कोरोना काल में अंतिम संस्कार के लिए लकड़ियों के दाम में बेहताशा वृद्धि, मदद के लिए सामने आए महापौर

अयोध्या में महापौर ने अंतिम संस्कार में लोगों को लकड़ी देने के लिए लकड़ी का बैंक खोला है.

अयोध्या में महापौर ने अंतिम संस्कार में लोगों को लकड़ी देने के लिए लकड़ी का बैंक खोला है.

अयोध्या (Ayodhya) में अंतिम संस्कार के लिए लोगों को लकड़ी नहीं मिल रही है. इससे परेशान होकर लोगों ने महापौर (Mayor) से शिकायत की है. इसके बाद महापौर ने लकड़ी का बैंक खुलवाया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 26, 2021, 2:52 PM IST
  • Share this:
अयोध्या. कोरोना काल में लगातार हो रही मौतों के बाद अयोध्या (Ayodhya) में शवों को जलाने के लिए लकड़ियां कम पड़ने लगी हैं. बाजार मे मिलने वाली लकड़ियों के दाम आसमान छू रहे हैं. इसके बाद स्थानीय लोगों ने वहां के महापौर से शिकायत की, जिसके बाद महापौर जनता की मदद करने के लिए सामने आए. महापौर ने कहा कि अयोध्या में नि:शुल्क जरूरतमंदों को अंतिम संस्कार के लिए लकड़ी उपलब्ध कराएंगे. इसके लिए लिए श्मशान घाट पर लकड़ी बैंक की स्थापना की जाएगी और जरूरतमंदों को नि:शुल्क लकड़ी उपलब्ध कराई जाएगी, जिससे जरूरतमंद लोग शवों का अंतिम संस्कार कर सकेंगे.वै

वैश्विक कोरोना महामारी ने अपने पांव पसार दिए हैं. इस महामारी की चपेट में आए लोगों की मौत हो रही है साथी स्वाभाविक मौतों का सिलसिला भी प्रतिदिन चला आ रहा है. ऐसे में अयोध्या के श्मशान घाटों पर शव दाह के लिए उपलब्ध लकड़ियों की आवश्यकता और मांग दोनों बढ़ गई, लिहाजा स्थानीय स्तर पर लकड़ी के रेट में दुकानदारों के द्वारा वृद्धि कर दी गई. अब अयोध्या पहुंच रहे लोगों को शव के अंतिम संस्कार के लिए लकड़ी खरीदने के लिए मोटी रकम चुकानी पड़ रही है.

ऐसे में अयोध्या नगर निगम की व्यवस्थाओं से आहत अयोध्या नगर निगम के महापौर ऋषिकेश उपाध्याय ने सराहनीय पहल की है. उन्होंने अपने निजी खर्च से श्मशान घाट पर लकड़ी के स्टाल लगाए हैं, जहां सेजरूरतमंदों को नि:शुल्क लकड़ी दी जाएगी. इतना ही नहीं आज शाम तक श्मशान घाट पर एक लकड़ी बैंक की स्थापना कर दी जाएगी, जो संतों के सहयोग से तथा और रामायण सेवा ट्रस्ट के सौजन्य से संचालित होगा, जिसमें अयोध्या पहुंचने वाले लोगों को अपने परिजनों के अंतिम संस्कार के लिए आवश्यकतानुसार नि:शुल्क लकड़ी उपलब्ध करायी जाएगी.

Corona TSunami: …तो महाराष्ट्र को भी पीछे छोड़ देगा यूपी? 30 अप्रैल से रोजाना 1.19 लाख मरीज मिलने का अनुमान
मोंक्षदायिनी सरयू के तट पर पर आसपास के जिलों के लोग बड़ी संख्या में अपने परिजनों और शुभचिंतकों के अंतिम संस्कार के लिए अयोध्या आते हैं. साथ ही वैश्विक महामारी ने पूरे देश में हाहाकार मचा दिया है. लगातार मौतों का आंकड़ा बढ़त जा रहा है. प्रतिदिन घाट पर सैकड़ों की संख्या में शव अंतिम संस्कार के लिए आ रहे हैं, ऐसे में अयोध्या के श्मशान घाटों पर उपलब्ध लकड़ी की मांग बढ़ गई है दुकानदारों के द्वारा मनमाना पैसा वसूला जा रहा था जिसकी शिकायत लगातार जिले के उच्चाधिकारियों समेत महापौर से हो रही थी अयोध्या नगर निगम के महापौर अयोध्या नगर निगम की व्यवस्थाओं पर खुद ही प्रश्नचिन्ह उठा चुके हैं और हाल ही में उन्होंने नगर विकास मंत्री को शिकायती पत्र भी दिया था, जिसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि कोरोना काल में स्थानीय प्रशासन सैनिटाइजेशन और आवश्यकता की चीजों को नजरअंदाज कर रहा है लापरवाही कर रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज