Home /News /uttar-pradesh /

bahubali former mp dhananjay singh charges framed in kidnapping case from mp mla court upns

UP: बाहुबली पूर्व MP धनंजय सिंह को कोर्ट से लगा बड़ा झटका, अपहरण व रंगदारी मामले में आरोप तय

Jaunpur News: पिछली तारीख पर धनंजय व विक्रम का आरोप मुक्ति प्रार्थना पत्र कोर्ट ने निरस्त कर दिया था.

Jaunpur News: पिछली तारीख पर धनंजय व विक्रम का आरोप मुक्ति प्रार्थना पत्र कोर्ट ने निरस्त कर दिया था.

Jaunpur News: बता दें कि मुजफ्फरनगर निवासी अभिनव सिंघल ने 10 मई 2020 को लाइन बाजार थाने में अपहरण, रंगदारी व अन्य धाराओं में धनंजय व उनके साथी विक्रम पर प्राथमिकी दर्ज कराया था. जिसके मुताबिक संतोष विक्रम दो साथियों के साथ वादी का अपहरण कर पूर्व सांसद के आवास पर ले गए. वहां धनंजय सिंह पिस्टल लेकर आए और गालियां देते हुए वादी को कम गुणवत्ता वाली सामग्री की आपूर्ति करने के लिए दबाव बनाया, वहीं इनकार करने पर धमकी देते हुए रंगदारी मांगी.

अधिक पढ़ें ...

मनोज सिंह पटेल

जौनपुर. पूर्वी यूपी के जौनपुर (Jaunpur) जिले के बाहुबली व पूर्व सांसद धनंजय सिंह (Former MP Dhananjay Singh) को एमपी- एमएलए कोर्ट (MP-MLA Court) से बड़ा झटका लगा है. नमामि गंगे के प्रोजेक्ट मैनेजर अभिनव सिंघल का अपहरण कराने, पिस्टल सटाकर रंगदारी मांगने, षड्यंत्र तथा गालियां व धमकी देने के मामले में उनके सहयोगी संतोष विक्रम के खिलाफ अपर सत्र न्यायाधीश 6 एमपी-एमएलए कोर्ट में शनिवार को विभिन्न धाराओं में आरोप तय तय किए हैं. दरअसल, पिछली तारीख पर धनंजय व विक्रम का आरोप मुक्ति प्रार्थना पत्र कोर्ट ने निरस्त कर दिया था.

बता दें कि मुजफ्फरनगर निवासी अभिनव सिंघल ने 10 मई 2020 को लाइन बाजार थाने में अपहरण, रंगदारी व अन्य धाराओं में धनंजय व उनके साथी विक्रम पर प्राथमिकी दर्ज कराया था. जिसके मुताबिक संतोष विक्रम दो साथियों के साथ वादी का अपहरण कर पूर्व सांसद के आवास पर ले गए. वहां धनंजय सिंह पिस्टल लेकर आए और गालियां देते हुए वादी को कम गुणवत्ता वाली सामग्री की आपूर्ति करने के लिए दबाव बनाया, वहीं इनकार करने पर धमकी देते हुए रंगदारी मांगी.

UP: योगी सरकार ने IPS अधिकारी मुनिराज को सौंपी गाजियाबाद की कमान, लॉ एंड ऑर्डर सबसे बड़ा मुद्दा?

एफआईआर दर्ज होने के बाद पूर्व सांसद गिरफ्तार हुए. जिसमें बाद में उनकी जमानत हुई. वहीं, पिछली तारीख पर धनंजय व संतोष विक्रम ने आरोप मुक्ति प्रार्थना पत्र दिया कि वादी पर दबाव डालकर एफआईआरदर्ज कराई गई और उच्च अधिकारियों के दबाव में आरोप पत्र न्यायालय में प्रेषित किया गया. वहीं, शासकीय अधिवक्ता ने लिखित आपत्ति किया कि वादी की लिखित तहरीर पर एफआईआर दर्ज हुई है और सीसीटीवी फुटेज, सीडीआर, व्हाट्सएप मैसेज, गवाहों के बयान के आधार पर आरोपियों के खिलाफ अपराध साबित है, जबकि वादी पर मुकदमा वापस लेने का दबाव बनाया गया. इससे पहले कोर्ट ने दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद आरोपितों का प्रार्थना पत्र निरस्त कर दिया था. दोनों आरोपित न्यायालय में उपस्थित हुए और आरोप तय हुआ.

Tags: Dhananjay Singh, Jaunpur news, MP MLA Court, Up crime news, UP news, UP Police उत्तर प्रदेश, UP Politics Criminals, Yogi government

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर