लाइव टीवी

यूपी के इस शख्स को है मौत का खौफ, 30 सालों से हर दिन 'सोलह श्रृंगार' करना बना मजबूरी

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 4, 2019, 3:31 PM IST
यूपी के इस शख्स को है मौत का खौफ, 30 सालों से हर दिन 'सोलह श्रृंगार' करना बना मजबूरी
चिंताहरण चौहान की तीन पत्नियाें की भी मौत हो चुकी है.

'स्त्री का वेश' धारण करने वाले चिंताहरण ने न्यूज18 से बातचीत में बताया कि उसके 9 बच्चे और तीन बीवी, वहीं बड़े भाई के 5 बच्चों की मौत हो चकी है. चौहान के परिवार में अब तक 17 लोगों की मौत हो चुकी है.

  • Share this:
जौनपुर. यूपी के जौनपुर (Jaunpur) के एक व्‍यक्ति के साथ कुछ ऐसा हुआ कि अब वह पिछले 30 साल से हर दिन दुल्‍हन की तरह सज कर रह रहा है. उसे उसकी मौत का डर सता रहा है, जिसके कारण वह ऐसा करता है. जलालपुर क्षेत्र के हौज खास गांव निवासी 55 वर्षीय चिंताहरण चौहान उर्फ 'करिया'  (Chintaharan Chauhan) पिछले 30 सालों से सुहाग की साड़ी, कान में झुमका, नाक में नथिया और हाथों में कंगन के साथ सोलह श्रृंगार करके जीवन जीने को मजबूर है. क्योकि उसका पूरा परिवार उसकी आंखों के सामने खत्म होता चला गया.

एक ही परिवार के 17 लोगों की मौत
'स्त्री का वेश' धारण करने वाले चिंताहरण ने न्यूज18 से बातचीत में बताया कि उसके 9 बच्चे और तीन बीवी, वहीं बड़े भाई के 5 बच्चों की अकाल मौत हो चुकी है. चौहान के परिवार में अब तक 17 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं उसके परिवार में होने वाली मौत के पीछे भी दिलचस्‍प कहानी है. चिंताहरण के अनुसार, 14 साल की उम्र में उसकी पहली शादी हुई थी. शादी के कुछ ही महीनों के बाद उसकी पत्‍नी की मौत हो गई. 21 साल की उम्र में वह ईंट भट्ठे पर काम करने के लिए पश्चिम बंगाल के दिनाजपुर चला गया. वहां उसकी दोस्‍ती दुकान मालिक से हो गई. वह बंगाली था.

दूसरी पत्‍नी ने की थी आत्‍महत्‍या
दूसरी पत्‍नी ने की थी आत्‍महत्‍या


दूसरी पत्‍नी ने की थी आत्‍महत्‍या
चार साल बाद चिंताहरण ने दुकान मालिक की बेटी से शादी कर ली. लेकिन चिंताहरण का परिवार इस शादी का विरोध करने लगा. परिवार का विरोध देखते हुए चिंताहरण एक दिन अपनी बंगाली पत्‍नी को छोड़कर जौनपुर आ गया. उसके जौनपुर चले जाने की बात से उसकी पत्‍नी को सदमा लगा. पत्‍नी से कुछ दिन बाद आत्‍म‍हत्‍या कर ली. चिंताहरण को इसकी जानकारी तब मिली जब वह एक साल बाद फिर दिनाजपुर गया.

 बंगाली साधू ने दी थी सलह
Loading...

वह जब फिर जौनपुर परिवार के पास लौटा तो घरवालों ने उस पर तीसरी शादी करने का दबाव बनाया. उसका दावा है कि इस तीसरी शादी के बाद से ही उसके परिवार पर कहर टूटने लगा. उसने बताया कि तीसरी शादी के कुछ महीने बाद ही वह बीमार हो गया और उसके रिश्‍तेदार एक के बाद एक मरने लगे. चिंताहरण चौहान ने दावा किया कि एक दिन बंगाली साधू ने उससे सलह देते हुए बताया कि अगर वो दुल्‍हन की तरह सजकर रहेगा, तो उसकी मौत नहीं होगी. फिर उस दिन से चिंताहरण नारी का वेश धारण करके रहने लगा. पहले वो घर के अंदर ही साड़ी पहनकर रहता था, लेकिन फिर उसने समाज के सामने अपने आपको स्त्री के रूप में अपनी एक पहचान बना ली. चिंताहरण चौहान आज गांव में झाड़ फूंक का काम करके अपनाजीवन यापन कर रहा है.

ये भी पढ़ें: 50 अंडे खाने की लगाई थी शर्त, 42 के बाद हुई हालत खराब और अस्पताल में हो गई मौत

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जौनपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 4, 2019, 11:35 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...