यहां बचपन में ही 50 साल के दिखते हैं मासूम, लाठी के सहारे चलना मजबूरी

ज्यादातर लोगों के हाथ, पैर और कमर टेढ़ी मेढ़ी होती जा रही है. वहीं परिवार की आर्थिक दशा भी इतनी ख़राब है कि वह ठीक से इलाज नहीं करवा सकते हैं.
ज्यादातर लोगों के हाथ, पैर और कमर टेढ़ी मेढ़ी होती जा रही है. वहीं परिवार की आर्थिक दशा भी इतनी ख़राब है कि वह ठीक से इलाज नहीं करवा सकते हैं.

ज्यादातर लोगों के हाथ, पैर और कमर टेढ़ी मेढ़ी होती जा रही है. वहीं परिवार की आर्थिक दशा भी इतनी ख़राब है कि वह ठीक से इलाज नहीं करवा सकते हैं.

  • Share this:
जौनपुर. जिले के मुंगरा बादशाहपुर (Mungra Badshahpur) इलाके में अजीबोगरीब बीमारी को लेकर लोग भयभीत हैं. इस अज्ञात बीमारी के चलते, दिव्यांग परिवार के बच्चे कम उम्र में ही 50 वर्ष के ऊपर नज़र आने लगे हैं. इस दिव्यांग परिवार में एक-एक कर कई लोगों की जिन्दगी पर इस बीमारी ने कहर ढाया है.

जिला मुख्यालय से 65 किलोमीटर दूर मुंगरा बादशाहपुर थाना इलाके के फत्तूरपुरकला गांव की दलित बस्ती के दो परिवारों में 28 लोग रहते हैं. इस अज्ञात बीमारी से इन परिवारों के 8 लोग पीड़ित हैं. इनके बच्चे, बूढ़ों की तरह दिखने लगे हैं. ऐसे में बच्चे अपने दो पैरों की जगह तीन पैर यानी लाठी के सहारे जीवन बिताने पर मजबूर हैं. बताया जा रहा है कि परिवार ने प्रशासन से मदद की कई बार गुहार लगाई, लेकिन उन्हें अभी तक मदद नहीं मिल सकी है.





ज्यादातर लोगों के हाथ, पैर और कमर टेढ़ी होती जा रही है. वहीं पीड़ित परिवारों की आर्थिक दशा भी इतनी ख़राब है कि उनके लिए इस बीमारी का सही इलाज करवा पाना मुमकिन नहीं. परिवार के लोग जैसे-तैसे मजदूरी कर अपना जीवन यापन कर रहे हैं. जानकारी के मुताबिक दिव्यांग परिवार को अभी तक केंद्र सरकार की आयुष्मान भारत योजना का लाभ भी नहीं मिल पा रहा है.
(रिपोर्ट- मनोज सिंह पटेल)

ये भी पढ़ें- 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज