ससुराल वालों ने पत्नी को नहीं भेजा तो दामाद ने ससुर को बताया विकास दुबे का साथी, पुलिस लेकर पहुंची हवालात
Mainpuri News in Hindi

ससुराल वालों ने पत्नी को नहीं भेजा तो दामाद ने ससुर को बताया विकास दुबे का साथी, पुलिस लेकर पहुंची हवालात
File Photo.

जब ससुराल वालों ने युवक की पत्नी को उसके साथ नहीं भेजा तो शख्‍स ने पुलिस को फोन कर दिया. उसने पुलिस को सूचना दी कि कानपुर शूटआउट (Kanpur Shootout) के फरार आरोपी विकास दुबे का एक साथी यहां गांव में छिपा हुआ है.

  • Share this:
मैनपुरी. कानपुर (Kanpur) में हुई 8 पुलिसवालों की हत्या के आरोपी विकास दुबे (Vikas Dubey) का नाम सबकी ज़ुबां पर है. पुलिस भी गैंगस्टर विकास की तलाश में खाक छान रही है, लेकिन अभी तक उसका कोई पता नहीं चला है. इस बीच, मैनपुरी (Mainpuri) में एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसमें एक युवक ने विकास दुबे का नाम का इस्तेमाल कर अपने ससुर को ही सबक सिखाने की ठान ली. जब ससुराल वालों ने युवक की पत्नी को उसके साथ नहीं भेजा तो युवक ने पुलिस को फोन कर दिया.

पुलिस को सूचना दे दी कि कानपुर शूटआउट (Kanpur Shootout) के फरार आरोपी विकास दुबे का एक साथी यहां गांव में छिपा हुआ है. यह सुनकर पुलिस के हाथ-पांव फूल गए. आनन-फानन में पुलिस ने गांव में घेरा डालते हुए उस व्यक्ति को पकड़ लिया. बाद में पता चला कि दामाद ने अपने ससुर को सबक सिखाने के लिए पुलिस को झूठी जानकारी दी थी. पुलिस अब उस झूठे दामाद की तलाश में जुट गई है.

ये भी पढ़ें- दो महिलाएं जो दुबे को दे रही थीं पुलिस की लोकेशन और चलवा रही थीं गोलियां



शूटआउट वाली रात 5 किमी तक साइकिल से भागा था विकास दुबे, यहां पहुंचकर ली थी बाइक!
दामाद ने पुलिस को फोन कर यह बताया ससुर के बारे में 
मैनपुरी के कस्बा किशनी के इंस्पेक्टर के फोन पर सोमवार की शाम को किसी ने फोन कर बताया कि कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या करने वाले विकास दुबे का एक साथी गांव दौलतपुर का रहने वाला नवल किशोर है जो हत्याकांड के समय कानपुर में मौजूद था. लेकिन अब भागकर अपने घर आकर छुप गया है. इतनी सूचना पर तो पुलिस के होश उड़ गए. इंस्पेक्टर ने एसपी अजय कुमार पांडेय को घटना की जानकारी दी. एसपी ने पुलिसबल के साथ मौके पर जाने के निर्देश दिए. किशनी थाना प्रभारी अजीत सिंह भारी पुलिस बल के साथ नवल किशोर के घर पहुंचे और उसे पकड़कर थाने ले आए.

ससुर ने मोबाइल नंबर सुनते ही कहा- यह तो मेरा दामाद है
पुलिस ने जब नवलकिशोर से पूछताछ की तो उसने खुद के विकास दुबे से किसी भी तरह के संपर्क होने से मना किया. जब पुलिस ने सूचना देने वाले के बारे में बताते हुए फोन नंबर बताया तो नवल किशोर के पैरों तले जमीन खिसक गई. उसने पुलिस को बताया कि यह मेरे दामाद मनोहर निवासी मथपुरा थाना बेबर का है. यह अपनी पत्नी को लेने आया था तो मैंने कुछ दिन बाद ले जाने की बात कही थी. इसी बात से उसने गुस्से में आकर पुलिस को झूठी सूचना दी.



इसके बाद भी पुलिस काफी देर तक नवल किशोर के बारे में क्षेत्रीय लोगों से जानकारी जुटाती रही. जब पुलिस पूरी तरह से संतुष्ट हो गई तब जाकर नवल किशोर को हवालात से छोड़ा. अब पुलिस झूठी सूचना देने वाले वाले दामाद की तलाश में जुट गई है. थाना प्रभारी अजीत सिंह ने बताया कि हमने पूरी जानकारी जुटा ली है. दामाद ने अपने ससुरा को फंसाने के लिए झूठ बोला था. आरोपी की तलाश की जा रही है. उस पर कार्रवई की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading