अपना शहर चुनें

States

हाथरस कांड: भाई का आरोप- DM ने पीड़िता के पिता को सीने पर मारी लात, हुए बेहोश, देखें VIDEO

हाथरस में पीड़िता के गांव में प्रवेश की कोशिश में पुलिस से भिड़ंत और टीएमसी सांसद गिर पड़े. (Photo: News 18)
हाथरस में पीड़िता के गांव में प्रवेश की कोशिश में पुलिस से भिड़ंत और टीएमसी सांसद गिर पड़े. (Photo: News 18)

हाथरस (Hathras) में पीड़ित परिवार तरफ से डीएम प्रवीण लक्षकार पर गंभीर आरोप लगाए गए हैं. डीएम पर आरोप लगा है कि उन्होंने परिवार के सदस्यों से मारपीट की और मोबाइल छीन लिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 3, 2020, 10:51 AM IST
  • Share this:
हाथरस. उत्तर प्रदेश के हाथरस (Hathras) में गैंगरेप पीड़िता (Gangrape Victim) की मौत के बाद से बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है. एक तरफ मामले में राजनीतिक दल लगातार हाथरस पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं और देश भर में इस कांड को लेकर बयानबाजी का दौर चल रहा है. वहीं दूसरी तरफ हाथरस जिला प्रशासन (Hathras District Administration) ने पीड़िता के गांव की किलेबंदी कर दी है. स्थिति ये है कि 3 दिन से गांव में पीड़ित परिवार 'बंधक' है. मीडिया हो या नेता या कोई आम इंसान, किसी को भी गांव में प्रवेश की इजाजत नहीं है.

उधर मामले में पीड़ित परिवार की तरफ से हाथरस के डीएम प्रवीण लक्षकार पर गंभीर आरोप लगाए गए है. उन पर आरोप लगाया गया है कि उन्होंने परिवार के सदस्यों से मारपीट की और मोबाइल छीन लिया है.

छिपते-छिपाते मीडिया तक पहुंचा भाई



बता दें पीड़ित परिवार से एक लड़का, जो पीड़िता का भाई बताया जा रहा है, मीडिया तक किसी तरह पहुंचा. उसने बताया कि वह खेतों से छिपते-छिपाते मीडिया तक पहुंचा. उसने बताया कि प्रशासन ने परिवार का मोबाइल फोन छीन लिया है. किसी को भी घर से बाहर निकलने नहीं दे रहे हैं. उसने बताया कि मां मीडिया से बात करना चाहती हैं लेकिन पुलिस ने पूरी तरह से घेराबंदी कर रखी है. छत, गली से लेकर हर जगह पुलिस तैनात है. यही नहीं मेरे ताऊ (पीड़िता के पिता) को डीएम ने छाती पर लात मारी, जिससे वो बेहोश हो गए थे. सभी को कमरे में बंद कर दिया है.




डीएम पर कार्रवाई न होने से परिवार में आक्रोश

बता दें योगी सरकार द्वारा एसपी सहित पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की गई लेकिन पीड़ित परिवार संतुष्ट नहीं है. 3 दिन से परिवार नजरबंद है और सरकार द्वारा डीएम पर कार्रवाई नहीं होने से परिजनों में आक्रोश है.



सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्राथमिक जांच रिपोर्ट के आधार पर एसपी विक्रम वीर, डीएसपी राम शब्द, इंस्पेक्टर दिनेश कुमार वर्मा, उप निरीक्षक जगवीर सिंह तथा हेड मुर्रा महेश पाल को सस्पेंड कर दिया है. इसी के साथ एक और बड़ा फैसला लिया गया है. इसके अंतर्गत मामले से संबंधित पुलिसकर्मियों के साथ ही पीड़ित परिवार व कुछ अन्य लोगों का भी नार्को टेस्ट करवाया जाएगा. इसके अलावा संबंधित पुलिसकर्मियों का नार्को व पॉलीग्राफ टेस्ट करवाया जाएगा. वहीं, डीएम प्रवीण कुमार पर कोई कार्रवाई नहीं की गई है. इस आदेश के बाद एसपी विक्रांत वीर की जगह एसपी शामली विनीत जयसवाल को हाथरस का नया एसपी नियुक्त किया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज