Jaunpur news

जौनपुर

अपना जिला चुनें

जौनपुर में नानी के घर आई किशोरी को अगवा कर सामूहिक दुष्कर्म

जौनपुर में नानी के घर आई किशोरी को अगवा कर सामूहिक दुष्कर्म

प्रतीकात्मक तस्वीर.

यूपी के जौनपुर जिले के सरपतहां थाना क्षेत्र के एक गांव में एक किशोरी को अगवा कर उसके साथ गैंगरेप किए जाने का मामला प्रकाश में आया है. पीड़ित किशोरी इंटर की छात्रा है और वह अपनी नानी के घर आई हुई थी.

SHARE THIS:
यूपी के जौनपुर जिले के सरपतहां थाना क्षेत्र के एक गांव में एक किशोरी को अगवा कर उसके साथ गैंगरेप किए जाने का मामला प्रकाश में आया है. पीड़ित किशोरी इंटर की छात्रा है और वह अपनी नानी के घर आई हुई थी.

जौनपुर के पुलिस अधीक्षक के.के. चौधरी ने बताया कि सतपरहा थाना क्षेत्र के एक गांव में अपनी नानी के घर आई 12वीं कक्षा में पढ़ने वाली 16 साल की छात्रा को शुक्रवार की रात जीप सवार आधा दर्जन बदमाशों ने अगवा कर लिया था. थाने में दी गई तहरीर में पीड़िता ने चार बदमाशों पर नहर के पास बारी-बारी से दुष्कर्म किए जाने का आरोप लगाया है.

एसपी ने बताया कि किशोरी की हालत खराब है, उसे इलाज के लिए जिले की सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. इस मामले में एफआईआर दर्ज कर ली गई है और खोजी कुत्तों (डॉग स्क्वायड) के सहारे बदमाशों की तलाश की जा रही है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Jaunpur: भारी बारिश के चलते भरभराकर गिरा कच्चा मकान, पति-पत्नी और मासूम बच्चे की मौत

Jaunpur: भारी बारिश के चलते भरभराकर गिरा कच्चा मकान, पति-पत्नी और मासूम बच्चे की मौत

Jaunpur House Collapsed: मरने वालों में पति, पत्नी और उनका एक मासूम बच्चा शामिल है. हादसे की सूचना पर पहुंची पुलिस ने मलबे में दबे लोगों को निकलवा कर अस्पताल भिजवाया, जहां पर चिकित्सकों ने 3 लोगों को मृत घोषित कर दिया.

SHARE THIS:

जौनपुर. जिले में बुधवार रात से लगातार हो रही बरसात (Hravy Rainfall) अब मुसीबत बन रही है. लगातार बारिश के चलते एक कच्चे मकान का दीवार गिरने (House Collapse) से एक परिवार के तीन सदस्यों की मौत हो गई, जबकि दो अन्य लोग गंभीर रूप से जख्मी हो गए. घायलों को पास के अस्पताल भिजवाया गया, जहां उनकी गंभीर हालत को देखते हुए जौनपुर (Jaunpur) हायर सेंटर रेफर किया गया है. मरने वालों में पति, पत्नी और उनका एक मासूम बच्चा शामिल है. हादसे की सूचना पर पहुंची पुलिस ने मलबे में दबे लोगों को निकलवा कर अस्पताल भिजवाया, जहां पर चिकित्सकों ने 3 लोगों को मृत घोषित कर दिया.

जानकारी के मुताबिक सराय खानी थाना सुजानगंज में भारी बारिश के कारण एक कच्चा मकान गिर गया, जिसमें 5 लोगों के दबे होने की सूचना मिलने पर पुलिस फोर्स व गांव वालों की मदद से सभी को निकालकर सीएचसी सुजानगंज लाया गया. भरत लाल जायसवाल (40), उनकी पत्नी गुलाबा देवी (36) और 9 साल की बच्ची साक्षी को डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया.

बुधवार से ही हो रही है बारिश 
इस हादसे में घायल रेखा जायसवाल उम्र 35 वर्ष पत्नी अनिल जयसवाल व काजल उम्र 17 बरस पुत्री लाल जी जयसवाल को सदर अस्पताल जौनपुर भेजा गया है. हादसे की जानकारी एसडीएम मछलीशहर को भी दे दी गई है. गौरतलब है कि जौनपुर जौनपुर और आसपास के इलाकों में बुधवार से हो रही लगातार बारिश हो रही है. मौसम विभाग के अनुमान के मुताबिक बारिश का यह सिलसिला आगे भी जारी रहेगा.

(रिपोर्ट: मनोज सिंह पटेल)

यूपी चुनाव से पहले जौनपुर के इस गांव का नाम बदला, लिस्ट में कई 'नाम' अब भी कर रहे इंतजार

यूपी चुनाव से पहले जौनपुर के इस गांव का नाम बदला, लिस्ट में कई 'नाम' अब भी कर रहे इंतजार

UP News: यूपी के जौनपुर जिले के सादी खुर्द गांव को लोग अब शचीपुरम के नाम से जानेंगे. योगी सरकार के प्रस्ताव पर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने नाम परिवर्तन की मंजूरी दे दी है. फिरोजाबाद, संभल, देववंद और सुल्तानपुर समेत कई जगहों के नाम बदलने का प्रस्ताव पर मंजूरी का इंतजार.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 15, 2021, 21:56 IST
SHARE THIS:

लखनऊ. प्रयागराज, मुगलसराय, फैजाबाद का नाम बदलने के बाद यूपी में अब एक और गांव का नाम बदल गया है. प्रदेश के जौनपुर जिले में सादी खुर्द गांव का नाम अब बदलकर शचीपुरम हो जाएगा. राज्य सरकार के प्रस्ताव पर केंद्र सरकार ने गांव का नाम बदलने को मंजूरी दे दी है. विधानसभा चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने राज्य के कई शहरों और गांवों-कस्बों का नाम बदलने का प्रस्ताव केंद्र के पास भेज रखा है. इनमें फिरोजाबाद, संभल, सुल्तानपुर और देववंद सरीखे नाम शामिल हैं. इन नामों को बदले जाने पर अभी तक केंद्र से मंजूरी नहीं मिल सकी है.

उत्तर प्रदेश सरकार ने उन्नाव के पास साधा परगना हसनगंज का नाम बदलकर दामोदर नगर और मुरादाबाद के गांव सरकड़ा खास को सराका विश्नोई किए जाने का प्रस्ताव भी केंद्र को भेजा हुआ है. इन पर केंद्र में अभी विचार चल रहा है. अंग्रेजी अखबार इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि कोरोना महामारी के कारण सादी खुर्द के नाम बदलने में सालभर की देरी हुई. इस प्रस्ताव को इस वर्ष मार्च-अप्रैल में मंजूर किया गया था. आपको बता दें कि यूपी में अगले साल 2022 में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. इससे पहले योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार की ओर से नाम बदलने के कई और प्रस्ताव अभी पाइपलाइन में हैं.

कई विभागों से NOC के बाद बदलता है नाम
रिपोर्ट के मुताबिक, योगी सरकार के एक अधिकारी ने बताया कि जिन स्थानों के नाम परिवर्तन के प्रस्ताव पर राज्य सरकार विचार कर रही है, उनमें फिरोजाबाद जिले को चंद्रनगर, सम्भल को पृथ्वीराज नगर या कल्कि नगर, देववंद को देवव्रंद तथा सुल्तानपुर को कुशभवनपुर किया जाना शामिल है. गृह मंत्रालय ने उत्तर प्रदेश के अलावा महाराष्ट्र के सतारा स्थित नहावी बीके का नाम बदलकर जयपुर करने के राज्य सरकार के प्रस्ताव को मंजूरी दी है. गृह मंत्रालय के उक्त अधिकारी ने बताया, ‘खुफिया ब्यूरो की फील्ड यूनिट, जियोग्राफिकल सर्वे ऑफ इंडिया (जीएसआई) तथा डाक विभाग एवं पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय से तलब रिपोर्ट के बाद अनापत्ति प्रमाण पत्र दे दिया गया है.’ सरकारी दिशा-निर्देशों के अनुसार रेलवे स्टेशनों, गांवों, शहरों एवं नगरों के नाम परिवर्तन के लिए राज्य सरकार को केंद्रीय गृह मंत्रालय से अनापत्ति प्रमाण पत्र लेना होता है.

हाथरस गैंगरेप: घुटन और सामाजिक बहिष्कार झेल रहा पीड़ित परिवार, इंसाफ की आस में लिए बैठा है बेटी की अस्थियां

यूपी में इससे पहले बदले हैं कई नाम
केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इससे पहले यूपी में कई अन्य स्थानों के नाम बदलने को मंजूरी दी है. इनमें ब्रिटिश कालीन रेलवे स्टेशन रॉबर्ट्सगंज का नाम बदलकर सोनभद्र करने, मथुरा के निकट स्थित फराह टाउन रेलवे स्टेशन को डीडीयू स्टेशन, इलाहाबाद शहर को प्रयागराज और आइकॉनिक मुगलसराय जंक्शन को भारतीय जनसंघ के संस्थापक पंडित दीन दयाल उपाध्याय के नाम पर रखे जाने को मंजूरी दी थी. अधिकारियों के अनुसार, पश्चिम बंगाल का नाम बदलकर बांग्ला करने की राज्य सरकार की बहुप्रतीक्षित मांग अभी लंबित है, क्योंकि इसके लिए संविधान संशोधन की आवश्यकता होगी. विदेश मंत्रालय ने नए नाम पर अपनी आपत्ति जताते हुए कहा था कि इससे पड़ोसी बांग्लादेश जैसा आभास होता है.

जौनपुर के बक्सा पुलिस कस्टडी में मौत की जांच CBI करेगी- इलाहाबाद हाईकोर्ट

जौनपुर के बक्सा पुलिस कस्टडी में मौत की जांच CBI करेगी- इलाहाबाद हाईकोर्ट

Jaunpur police custody Death: बता दें कि 24 साल के कृष्णा यादव को पुलिस 11 फरवरी 2021 को घर से पकड़कर ले गई थी. रात में तलाशी के दौरान बक्से का ताला तोड 60 हजार रुपए व जेवरात पुलिस उठा ले गई.

SHARE THIS:

प्रायागराज. इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने जौनपुर (Jaunpur) जिले के बक्सा थाना पुलिस की अभिरक्षा में 24 साल के युवक की हुई मौत के मामले की जांच सीबीआई (CBI) को सौंप दी है. हाईकोर्ट ने कहा है कि आईपीएस रैंक अधिकारी एसपी और सीओ की संलिप्तता के आरोपी के चलते पुलिस से निष्पक्ष विवेचना की उम्मीद नहीं की जा सकती. कोर्ट ने पुलिस अभिरक्षा में क्रूरता से पिटाई से मौत, महत्वपूर्ण साक्ष्यों की अनदेखी, साक्ष्य मिटाने व गढ़ने का प्रयास और प्रभावी लोगों का विवेचना को हाईजैक करने की कोशिश पर निष्पक्ष पारदर्शी जांच कराना जरूरी है.

कोर्ट ने पुलिस को जौनपुर के बक्सा थाने में अभिरक्षा में मौत के साक्ष्य व पेपर सीबीआई को सौंपने का निर्देश दिया है. सीबीआई व राज्य सरकार से अनुपालन रिपोर्ट मांगी है. याचिका की सुनवाई 20 सितंबर को होगी. यह आदेश जस्टिस एस पी केसरवानी और जस्टिस पीयूष अग्रवाल की खंडपीठ ने एसओजी टीम इंचार्ज व बक्सा थाना प्रभारी अजय कुमार यादव की याचिका की सुनवाई करते हुए दिया है. याचिका पर सीबीआई के वरिष्ठ अधिवक्ता ज्ञान प्रकाश व संजय कुमार यादव ने पक्ष रखा.

यह भी पढ़ें- संसद में आजमगढ़ की नहीं, बल्कि आजम खान की वकालत करते हैं अखिलेश यादव- निरहुआ

बता दें कि 24 साल के कृष्णा यादव को पुलिस 11 फरवरी 2021 को घर से पकड़कर ले गई थी. रात में तलाशी के दौरान बक्से का ताला तोड 60 हजार रुपए व जेवरात पुलिस उठा ले गई. घर वालों को थाने में मिलने नहीं दिया गया. पुलिस ने पीटकर हत्या कर दी और12 फरवरी की सुबह पता चला कृष्णा यादव की मौत हो गई है. पुलिस ने झूठी कहानी गढ़ी. पुलिस डायरी में लिखा कि मृतक कराह रहा था. पूछने पर कहा कि मोटरसाइकिल की टक्कर से घायल हो गया और भीड़ ने पीटा. स्वास्थ्य केंद्र ले गए, वहां से जिला अस्पताल ले गए. बचाया नहीं जा सका और उसकी मौत हो गई. मृतक के भाई ने आरोप लगाया कि याची सहित 10-12 पुलिस घर से ले गई और बुरी तरह से पीटकर हत्या कर दी.

Jaunpur News: एक लाख का इनामी बदमाश कल्लू पंडित पुलिस मुठभेड़ में ढेर, कई जिलों में था आतंक

Jaunpur News: एक लाख का इनामी बदमाश कल्लू पंडित पुलिस मुठभेड़ में ढेर, कई जिलों में था आतंक

Jaunpur Police Encounter: सरपतहां थाना क्षेत्र के गैरवांह गांव स्थित झोखरिया बाग में यह मुठभेड़ हुई. कल्लू पंडित कई जनपदों में आतंक का पर्याय बन चुका था. कल्लू पंडित सुल्तानपुर के कादीपुर थानांतर्गत अमरथू डढ़िया का रहने वाला था.

SHARE THIS:

जौनपुर. जौनपुर (Jaunpur) में पुलिस (Police) को उस वक्त बड़ी सफलता हाथ लगी जब उसने आतंक का पर्याय बन चुके एक लाख के इनामी बदमाश प्रशांत पांडे उर्फ़ कल्लू पंडित (Criminal Kallu Pandit) को एनकाउंटर (Encounter) में ढेर कर दिया. कल्लू पंडित जौनपुर, सुल्तानपुर समेत आस पास के जिलों में ढाई दर्जन से अधिक संगीन मुकदमे दर्ज थे. मारे गए अपराधी के खिलाफ सुल्तानपुर में 50 हजार और जौनपुर व अंबेडकरनगर में 25-25 हजार का इनाम घोषित किया था.

जानकारी के मुताबिक सरपतहां थाना क्षेत्र के गैरवांह गांव स्थित झोखरिया बाग में यह मुठभेड़ हुई. कल्लू पंडित कई जनपदों में आतंक का पर्याय बन चुका था. कल्लू पंडित सुल्तानपुर के कादीपुर थानांतर्गत अमरथू डढ़िया का रहने वाला था. मारे गए बदमाश के ऊपर सुलतानपुर में 50 हजार, अंबेडकरनगर तथा जौनपुर जिले में 25-25 हजार रुपये इनाम घोषित था. इस मुठभेड़ में सरपतहां, शाहगंज, खेतासराय पुलिस के अलावा क्राइम ब्रांच शामिल रही. क्रॉस फायरिंग में गंभीर रूप से घायल होने के बाद कल्लू पंडित को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सुइथाकलां ले जाया गया जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

मुठभेड़ के दौरान कल्लू का एक साथी फरार
इस मुठभेड़ में मारे गए बदमाश का एक साथी भागने में सफल रहा. फरार अपराधी की तलाश में पुलिस लगी हुई है. बतादे कि मुठभेड़ सरपतहां थाना क्षेत्र के गैरवाह गांव के पास हुई. पुलिस के अनुसार, मुठभेड़ में 1,00,000 का इनामी बदमाश प्रशांत कुमार उर्फ कल्लू पांडे मारा गया. मुठभेड़ में गोली लगने के बाद उसे जिला अस्पताल लाया गया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। मुठभेड़ में ढेर हुआ बदमाश प्रशांत बताया जा रहा है, जो सुल्तानपुर जिले के कादीपुर का रहने वाला है. इसके खिलाफ महाराजगंज, जौनपुर, सरपतहां और अंबेडकरनगर के कई थानों में 3 दर्जन मुकदमे दर्ज थे. मुठभेड़ में एक पुलिसकर्मी के हाथ में बदमाशों की गोली छुते हुए निकल गयी.

एसएसपी अजय साहनी के आने के बाद तीन बदमाश ढेर
न्यूज़18 से बात करते हुए एसएसपी अजय साहनी ने कहा वांटेड बदमाशी के खिलाफ तीन दर्जन से ज्यादा मुकदमे अलग-अलग जनपदों में दर्ज है. वह पुलिस के रडार पर चल रहा था. आपको बता दें कि जौनपुर पुलिसिंग की कमान जबसे एसएसपी अजय साहनी ने संभाला है तबसे यह तीसरी बड़ी मुठभेड़ है. अब तक तीन बदमाश ढेर हो चुके हैं.

(रिपोर्ट- मनोज सिंह पटेल)

न्‍याय के लिए दर-दर भटक रहीं शहनाई वादक उस्ताद बिस्मिल्ला खां की गैंगरेप पीड़िता नातिन, मुख्तार गैंग के गुर्गों पर आरोप

न्‍याय के लिए दर-दर भटक रहीं शहनाई वादक उस्ताद बिस्मिल्ला खां की गैंगरेप पीड़िता नातिन, मुख्तार गैंग के गुर्गों पर आरोप

Jaunpur News: 2019 में प्रख्यात शहनाई वादक बिस्मिल्लाह खां की नातिन के साथ गैंगरेप की घटना हुई थी. गैंगरेप करने वाले चार आरोपी बाहुबली मुख्तार अंसारी के गुर्गे बताए जाते हैं.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 02, 2021, 12:42 IST
SHARE THIS:

मनोज सिंह पटेल

जौनपुर. उत्तर प्रदेश के जौनपुर (Jaunpur) में गैंगरेप पीड़िता को न्याय नहीं मिल रहा है. पीड़िता मशहूर शहनाई वादक बिस्मिलाह खान की नातिन हैं. वह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से लेकर लखनऊ और जौनपुर के अफसरों से न्याय की गुहार लगा चुकी है. दरअसल, 2019 में प्रख्यात शहनाई वादक बिस्मिल्लाह खां की नातिन के साथ गैंगरेप की घटना हुई थी. गैंगरेप करने वाले चार आरोपी बाहुबली मुख्तार अंसारी के गुर्गे बताए गए. पीड़िता तक चारों आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए सीएम योगी से गुहार लगा रही है, लेकिन उन्‍हें न्याय नहीं मिल रहा है.

बता दें कि जौनपुर नगर कोतवाली क्षेत्र का ये मामला है. चारों आरोपी चित्रकूट जेल में पिछले दिनों गैंगवार में मारे गए मेराज के साथी बताये जा रहे हैं. पीड़िता ने अपने मोहल्ले के ही हसन जमाल, हसन कमाल, हसन फराज, हसन जाहिद गैंगरेप का आरोप लगाया है. पीड़िता का कहना है कि पुलिस आरोपियों को ही साथ दे रही है.

पीड़िता ने बुधवार को सीएम योगी जनता दरबार में पहुंचकर न्याय की गुहार लगाई है. उन्‍होंने कहा है, ‘मुझे लगातार जान से मारने और एसिड अटैक की धमकियां मिल रही हैं. आखिर मेरी आबरू लूटने वालों को कब जेल भेजा जाएगा?’ उन्‍होंने बताया कि घटना के बाद कोर्ट से एनबीडब्ल्यू जारी होने के बाद भी अपराधी खुलेआम घूम रहे हैं. उनकी गिरफ्तारी नहीं की जा रही है. जानकारी के अनुसार, सीएम योगी ने अब आश्वासन दिया है कि आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

सीएम योगी आदित्यनाथ के खिलाफ फेसबुक पर अभद्र टिप्पणी, हिन्दू युवा वाहिनी ने दी तहरीर

सीएम योगी आदित्यनाथ के खिलाफ फेसबुक पर अभद्र टिप्पणी, हिन्दू युवा वाहिनी ने दी तहरीर

Jaunpur News: हिन्दू संगठन के कार्यकर्ताओं ने बदलापुर थाने में पुलिस को तहरीर देकर जल्द कार्यवाई किये जाने की मांग की है. हिन्दू युवा वाहिनी संगठन के लोगों ने पुलिस को चेतावनी दिया कि अगर इस पर 12 घंटे के भीतर कार्यवाई नहीं की गई तो संगठन के लोग आंदोलन करने के लिए बाध्य होंगे.

SHARE THIS:

रिपोर्ट-मनोज सिंह पटेल

जौनपुर. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के जौनपुर (Jaunpur) में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) के खिलाफ फेसबुक पर अभद्र टिप्पणी किये जाने से आक्रोशित हिन्दू युवा वाहिनी (Hindu Yuva Vahini) के कार्यकर्ताओं ने थाने में तहरीर देकर आरोपी के  खिलाफ कार्यवाई किये जाने की मांग की है. हिन्दू संगठन के कार्यकर्ताओं ने बदलापुर थाने में पुलिस को तहरीर देकर जल्द कार्यवाई किये जाने की मांग की है. हिन्दू युवा वाहिनी संगठन के लोगों ने पुलिस को चेतावनी दी है कि अगर इस पर 12 घंटे के भीतर कार्यवाई नहीं की गई तो संगठन के लोग आंदोलन करने के लिए बाध्य होंगे.

बदलापुर में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर अमर्यादित टिप्पणी किये जाने को लेकर हिन्दू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं में खासा आक्रोश है. सोमवार को हिंदू युवा वाहिनी के एक दर्जन से अधिक  आक्रोशित कार्यकर्ताओं ने प्रभारी निरीक्षक को तहरीर सौंप कर आरोपी पर एफआईआर दर्ज कराने की मांग की.

मुस्ताक जोगी पर लगा है आरोप
हिंदू युवा वाहिनी के रामकृष्ण सिंह के नेतृत्व में  कार्यकर्ताओं ने  प्रभारी निरीक्षक विनोद कुमार मिश्र से मिलकर आरोप लगाया कि रॉकी बादशाह नाम से फेसबुक पर आईडी चला कर वार्ड नंबर 13 पुरानी बाजार निवासी मुस्ताक जोगी  पुत्र पप्पू जोगी ने  मुख्यमंत्री एवं हिंदू युवा वाहिनी के संरक्षक योगी आदित्यनाथ पर अमर्यादित भाषा का प्रयोग किया है. जिसको लेकर हिंदू युवा वाहिनी सहित अन्य लोगों में भारी आक्रोश व्याप्त है. हिंदू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं ने पुलिस से प्रकरण को गंभीरता से लेते हुए केस दर्ज कर कठोर कार्रवाई किए जाने की मांग की है.

जौनपुर जिले का नाम बदलने की उठी मांग, BJP विधायक ने CM योगी आदित्यनाथ को लिखा पत्र

जौनपुर जिले का नाम बदलने की उठी मांग, BJP विधायक ने CM योगी आदित्यनाथ को लिखा पत्र

Uttar Pradesh News: केराकत से बीजेपी के विधायक दिनेश चौधरी ने कहा कि पूर्व में जौनपुर का नाम जमदग्निपुरम था. तेरहवीं शताब्दी में मोहम्मद बिन तुगलक ने इस शहर का नाम अपने भाई जूना खान के नाम पर बदलकर जौनपुर रख दिया. उन्होंने इस संबंध में मुख्यमंत्री योगी को पत्र लिखकर जौनपुर जिला का नाम भगवान परशुराम के पिता ऋषि जमदग्नि के नाम पर जमदग्निपुरम रखने की मांग की

SHARE THIS:

जौनपुर. उत्तर प्रदेश के कई जिलों की नाम बदले जाने के बाद अब जौनपुर (Jaunpur) का नाम बदलने की मांग उठ रही है. केराकत से बीजेपी के विधायक दिनेश चौधरी (BJP MLA Dinesh Chaudhary) ने जौनपुर जिले का नाम बदलकर परशुराम (Parshuram) के पिता ऋषि जमदग्नि के नाम पर जमदग्निपुरम करने की मांग की है. उन्होंने इस संबंध में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) को पत्र लिखकर निवेदन किया है. जौनपुर जिले का नाम बदलने की मांग को लेकर राजनीति तेज हो गई है.

दिनेश चौधरी ने कहा कि पूर्व में जौनपुर का नाम जमदग्निपुरम था. तेरहवीं शताब्दी में मोहम्मद बिन तुगलक ने इस शहर का नाम अपने भाई जूना खान के नाम पर बदलकर जौनपुर रख दिया. उन्होंने कहा कि जौनपुर का नाम परशुराम के पिता ऋषि जमदग्नि के नाम पर जमदग्निपुरम रखा जाना चाहिए. उन्होंने इस संबंध में मुख्यमंत्री और अपर मुख्य सचिव को पत्र लिखकर जौनपुर जिला का नाम बदलने की मांग की है.

जौनपुर का नाम जमदग्निपुरम करने की मांग 

विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए केराकत के विधायक ने कहा कि सभी विरोधी दल ब्राह्मणों के नाम पर सियासत कर रहे हैं. लेकिन, ब्राह्मण शिरोमणि भगवान परशुराम के पिता ऋषि जमदग्नि के नाम पर सब चुप्पी साधे हुए हैं. इसीलिए प्रदेश के अन्य जिलों की तरह जौनपुर का भी नाम बदला जाए और इसे ऋषि जमदग्नि के नाम पर वापस जमदग्निपुरम नाम दिया जाना चाहिए. दिनेश चौधरी ने सीएम योगी से अनुरोध किया कि जौनपुर का भी नाम बदलकर जमदग्निपुरम रखा जाए.

बीजेपी पर हमलावर विपक्षी दल

वहीं, जौनपुर के बीएसपी सांसद श्याम सिंह यादव ने न्यूज़ 18 से बातचीत में बीजेपी पर चुनावी साल में वोट बटोरने के लिए नाम बदलने की राजनीति करने का आरोप लगाया. उन्होंने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा वो किसी प्रकार से सत्ता हासिल करने के लिए अपने आप को देशभक्त और दूसरे को गद्दार कहती है. दरअसल देश के असली गद्दार यही लोग हैं. हिन्दुस्तान की जनता का दिल और हृदय है कि इनको सत्ता पर बिठाई हुई है. देश की जनता एक दिन इन्हें (बीजेपी) अपने पुराने स्थान पर भेज देगी.

कौन थे ऋषि जमदग्नि?
जानकारी के अनुसार प्राचीण काल में जमदग्नि परम तेजस्वी ऋषि थे. वो ‘भृगुवंशी’ ऋचिक के पुत्र थे. उनकी गिनती ‘सप्तऋषियों’ में होती है. उनकी पत्नी राजा प्रसेनजीत की पुत्री रेणुका थीं. जमदग्नि ने अपनी तपस्या और साधना द्वारा उच्च स्थान प्राप्त किया था जिससे लोग उनका काफी आदर-सत्कार करते थे. जमदग्नि और रेणुका के पांच पुत्र थे- रुमणवान, सुषेण, वसु, विश्ववानस और परशुराम.

UP News: पर‍िवार में 50 सदस्‍य और 23 सरकारी नौकरी में, गजब है यूपी की ये फैम‍िली

UP News: पर‍िवार में 50 सदस्‍य और 23 सरकारी नौकरी में, गजब है यूपी की ये फैम‍िली

Uttar Pradesh News: सरकारी घराने की यह कहानी यूपी के जौनपुर की है. नगर से 20 किलोमीटर दूर सिकरारा गांव के यादव पर‍िवार का है. पि‍छली 2 पीढ़ियां लगातार सरकारी सेवाएं दे रहा है. अपने हुनर और मेहनत के दम पर सरकारी घराना काम सुनकर भले ही आप चौंक गए होंगे, लेकिन सौ टका सच तो यही है.

SHARE THIS:

मनोज सिंह पटेल

पढ़े लिखे कई युवा बेरोजगार हैं और नौकरी की तलाश में दर-दर भटकने को मजबूर है, तो वही भारी संख्या में बेरोजगार युवा वर्ग आज भी नौकरी की रेस में अपनी किस्मत आजमाने से पीछे नहीं हट रहे है. देखा जाए तो दिन-रात की कड़ी मेहनत के बाद भी परिवार में किसी एक सदस्य को नौकरी मिलना मुश्किल साबित हो रहा. ऐसे में उत्‍तर प्रदेश के जौनपुर के सिकरारा गांव में एक ऐसा परिवार जो सरकारी घराना के नाम से इलाके में मशहूर हो रहा. 50 सदस्यों वाले परिवार में कुल 23 महिला-पुरूष सरकारी नौकरी में अलग-अलग सेवाएं, प्रदेश एवं भारत सरकार के अलग-अलग विभागों में सरकारी नौकरी कर रहे है. वर्षों से जी जान लगाकर मेहनत करने वाले युवाओं के लिए कैसे प्रेरणा का स्रोत बन रहा है जौनपुर का यह परिवार, पढ़ें यह खास रिपोर्ट…

सरकारी घराने की यह कहानी यूपी के जौनपुर की है. नगर से 20 किलोमीटर दूर सिकरारा गांव के यादव पर‍िवार का है. पि‍छली 2 पीढ़ियां लगातार सरकारी सेवाएं दे रहा है. अपने हुनर और मेहनत के दम पर सरकारी घराना काम सुनकर भले ही आप चौंक गए होंगे, लेकिन सौ टका सच तो यही है. 50 सदस्यीय वाले परिवार मे आज के तारीख में कुल 25 लोग नौकरी कर रहे है. इस लिहाजे इलाके में सरकारी घराने के नाम से यह इलाके मे नाम पहचाना जा रहा है. होगा भी क्यों ना 50 सदस्‍य पर‍िवार वाले इस घराने मे 25 लोग सरकारी नौकरी से जुड़े हैं, जिसमें 2 लोग रिटायर्ड हो चुके है.

यह परिवार सिकरारा गांव के स्वर्गीय रामशरण यादव के घर की है. इनके तीन बेटे रामदुलार, फुल्लर, चन्द्रबली रहे. इन्ही तीनों भाइयों का परिवार मे कुल 50 लोगों की संख्या हो गई है, जिसमें से 23 लोग नौकरी कर रहे है. जबकि 2 रिटायर्ड हो चुके है. घर की खेती-बारी घर बार देखने वाले शिवशंकर यादव बताते है कि परिवार मे ज्यादा जमीन नहीं होने के चलते हमारे पिता जी ने शुरू से ही नौकरी की सेवा को चुना और आज एक-एककर कुल 25 लोगों नौकरी मे आ चुके है. दो लोगों की सेवा भी समाप्त हो चुकी है.

आप जानते होंगे क‍ि आज के समय मे आंखों में सुनहरे भविष्य का सपना लिए हमारे देश के लाखों युवा हर साल बड़े से बड़े परीक्षा से लेकर कई तरह के प्रतियोगी परीक्षाओं में मेहनत के साथ परीक्षाओं को अटेंड करने के बावजूद भी मन मुताबिक रोजगार की तलाश मे लगे रहते है, लेकिन इन सबके बावजूद भी जौनपुर से यह खबर उन परिवार के लोगों को प्रेरणा देगी. जिनके घर के ज्यादातर लोग प्रतियोगी परीक्षा में अपनी किस्मत आजम रहे. उनके हौंसलो मे उड़ान भरने के लिए यह अच्छी खबर है.

Jaunpur: छेड़खानी से परेशान किशोरी ने फंदे से लटककर दी जान, सुसाइड नोट में लिखा- पापा मेरी मौत का बदला जरूर लेना

Jaunpur: छेड़खानी से परेशान किशोरी ने फंदे से लटककर दी जान, सुसाइड नोट में लिखा- पापा मेरी मौत का बदला जरूर लेना

Jaunpur Suicide Case: पेशे से मिठाई की दुकान चलाने वाले गरीब परिवार की लड़की की खुदकुशी के मामले में मीडिया में खबर चलते ही पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया. आनन-फानन में कार्रवाई शुरू करते हुए पुलिस जांच पड़ताल में जुट गई.

SHARE THIS:

जौनपुर. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के जौनपुर (Jaunpur) जिले के सुरेरी थाना क्षेत्र के कमरुद्दीनपुर गांव में छेड़खानी से परेशान एक किशोरी ने फांसी लगाकर आत्महत्या (Suicide) कर ली. अपने पांच लाइन की सुसाइड नोट में किशोरी ने आरोप लगाया है कि गांव के ही विशेष समुदाय के रुस्तम अली नामक युवक द्वारा छेड़खानी से परेशान होकर उसने यह कदम उठाया है. सुसाइड नोट में मृतका ने पिता से अपनी मौत का बदला लेने की बात भी लिखी है. पूरे मामले में केस दर्ज कर पुलिस (Police) आरोपियों की तलाश में जुट गई है.

पेशे से मिठाई की दुकान चलाने वाले गरीब परिवार की लड़की की खुदकुशी के मामले में मीडिया में खबर चलते ही पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया. आनन-फानन में कार्रवाई शुरू करते हुए पुलिस जांच पड़ताल में जुट गई. जानकारी के मुताबिक सुरेरी थाना क्षेत्र के कमरुद्दीनपुर गांव निवासी सुरेंद्र गुप्ता की  पुत्री ज्योति गुप्ता उम्र 15 वर्ष ने बुधवार को अपने ही घर में साड़ी के फंदा बनाकर पंखे से लटक कर आत्महत्या कर ली. जब काफी देर तक वह कमरे से बाहर नहीं आई तो उसकी मां किरन ने दरवाजा खोल कर देखा तो ज्योति पंखे में साड़ी के सहारे झूल रही थी. जिसे देखकर वह चिल्लाने लगी. शोरगुल सुनकर परिवार के लोग भी इकट्ठा हो गए. परिजनों को मौके से एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ, जिसमें लिखा था कि मेरी मौत का जिम्मेदार रुस्तम अली है. पिताजी आप रुस्तम से मेरे मौत का बदला जरुर लीजिएगा. रुस्तम ने मेरे साथ बहुत गलत किया है और मेरी मौत का जिम्मेदार भी वही है.

केस दर्ज कर पुलिस जांच में जुटी
जिसके बाद पीड़ित परिजनों ने घटना की सूचना स्थानीय पुलिस को दी. सूचना पर मौके पर पहुंची स्थानीय पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. वहीं मामला दो समुदायों से जुड़ा होने की वजह से क्षेत्राधिकारी मडियाहू समेत रामपुर पुलिस भी घटनास्थल पर पहुंची. एसपी देहात जौनपुर त्रिभुवन सिंह ने बताया कि मृतक किशोरी के पिता सुरेंद्र ने थाने पर लिखित तहरीर दी है. रुस्तम अली और उसके चाचा गोरखनाथ, दादा अली राजा के खिलाफ तहरीर मिली है. पुलिस तहरीर के आधार पर आवश्यक कार्यवाई में जुट गई हैं. इस संदर्भ में थानाध्यक्ष सुरेरी देवीवर शुक्ल ने  न्यूज़ 18 को फोन पर बताया कि शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है. तहरीर के आधार पर आवश्यक कार्रवाई भी की जाएगी.

(रिपोर्ट: मनोज सिंह पटेल)

जौनपुर: रक्षाबंधन की मिठाई खाने के बाद 3 मासूम बच्चों की मौत, इलाके में मचा हड़कंप

जौनपुर: रक्षाबंधन की मिठाई खाने के बाद 3 मासूम बच्चों की मौत, इलाके में मचा हड़कंप

Jaunpur News: जौनपुर में मुंगरा बादशाहपुर के तरहठी गांव के अजय कुमार ने बताया कि जहरीली मिठाई खाने से 3 लोगों की मौत हो चुकी है. दो लोगों की तबीयत खराब थी, जिन्हें सरकारी अस्पताल भेजा गया है.

SHARE THIS:

मनोज सिंह पटेल

जौनपुर. उत्तर प्रदेश के जौनपुर (Jaunpur) में 3 बच्चों की मौत (3 Children Died) की खबर मिलते ही इलाके में हड़कंप मच गया है. मामला मुंगरा बादशाहपुर के तरहठी गांव का है. यहां रहने वाले वकील वनवासी की बहन ऊषा बनवासी निवासी जंघई बाजार रक्षाबंधन के दिन अपने मायके आई थीं. वह साथ में भाई के लिए मिठाई भी लाई थीं. रक्षाबंधन के दूसरे दिन सोमवार की शाम और मंगलवार सुबह मिठाई खाने से बच्चों की तबियत बिगड़ने लगी. हालत बिगड़ने से अब तक 3 बच्चों की मौत हो चुकी है.

news18 से बात करते हुए गांव के ही अजय कुमार अधिवक्ता ने बताया कि जहरीली मिठाई खाने से 3 लोगों की मौत हो चुकी है. हालांकि दो लोगों की तबीयत खराब थी, जिन्हें एंबुलेंस की सहायता से मुंगरा बादशाहपुर के सरकारी अस्पताल भेजा गया, जिनकी हालत अब खतरे से बाहर है.

उन्होंने बताया कि मिठाई खाने से कुछ ही देर में सजनी (6) पुत्री राजू बनवासी, किशन (5) पुत्र चौधरी बनवासी निवासी गजाधरपुर जंघई और सुनील (5) पुत्र वकील निवासी तरहठी की हालत ज्यादा बिगड़ गई. सभी को आनन-फानन मुंगराबादशाहपुर सीएचसी में भर्ती कराया गया. रात तक एक-एक कर तीनों की मौत हो गई. घटना के बाद से घर में कोहराम मचा है.

उन्होंने बताया कि गांव की ही एक बुजुर्ग महिला और पड़ोसी युवक की हालत भी बिगड़ी थी लेकिन समय रहते चिकित्सकों ने दोनों लोगों को बचा लिया. उधर 3 बच्चों की मौत के बाद बनवासी परिवार में करुणानंदन की माहौल बन गया है. बच्चों की मौत की वजह जहरीली मिठाई से हुआ है या अन्य किसी फूड प्वाइजनिंग से फिलहाल यह जांच का विषय है. वहीं इस मामले में खाद्य विभाग के अधिकारियों से जब न्यूज़ 18 ने संपर्क किया तो फोन नहीं उठने से बात नहीं हो सकी.

Load More News

More from Other District

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज