लाइव टीवी

स्वामी से राजनीति के अखाड़े तक कैसे बढ़ता गया चिन्मयानंद का साम्राज्य

News18Hindi
Updated: September 20, 2019, 11:49 AM IST
स्वामी से राजनीति के अखाड़े तक कैसे बढ़ता गया चिन्मयानंद का साम्राज्य
पिछले साल योगी सरकार ने स्वामी चिन्मयानंद के ऊपर लगे रेप के एक मुकदमे को वापस ले लिया था

यौन शोषण (Sexual Harassment Case) मामले में एसआईटी (SIT) ने स्वामी चिन्मयानंद (Swami Chinmayanand) को उसके आश्रम से गिरफ्तार किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 20, 2019, 11:49 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. लॉ छात्रा के साथ यौन शोषण (Sexual Harassment Case) मामले में स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम (SIT) ने पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री और बीजेपी नेता स्वामी चिन्मयानंद (Swami Chinmayanand) को गिरफ्तार कर लिया है. एसआईटी ने स्वामी चिन्मयानंद को उनके आश्रम से गिरफ्तार किया है. उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है. आइए आपको बताते हैं कैसे स्वामी चिन्मयानंद ने स्वामी से राजनीतिक गलियारे में कदम रखा.

शाहजहांपुर में अपना साम्राज्य फैलाने वाला स्वामी चिन्मयानंद यूपी के गोंडा का रहने वाला है. स्वामी चिन्मयानंद का असली नाम कृष्णपाल सिंह है. स्वामी चिन्मयानंद ने लखनऊ विश्वविद्यालय से एमए की डिग्री हासिल की है. चिन्मयानंद ने पहली बार बीजेपी के टिकट से लोकसभा का चुनाव लड़ा था. बता दें के साल 1991 में बीजेपी के टिकट पर बदायूं लोकसभा सीट से चुनाव लड़कर स्वामी चिन्मयानंद संसद के गलियारे तक पहुंच गया.

इसके बाद साल 1998 में यूपी के मछली शहर और साल 1999 में जौनपुर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा और दोनों ही बार वह जीता भी. इतना ही नहीं पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार ने स्वामी चिन्मायनंद को केंद्रीय गृह राज्य मंत्री का दर्जा दिया गया.

इसे भी पढ़ें :- लॉ स्टूडेंट यौन शोषण मामला: आरोपी चिन्मयानंद को SIT ने आश्रम से किया गिरफ्तार

बताया जाता है कि राम मंदिर आंदोलन में चिन्मयानंद की काफी अहम भूमिका रही थी. स्वामी चिन्मयानंद ने गोरखपुर की गोरक्षा पीठ के महंत और पूर्व सांसद अवैद्यनाथ के साथ मिलकर राम मंदिर आंदोलन को आगे बढ़ाने का काम किया था. इसके बाद ही महंत अवैद्यनाथ ने लोकसभा चुनाव के लिए स्वामी  चिन्मयानंद का नाम आगे बढ़ाया. यहीं से स्वामी चिन्मयानंद योगी आदित्यनाथ के करीबी बन गया और जब 2017 के यूपी विधानसभा चुनावों में बीजेपी को बंपर जीत मिली तो मुख्यमंत्री के नाम के लिए स्वामी चिन्मयानंद ने ही योगी का नाम आगे किया था.

इसे भी पढ़ें :- यौन शोषण के आरोप में घिरे चिन्मयानंद का पुराना रिकॉर्ड भी दागदार

एसएस कॉलेज को युनिवर्सिटी बनाना चाहता था चिन्मयानंद
Loading...

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के करीबी माने जाने वाले 72 साल के स्वामी चिन्मयानंद अपने एसएस कॉलेज को यूनिवर्सिटी बनाने वाले थे. इसके लिए योग सरकार ने अनुमति भी दे दी थी लेकिन उसी दौरान यौन शोषण के मामले में स्वामी चिन्मयानंद का नाम सामने आ गया. ऐसा पहला मामला नहीं है जब स्वामी चिन्मयानंद पर यौन शोषण के आरोप लगे हैं, इससे पहले भी कई छात्राओं ने उनपर आरोप लगाए हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 20, 2019, 10:49 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...