Assembly Banner 2021

बाबरी मस्जिद के पूर्व पक्षकार रहे इकबाल अंसारी ने राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण में श्रमदान करने की जताई इच्छा

बाबरी मस्जिद के पूर्व पक्षकार रहे इकबाल अंसारी ने राम मंदिर निर्माण में श्रम दाम करने की ईच्छा जताई है.

बाबरी मस्जिद के पूर्व पक्षकार रहे इकबाल अंसारी ने राम मंदिर निर्माण में श्रम दाम करने की ईच्छा जताई है.

बाबरी मस्जिद (Babri Masjid) के पूर्व पक्षकार रहे इकबाल अंसारी (Iqbal Ansari) ने राम मंदिर (Ram Mandir) निर्माण में श्रमदान करने की इच्छा जताई है. साथ ही उन्होंने सभी धर्म (Religion) के लोगों से राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण के लिए दान देने की अपील की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 25, 2021, 4:39 PM IST
  • Share this:
अयोध्या. रामलला मंदिर (Ram Mandir) निर्माण के कभी धुर विरोधी रहे बाबरी पक्षकार इकबाल अंसारी (Iqbal Ansari) ने जन्मभूमि मंदिर निर्माण में श्रमदान करने की जताई इच्छा है. साथ ही अंसारी ने पूरे देश के हिंदू और मुसलमानों से राम मंदिर निर्माण में आर्थिक सहयोग करने की अपील की है. इकबाल अंसारी ने कहा कि यदि मौका मिलता है तो वह भी रामलला के मंदिर निर्माण में श्रमदान करेंगे. साथ ही रामलला के मंदिर निर्माण के लिए चलाए जा रहे निधि समर्पण अभियान को लेकर भी दावा किया कि यदि कोई मेरे पास आएगा तो उसे खाली हाथ वापस नहीं भेजेंगे.

दरअसल रामलला के मंदिर निर्माण के लिए राम जन्मभूमि के अंदर समतलीकरण का कार्य शुरू हो चुका है. बीते दिनों राम मंदिर समर्थक बबलू खान ने सैकड़ों की संख्या में मुस्लिमों के साथ रामलला के मंदिर निर्माण के लिए निधि समर्पण अभियान में हिस्सा लिया और निधि का समर्पण भी किया. इतना ही नहीं बड़ी संख्या में मुस्लिमों ने रामलला के मंदिर में दर्शन भी किया था.

जानिए आजम खान पर अब तक लगे हैं कैसे-कैसे आरोप, कितना भर चुके हैं पेनाल्टी



राम जन्मभूमि के विरोध में कभी न्यायालय में मुकदमा लड़ने वाले पूर्व पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा कि अयोध्या धर्म की नगरी है और यहां पर सभी धर्मों के देवी- देवताओं के स्थान हैं. हिंदू-मुस्लिम के बीच राम मंदिर और बाबरी मस्जिद को लेकर चल रहा विवाद अब सुप्रीम कोर्ट के हस्तक्षेप के बाद समाप्त हो गया है. अब रामलला का भव्य मंदिर निर्माण शुरू हो चुका है, ऐसे में देश के सभी हिंदू-मुस्लिम सिख-इसाईयों से मेरी अपील है कि लोग रामलला के भव्य मंदिर निर्माण में श्रमदान करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज