15 सालों से लंच और डिनर में खा रहा है मिट्टी और चूना, डॉक्टर्स भी हैरान

मिट्टी और चूना खाने की बात सुनकर कोरिया से भी लोग उसे देखने आ चुके हैं और उसे सम्मानित भी कर चुके हैं. उसे मिट्टी खाना अच्छा लगता है और उसे कोई बीमारी भी नहीं है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: May 30, 2018, 3:01 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: May 30, 2018, 3:01 PM IST
आपने खाने के शौक़ीन तो बहुत देखे होंगे, लेकिन हम आपको एक ऐसे अजीब इंसान के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसकी पसंद सुनकर आप हैरान रह जाएंगे. जी हां, जौनपुर का एक शख्स पिछले पंद्रह सालों से प्रतिदिन मिट्टी के साथ चूना खाता चला आ रहा है. इसके बावजूद भी वह बिल्कुल स्वस्थ है.

जौनपुर जिले के शाहगंज तहसील क्षेत्र के करीमपुर बिन्द गांव निवासी बरसातू वर्मा की उम्र  60 वर्ष है. बरसातू वर्मा पिछले 15-16 वर्षों से लोगों के बीच चर्चा का विषय बने हुए हैं. पिछले पंद्रह सालों से प्रतिदिन 3 से 4 किलो मिट्टी और 100 ग्राम चूना खाने वाले बरसातू आज भी तंदरूस्त हैं.

बरसातू की मानें तो एकबार उसे दमा की बीमारी हुई थी. दिल्ली में इलाज कराने के बाद भी ठीक नहीं हुआ. इसके बाद वह दिल्ली से अपने गांव वापस लौट आए. अचानक उसे मिट्टी खाने की इच्छा हुई. तभी से वह मिट्टी और चूना खाने लगा. उसका दमा रोग भी पूरी तरह ठीक हो गया.

मिट्टी और चूना खाने की बात सुनकर कोरिया से भी लोग उसे देखने आ चुके हैं और उसे सम्मानित भी कर चुके हैं. उसे मिट्टी खाना अच्छा लगता है और उसे कोई बीमारी भी नहीं है.

मिट्टी खाने वाले बरसातू के बारे में जब हमने आस-पास के लोगों से पूछा तो उनका कहना था कि वह उसे पिछले 15 सालों से मिट्टी और चूना खाते देख रहे हैं. उसे कुछ भी नहीं होता. वह एकदम हट्टा-कट्टा है.

न्यूज़18 की टीम ने इस बारे में डॉक्टर से भी राय ली कि क्या कोई इंसान मिट्टी खाकर भी जीवित रह सकता है? शाहगंज सीएचसी के जनरल फिजिशियन डॉ आरबी यादव ने कहा कि वह व्यक्ति मिट्टी के साथ चूना खाने का लती बन चुका है. उन्होंने कहा मिट्टी खाने से पेट में कीड़े पैदा होते हैं. जिसकी वजह से खून नही बन पाता है और इंसान बीमार हो जाता है. लेकिन यह व्यक्ति पिछले 15 वर्षों से खाता चला आ रहा है. जैसा कि वह बता रहा है कि उसे कोई बीमारी नहीं हुई अभी तक, तो यह हैबीचुअल होने की वजह से भी हो सकता है. जो आराम से उसे पचा ले रहा है.

(रिपोर्ट: मनोज पटेल)
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर