूजा

जिलाधिकारी के मुताबिक 26 अप्रैल को यह पूजा हुई और लोगों ने शराब का सेवन किया. 27 अप्रैल की रात स्थानीय पुलिस और अन्य माध्यमों से हमें पता चला कि गांव में मौतें हुई हैं. सूचना के बाद ततकाल खुद मैं, एडीएम, पुलिस अधीक्षक व अन्य टीमें मौके पर पहुंची. मौके पर पता चला कि चार लोगों की डेथ हो चुकी थी. उसमें से एक को उसके परिवार वालों ने अंतिम संस्कार कर दिया था. बाकी  तत्काल पोस्टमॉर्टेम के लिए भेजा गया.

एक आरोपी गिरफ्तार

जिलाधिकारी ने बताया कि परिजनों ने जिस पर शराब बेचने का आरोप लगाया था उसे रात में ही पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था. उससे पूछताछ जारी है. मौके से पुलिस ने कुछ खाली बोतलें भी बरामद की हैं. जिसकी स्कैनिंग के बाद पता चला है कि वे स्थानीय दुकानों से खरीदी गई हैं. पुलिस और आबकारी विभाग की टीम उन दुकानों पर छापेमारी कर रही हैं. आज यानी 28 अप्रैल को दो और व्यक्ति की मौत हो गई है. अब तक कुल 6 लोगों की मौत हुई है.
Load More News

More from Other District

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज