होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /जल निगम भर्ती घोटाला: SIT ने सीतापुर जेल में बंद पूर्व मंत्री आजम खान को भेजा प्रोडक्शन वारंट

जल निगम भर्ती घोटाला: SIT ने सीतापुर जेल में बंद पूर्व मंत्री आजम खान को भेजा प्रोडक्शन वारंट

सपा सांसद आजम खान (File Photo)

सपा सांसद आजम खान (File Photo)

समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) की सरकार के दौरान जल निगम में भर्ती हुई थी. इसमें आजम खान पर आरोप है कि 122 सहायक अभि ...अधिक पढ़ें

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में जल निगम भर्ती घोटाला (Jal Nigam Recruitment Scam) मामले की जांच कर रहे विशेष जांच दल (SIT) ने पूर्व मंत्री आजम  खान (Former Minister Azam Khan) को प्रोडक्शन वारंट भेजा है. आजम खान कई महीने से सीतापुर जेल में बंद हैं. दरअसल जल निगम भर्ती घोटाले में एसआईटी ने आज़म खान को दोषी पाया है. एसआईटी ने आज़म पर पहले ही एफआईआर दर्ज की हुई है. माना जा रहा है कि एसआईटी मामले में जल्द चार्जशीट दाखिल करेगी.

योगी सरकार ने सौंपी थी एसआईटी को जांच
बता दें समाजवादी पार्टी की सरकार के दौरान जल निगम की भर्ती हुई थी. इसमें आजम खान पर आरोप है कि 122 सहायक अभियंता, 853 अवर अभियंता समेत कुल 1300 पद थे, जिनकी भर्ती प्रक्रिया में अनियमितता बरती गई. आरोप है कि साल 2016-17 में जल निगम के भर्ती बोर्ड का चेयरमैन रहते हुए उनके द्वारा 1300 पदों पर भर्ती में गड़बड़ी की गई. यूपी में योगी सरकार आने के बाद इस मामले की जांच एसआईटी को सौंपी गई थी.

मामला सामने आने के बाद योगी सरकार ने जेई और क्लर्क की भर्तियों को रद्द कर दिया था. इस मामले में पूर्व नगर विकास मंत्री आजम खान के अलावा नगर विकास सचिव रहे एसपी सिंह, जल निगम के पूर्व एमडी पीके आसुदानी, जल निगम के तत्कालीन मुख्य अभियंता अनिल खरे के खिलाफ केस दर्ज किया गया था. एसआईटी सभी अधिकारियों से लंबी पूछताछ कर चुकी है. अब एसआईटी की जांच प्रकिया पूरी हो चुकी है, जिसमें आजम खान को दोषी माना गया है.

चार साल पहले निकली थी वैकेंसी
मालूम हो कि सपा के शासनकाल में वर्ष 2016 के अंत में हुई जल निगम में 1300 पदों पर वैकेंसी निकली थी. इसमें 122 सहायक अभियंता, 853 अवर अभियंता, 335 नैतिक लिपिक और 32 आशुलिपिक की भर्ती हुई थी. जल निगम विभाग के ही कुछ अधिकारियों ने इस संबंध में धांधली की शिकायत की थी, जिसके बाद जांच शुरू हुई. सरकार इस मामले में 122 सहायक अभियंताओं को पहले ही बर्खास्त कर चुकी है. बाद में यह जांच सरकार ने एसआईटी को सौंप दी थी. एसआईटी ने इस मामले में आजम खां समेत डेढ़ दर्जन से अधिक लोगों से पूछताछ की थी, जिसमें पूर्व नगर विकास सचिव एसपी सिंह भी शामिल थे. बता दें कि एसपी सिंह ने हाल ही में भाजपा का दामन थामा है.

आपके शहर से (लखनऊ)

Tags: Azam Khan, UP news updates, Yogi government

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें