लाइव टीवी

जौनपुरः अज्ञात बीमारी के चलते लाठी लेकर चलने को लाचार हुए मासूम

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 24, 2018, 10:41 AM IST

अज्ञात बीमारी के चलते मासूम बुजुर्गो जैसे दिखने लगे हैं. अनुसूचित जाति से ताल्लुक रखने वाले 28 सदस्यों वाले पीड़ित परिवार में कुल 8 सदस्य अज्ञात बीमारी से पीड़ित है. बूढ़ों जैसे दिखने वाले मासूमों की हालत यह है कि वो अपने पैरों की बजाय लाठियों का सहारे जिंदगी जीने को लाचार हैं.

  • Share this:
जौनपुर जिले में एक पूरा परिवार में किसी अज्ञात बीमारी से पिछले कई वर्षों से जूझ रहा है, लेकिन स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही से पीड़ित परिवार को प्राथमिक उपचार भी अभी तक मुहैया नहीं हो सका है. इस अज्ञात बीमारी के चलते मासूम बुजुर्गो जैसे दिखने लगे हैं. अनुसूचित जाति से ताल्लुक रखने वाले 28 सदस्यों वाले पीड़ित परिवार में कुल 8 सदस्य अज्ञात बीमारी से पीड़ित है. बूढ़ों जैसे दिखने वाले मासूमों की हालत यह है कि वो अपने पैरों की बजाय लाठियों का सहारे जिंदगी जीने को लाचार हैं.

यह भी पढ़ें-जौनपुर क्षेत्र में पशुओं में फैली अज्ञात बीमारी, कई पशुओं की मौत

जिला मुख्यालय से महज 65 किमी दूर मुंगरा बादशाहपुर थाना के फत्तूपुरकला गांव निवासी पीड़ित परिवार को अभी तक प्रशासन से किसी भी तरह की मदद नहीं मिल सकी है. इतना ही नहीं, पीड़ित परिवार को आयुष्मान भारत योजना के लाभ से भी वंचित हैं. मौके पर पहुंची न्यूज-18 टीम ने पाया कि अज्ञात बीमारी से पीड़ित दो परिवारों में कुल 28 लोग रहते है,  जिसमें से कुल 9 लोग ग्रसित हैं.

यह भी पढ़ें-जौनपुर: पूरे गांव का कराया धर्म परिवर्तन, 271 के खिलाफ मुकदमा दर्ज, पादरी फरार

रिपोर्ट के मुताबिक बीमारी से पीड़ित होने के चलते लोगों के हाथ, पैर और कमर टेड़ी-मेड़ी होती जा रही है और उनकी आर्थिक स्थिति ऐसी है कि कि इलाज के लिए उनके पास पैसे तक नहीं है. मेहनत मजदूरी करके गुजर-बसर कर रहे पीड़ित परिवार का हाल जाने के लिए अभी तक स्वास्थ्य महकमा कोई चिकित्सक वहां नहीं पहुंचा है.

न्यूज 18 टीम ने जौनपुर की दौरे पर पहुंची कैबिनेट मंत्री रीता बहुगुणा जोशी को जब अज्ञात बीमारी से पीड़ित परिवार के बारे में बताया तो वह भौचक रह गईं. उन्होंने तत्काल स्वास्थ्य विभाग और जिलाधिकारी को मामले की जांचकर कार्यवाही का आदेश दिया और जरूरत पड़ने पर गांव का दौरा करने की बात कही है.

यह भी पढ़ें-जौनपुर में भाई-बहन में हुुआ प्‍यार, फांसी लगा कर दे दी जान
Loading...

गौरतलब है जिले में अज्ञात बीमारी को दस्तक दिए कई साल हो चुके हैं, लेकिन अभी तक स्वास्थ्य विभाग और सरकारी मशीनरी की लापरवाही से पीड़ित परिवार को प्राथमिक इलाज भी मुहैया नहीं हो सका है. देखना अब यह है कि कैबिनेट मंत्री के आदेश के बाद पीड़ित परिवार को कितना राहत मिल पाती है.

(रिपोर्ट-मनोज सिंह पटेल, जौनपुर)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जौनपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 24, 2018, 10:32 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...